राजस्व क्षति करने वाला माफिया अतीक का रिश्तेदार गिरफ्तार

फर्जी शेल कम्पनियां बनाकर कूटरचित फर्जी ई-वे बिल के माध्यम से राजस्व को पहुंचा रहे थे क्षति

राजस्व क्षति करने वाला माफिया अतीक का रिश्तेदार गिरफ्तार

  • एसटीएफ को इनके बारे में काफी दिनों से मिल रही थी सूचना
लखनऊ । एसटीएफ यूपी को संगठित गिरोह द्वारा कूटरचित फर्जी शेल कम्पनियां बनाकर उनके कूटरचित फर्जी ई-वे बिल तैयार कर लगभग 100 करोड़ रुपए से अधिक के राजस्व की भारी क्षति करने वाले माफिया अतीक अहमद के रिश्तेदार कमर अहमद काजमी को मेरठ से गिरफ्तार करने में सफलता प्राप्त हुई। इनके कब्जे से एक मोबाइल फोन, एक मर्सडीज कार और 3150 रुपये नकद बरामद किया है।
 
पूछताछ पर गिरफ्तार अभियुक्त कमर अहमद काजमी उपरोक्त ने बताया कि मेरी फर्मपैरागॉन एल्यूमिनियम एलएलपी, साहिबाबाद, गाजियाबाद में है। जिसमें दलजीत सिंह पुत्र सरदार सत्यपाल सिंह आर ब्लाक, न्यू राजेन्द्र नगर दिल्ली और ऋषि आनंद पुत्र आरके आनंद निवासी कीर्ति नगर, दिल्ली पार्टनर हैं। मेरी और भी फर्म पैरागॉन इंडस्ट्री लिमिटेड रुड़की हरिद्वार, माइको ग्लास इंडस्ट्री गुड़गांव, गुडएक्स ग्लास मेरठ और होटल ब्राडवे इन है, जिनमें दलजीत सिंह पार्टनर है। पैरागॉन एल्यूमिनियम एलएलपी फर्म में एल्यूमिनियम स्क्रैप से एल्यूमिनियम सेक्शन का निर्माण किया जाता है। हम लोगों द्वारा अपने निजी लाभ के लिये वोगस फर्मों से सप्लाई अपनी फर्मों में दिखायी जाती है परन्तु वास्तविक रूप में सप्लाई न होकर केवल कूटरचित बिलों का आदान-प्रदान किया जाता है।
 
सप्लाई के कूटरचित ई-वे बिल बनाकर वाहनों का फर्जी परिवहन दिखाया जाता है। इन बिलों के माध्यम से बने राजस्व धनराशि का गबन कर लिया जाता है। विगत कई वर्षों से हम लोग संगठित रूप से इसी तरह से सैकड़ों करोड़ रुपए के राजस्व की हानि कर धनोपार्जन कर चुके है। इस सम्बन्ध में डीसी  रेन्ज-बी राज्य कर विभाग गाजियाबाद से पूर्व में सम्पर्क कर जानकारी की गयी ।
 
उनके द्वारा अपने विभागीय पोर्टल से आन लाइन दस्तावेज देते हुए बताया गया कि फर्म पैरागान एल्यूमिनियम एलएलपी द्वारा मात्र एक प्रतिशत ही कर जमा किया जा रहा है तथा इस फर्म द्वारा जिन फर्मों से सप्लाई दिखाई गयी है वह वास्तविक सप्लाई न होकर केवल कूटरचित बिलों का आदान-प्रदान है तथा जिन वाहनों के माध्यम से ई-वे बिल में परिवहन दिखाया गया है। उन वाहनों के परिवहन का कोई डाटा किसी टोल से नहीं मिल रहा है।पूछताछ के दौरान अभियुक्त द्वारा यह भी बताया कि वह माफिया अतीक अहमद के बहनोई डा. अखलाक का रिश्तेदार भी है, जो वर्तमान में जेल में निरूद्ध है।गिरफ्तार अभियुक्त को थाना सिविल लाइन्स, जनपद मेरठ में मुकदमा दर्ज किया जा रहा है।
Tags: lucknow

About The Author

Latest News