डीआरएम ने संविधान के प्रति दृढ़ संकल्पित रहने की शपथ दिलाई

 डीआरएम ने संविधान के प्रति दृढ़ संकल्पित रहने की शपथ दिलाई

रायपुर। संविधान सभा ने 26 नवम्बर, 1949 को भारतीय संविधान को स्वीकृत किया था, जिसे 26 जनवरी, 1950 में लागू किया गया। वर्तमान इसी संविधान की बदौलत आज भारत पूरे विश्व में सबसे बडे़ लोकतंत्र के रूप में जाना जाता है। 26 नवम्बर को कार्यालय अवकाश होने के कारण 24 नवम्बर को मंडल रेल प्रबंधक कार्यालय रायपुर में मंडल रेल प्रबंधक संजीव कुमार ने अधिकारियों व कर्मचारियों को “संविधान दिवस” पर संविधान के प्रति दृढ़ संकल्पित रहने की शपथ दिलाई।

हम भारत के लोग भारत को एक संपूर्ण प्रभुत्व-संपन्न, समाजवादी, पंथनिरपेक्ष, लोकतंत्रात्मक, गणराज्य बनाने के लिए तथा उसके समस्त नागरिकों को सामाजिक, आर्थिक और राजनैतिक न्याय, विचार, अभिव्यक्ति, विश्वास, धर्म और उपासना की स्वतंत्रता प्रतिष्ठा और अवसर की समता प्राप्त कराने के लिए तथा उन सब में व्यक्ति की गरिमा और राष्ट्र की एकता और अखंडता सुनिश्चित करने वाली बंधुता बढाने के लिए दृढसंकल्प होकर अपनी इस संविधान सभा में इस संविधान को अंगीकृत, अधिनियमित और आत्मार्पित करते है।

तीसरा जनजातीय गौरव दिवस (धरती अंबा भगवान बिरसा मुंडा) जयंती (15 नवम्बर) को थी, जनजातीय गौरव दिवस को रायपुर मंडल में 24 नवंबर को मनाया गया। भगवान बिरसा मुंडा के चित्र पर पुष्प एवं माल्यार्पण किया गया। इस अवसर पर रायपुर मंडल के अपर मंडल रेल प्रबंधक (इन्फ्रा) आशीष मिश्रा एवं अपर मंडल रेल प्रबंधक (परि.) आरके साहू एवं समस्त विभाग के अधिकारी एवं कर्मचारी उपस्थित थे।

Tags:

About The Author

Latest News

Kushinagar : नफरत में चली गोली, एक युवक की हालत गंभीर Kushinagar : नफरत में चली गोली, एक युवक की हालत गंभीर
कुशीनगर। जनपद में शुक्रवार को कसया थाना क्षेत्र के ग्राम नादह गांव में आपसी रंजिश में चली गोली, एक युवक...
बैंक डकैती : कैशियर को गोली मारकर बैंक लूट का प्रयास,दोनों आरोपी गिरफ्तार
डिस्पोजेबल कप पर लगाने होंगे नाम वाले स्टीकर्स, ताकि कचरा कौन फैला रहा है पकड़ में आ सके!
जल जीवन मिशन की प्रगति के लिए एकजुट होकर करें कार्य - चौधरी
पर्यटन की दृष्टि से विकसित होगा उदयपुर का बाघदड़ा नेचर पार्क
कोडरमा में ढिबरा स्क्रैप मजदूर संघ का धरना 12वें दिन खत्म
25 हजार के कर्ज पर सूद में जुड़ गया पांच लाख, व्यापारी ने लगाई फांसी