थानाध्यक्षों के नहीं लगाने होंगे चक्कर, पोर्टल तैयार

अब जनता की समस्याओं का होगा त्वरित निस्तारण : डीजीपी

थानाध्यक्षों के नहीं लगाने होंगे चक्कर, पोर्टल तैयार

  • यूपी पुलिस तकनीकि सेवाएं द्वारा तैयार किया गया लोक शिकायत समीक्षा पोर्टल
  • शिकायत दर्ज होने के 10  दिन के अंदर में करना होगा निस्तारण

लखनऊ। थानों में आने वाले फरियादियों का न्याय मिल सके और उनकी समस्याओं का त्वरित व समयबद्ध पर निस्तारण हो सके। इसके लिए पुलिस महकमा गंभीर हो चला है। इसलिए सीएम के निर्देश पर यूपी पुलिस द्वारा लोक शिकायत समीक्षा पोर्टल तैयार किया गया है। जिसे पूरे प्रदेश के सभी थानों में लागू किया जा रहा है। इसमें थानों में आने वाली शिकायतों को इस पोर्टल पर अपलोड किया जाएगा। जिसे पुलिस विभाग को कोई भी अधिकारी अपने कार्यालय में बैठकर देख सकता है। इस पोर्टल पर अपलोड की गई शिकातयों का दस दिन के अंदर निस्तारण करना अनिवार्य होगा। पोर्टल पर दर्ज की जाने वाली शिकायतों का समय से निस्तारण किया जा रहा कि नहीं इसकी मानीटरिंग पुलिस मुख्यालय स्तर से की जाएगी।

मुख्यमंत्री के निर्देश पर डीजीपी विजय कुमार द्वारा लोक शिकायत समीक्षा पोर्टल को अधिकारिक तौर पर प्रदेश भर में लागू किया गया। जिसकी मॉनीटरिंग लोक शिकायत अनुभाग पुलिस मुख्यालय द्वारा की जायेगी। जिसका मुख्य उद्देश्य है। कि मैन्युअली प्राप्त प्रार्थना पत्रों को डिजिटाइज्ड करना है। प्रत्येक प्रार्थना पत्र का समयबद्ध  कार्रवाई सुनिश्चित करना। गुणवत्ता एवं पारदर्शिता बढ़ाना। उच्चाधिकारी द्वारा प्रभावी अनुश्रवण  करने की सुविधा उपलब्ध कराना। शिकायतकर्ता का मोबाइल नम्बर, नाम अथवा शिकायत संख्या द्वारा आसानी से एक क्लिक पर उपलब्ध होगा। क्षेत्राधिकार के अन्तर्गत आने वाले थानों व जनपदों के प्रार्थना पत्रों की अद्यतन स्थित समेकित डैशबोर्ड पर उपलब्ध होगी।

जनता की समस्याओं के त्वरित एवं समयबद्ध निस्तारण के लिए पोर्टल के माध्यम से विभिन्न स्तर से निम्न कार्रवाई अपेक्षित है। थानों द्वारा समस्त माध्यमों से प्राप्त शत प्रतिशत प्रार्थना पत्रो की फीडिंग  जन शिकायत समीक्षा पोर्टल  पर किया जाये।  प्राप्त शिकायती प्रार्थना पत्रों का अधिकतम 10 दिवस के अन्दर समयबद्ध एवं गुणवत्तापूर्ण निस्तारण कराना।  शिकायती प्रार्थना पत्रो का राजपत्रित अधिकारी स्तर से नियमित पर्यवेक्षण किया जाये। जनपद के पुलिस प्रभारी द्वारा प्राप्त प्रार्थना पत्रो की पाक्षिक गहन समीक्षा की जाये। प्राप्त प्रार्थना पत्रों का जोन एवं रेंज स्तर पर मासिक समीक्षा की जाये। पुलिस मुख्यालय के शिकायत प्रकोष्ठ द्वारा पोर्टल के माध्यम से प्राप्त शिकायती प्रार्थना पत्रों का समय-समय पर नियमित समीक्षा की जायेगी।

अब पुलिस शिकायतकर्ताओं को नहीं कर पायेगी परेशान...!

अभी तक थानों में आने वाली शिकायतों के बारे में विभागीय अधिकारियों को जानकारी नहीं मिल पाती थी। जिसकी वजह से शिकायतों का समय पर निस्तारण नहीं हो पाता था और फरियादी शिकायत करने के बाद न्याय पाने के लिए थानों का चक्कर लगाते रहते थे। इन्हीं सब समस्याओं को देखते हुए यूपी पुलिस द्वारा लोक शिकायत समीक्षा पोर्टल तैयार किया गया है। जिसे डीजीपी के निर्देश पर प्रदेश भर में लागू भी कर दिया गया है। अब थानों में आने वाली सभी शिकायतों को लोक शिकायत समीक्षा पोर्टल पर फीड करना होगा। इसका पालन करने के लिए सभी जिले के पुलिस अधिकारियों का निर्देशित किया गया है। अब यह व्यवस्था लागू होने के बाद थानाध्यक्ष व पुलिस कर्मी शिकायतों के निस्तारण में किसी प्रकार की हीलाहवाली नहीं कर पाएंगे। चूंकि जैसे ही थाने में शिकायत अपलोड होगी वैसे ही मुख्यालय पर बैठे अधिकारियों को दिखाई देने लगेगी। उम्मीद की जा रही कि इस नई व्यवस्था से फरियादियों को राहत मिलेगी। 

 
 
Tags: lucknow

About The Author

Latest News