सीएमओ ने सारथी वाहन को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना।

सीएमओ ने सारथी वाहन को हरी झंडी दिखाकर किया रवाना।

फर्रुखाबाद । परिवार नियोजन के प्रति लोगों में जागरुकता लाने के उद्देश्य से मुख्य चिकित्सा अधिकारी कार्यालय से गुरुवार को सीएमओ डॉ अवनीन्द्र कुमार ने सारथी वाहन को हरी झंडी दिखाकर रवाना किया । सारथी वाहन नगरीय क्षेत्र में भ्रमण कर परिवार नियोजन के प्रति लोगों को जागरूक करेगा । छोटे परिवार के फायदे बताते हुए परिवार नियोजन के स्थाई व अस्थाई साधन अपनाने के लिए जनमानस को जागरूक किया जाएगा।सीएमओ ने बताया कि ऐसे पुरुष जिनके दो या उससे अधिक बच्चे हैं, उन्हें नसबंदी के लिए  प्रेरित किया जाएगा।  इन वाहनों के माध्यम से सभी एएनएम योग्य दंपति से संपर्क कर काउंसिलिंग करेंगे, जिनका परिवार पूरा हो गया है या जो दो बच्चों में अंतर रखना चाहते हैं।

लाभार्थियों को माला एन, छाया, कंडोम, अंतरा इंजेक्शन, पुरुष नसबंदी, महिला नसबंदी, कापर टी आदि के बारे में जानकारी दी जाएगी। अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ दलवीर सिंह ने बताया कि नगरीय क्षेत्र में दो सारथी वाहन  आज से 11 फरवरी  तक  चलेंगे। एसीएमओ ने बताया कि समाज में परिवार नियोजन के विषय में व्याप्त भ्रांतियों को दूर करने के लिए एवं लोगों को जागरूक करने के लिए सारथी वाहन द्वारा  मिशन परिवार विकास के अंतर्गत चलाये जाने वाले विभिन्न कार्यक्रमों के बारे में लोगों को जानकारी देने के लिए ऑडियो क्लिप एवं पम्पलेट का भी सहारा लिया जा रहा है ।जिला परिवार नियोजन सलाहकार विनोद कुमार इस मौके  डॉ यू सी वर्मा, एसीएमओ डॉ सर्वेश यादव,उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ दीपक कटारिया, विनोद कुमार  सहित अन्य लोग मौजूद रहे l




About The Author

Latest News

बड़े मंगलभंडारे से पूर्व कराना होगा नगर निगम में पंजीकरण बड़े मंगलभंडारे से पूर्व कराना होगा नगर निगम में पंजीकरण
लखनऊ। जेष्ठ माह में आगामी बड़े मंगल पर्व पर आयोजित होने वाले भण्डारो और आयोजनों को लेकर नगर निगम प्रशासन...
अस्पताल निदेशक ने उत्कृष्ट कार्य को किया सम्मानित
डीएम इन्द्र विक्रम सिंह की अध्यक्षता में जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक संपन्न
राम चमेली चड्ढा महाविद्यालय में एक दिवसीय पर्सनालिटी डेवलपमेंट कार्यक्रम संपन्न
विभिन्न श्रेणियों में प्रदान किए जाएंगे राष्ट्रीय एवं राज्य स्तरीय पुरस्कार
दिव्यांगजनो को शादी विवाह प्रोत्साहन पुरस्कार योजना में जरुरी नही विवाह पंजीकरण
भारतीय दूतावास ने कंबोडिया से कराया 360 भारतीयों का रेस्क्यू, भारत लौटा पहला जत्था