पुरानी पेंशन बहाली लागू होने पर मिलेगी संतुष्टि

पुरानी पेंशन बहाली लागू होने पर मिलेगी संतुष्टि

लखनऊ। पुरानी पेंशन बहाली का मामला तूल पकड़ने लगा है। मंगलवार को इंडियन पब्लिक सर्विस इंप्लाइज फेडरेशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष वीपी मिश्र ने बैठक वार्ता के दौरान कहा कि पुरानी पेंशन बहाली समिति के गठन के बारे में प्रधानमंत्री कार्यालय से मेरे मोबाइल पर फोन आया कि प्रधानमंत्री जानना चाहते हैं कि समिति के गठन से इप्सेफ संतुष्ट है कि नहीं।
 
जिस पर वीपी मिश्र ने प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि वे समिति के गठन पर संतुष्ट है लेकिन ओपीएस लागू होने पर ही पूरी संतुष्टि मिलेगी। उन्होंने प्रधानमंत्री को अवगत कराते को कहा कि पुरानी पेंशन बहाली ना होने से देश का करोड़ों कर्मचारी परिवार आक्रोशित है। उनका तर्क है कि अंग्रेजो के शासन से मिल रही सुविधा को समाप्त करने से सेवानिवृत्ति के बाद कर्मचारी परिवार की भुखमरी की स्थिति हो जाएगी।
 
पेंशन ही उनके जीवन यापन का साधन है। प्रधानमंत्री, विधायक, सांसद कई-कई पेंशन स्वयं ले रहे हैं तो फिर कर्मचारी की पेंशन समाप्त करने का औचित्य कैसे किया जा रहा है।उन्होंने अपने संदेश में प्रधानमंत्री को भेजा है की पुरानी पेंशन बहाली कर दें वरना आगामी लोकसभा चुनाव में करोड़ों कर्मचारी परिवार एनडीए को वोट ना करके अपना आक्रोश व्यक्त करेगा जिससे एनडीए को भारी क्षति होगी। साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री से आग्रह किया कि कर्मचारियों की पीड़ा पर ध्यान देकर कर्मचारियों की इस समस्या पर तत्काल समाधान निकाले।वार्ता में अतुल मिश्र राष्ट्रीय सचिव,पीएन सिंह अध्यक्ष, सुभाष पांडेय ,शशि कुमार मिश्रा मौजूद रहे।
Tags: lucknow

About The Author

Latest News

रिम्स में राज्य का पहला सर्जिकल स्किल और वेट लैब स्थापित रिम्स में राज्य का पहला सर्जिकल स्किल और वेट लैब स्थापित
रांची। रिम्स के क्षेत्रीय नेत्र संस्थान में राज्य का पहला सर्जिकल स्किल एवं वेट लैब स्थापित किया गया है। रिम्स...
मुख्यमंत्री चम्पाई सोरेन चार मार्च को जाएंगे गिरिडीह
मतदान के प्रति जागरूक करना हमारी नैतिक जिम्मेवारी: निदेशक
सीआईडी ने दो साइबर अपराधी को किया गिरफ्तार
जबलपुर इंजीनियरिंग कालेज को "टेक्नोलॉजी हब" बनाने की दिशा में हो क्रियान्वयन: मंत्री परमार
मंत्री कृष्णा गौर ने की गुफा मंदिर में महाशिवरात्रि आयोजन की तैयारियों की समीक्षा
अपने लोगों पर गर्व करने की परंपरा करनी होगी विकसित: उच्च शिक्षा मंत्री परमार