सिविल अस्पताल में मरीज से धन उगाही के आरोपों की जांच शुरू

शिकायत पर भड़के डिप्टी सीएम,जांच के दिए आदेश

सिविल अस्पताल में मरीज से धन उगाही के आरोपों की जांच शुरू

लखनऊ। राजधानी के गंज स्थित में डॉक्टर द्वारा मरीज से ऑपरेशन के नाम पर धन उगाही के लगे आरोप पर डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक भड़क गए और जांच बैठा दी। बुधवार को उन्होंने अस्पताल के निदेशक को घटना की जांच के निर्देश दिए हैं। जांच में दोषी मिलने पर डॉक्टर के खिलाफ कठोर कार्रवाई करने का आदेश दिया है।मामला पारा निवासी महिला की बच्चेदानी में गांठ के चलते परिजनों ने सिविल अस्पताल भर्ती कराया था। जहां सर्जरी विभाग के डॉक्टरों ने देखा और जांच कराई। जिसमें जांच में बच्चेदानी में गांठ होने की पुष्टि हुई। वहीं डॉक्टर ने ऑपरेशन की सलाह दी। परिजन ऑपरेशन के लिए तैयार हो गए और मरीज को भर्ती करा दिया।बता।दें की जहां सरकार द्वारा ऑपरेशन के लिए तय 400 रुपये फीस जमा की। जिसकी रसीद उन्हें मिली।
 
वहीं परिजनों का आरोप है कि डॉक्टर ने ऑपरेशन के एवज में 5000 रुपये अतिरिक्त मांगे। परिजनों ने इतने पैसे देने में असमर्थता जाहिर की। इस पर महिला का ऑपरेशन टाल दिया गया। दुखी परिजनों ने किसी तरह पैसे जुटाये। पैसे डॉक्टर को दिए। उसके अगले दिन डॉक्टर ने महिला का ऑपरेशन कर दिया।पीड़ित परिजनों ने मामले की शिकायत अस्पताल प्रशासन से की।
 
डिप्टी सीएम ब्रजेश पाठक मामले को गंभीर बताते हुए जांच के आदेश दिए हैं। उन्होंने कहा कि सरकार की छवि को धूमिल करने वाले डॉक्टर व कर्मचारियों को किसी भी दशा में बख्शा नहीं जायेगा। कठोर कार्रवाई की जाएगी। उन्होंने अस्पताल के निदेशक को जल्द से जल्द जांच पूरी करने के आदेश दिए हैं।
 
इसके अलावा डिप्टी सीएम ने औरैया में 50 बेड जिला संयुक्त चिकित्सालय में तैनात मुख्य चिकित्सा अधीक्षक डॉ. राजेश मोहन गुप्ता पर गंभीर आरोप के चलते तबादला किया गया। जिसमें डॉ. गुप्ता द्वारा अपने कर्तव्यों का ठीक से पालन न करना,अस्पताल के ब्लड बैंक को सुचारू रूप से संचालन दिलचस्पी न होना शामिल रहा।साथ ही चिकित्सकीय कार्यों में शिथिलता बरतना,बिना सूचना के मुख्यालय से अनुपस्थित रहने जैसे गम्भीर आरोप हैं। डिप्टी सीएम ने डॉ. गुप्ता को दूसरे जनपद में स्थानान्तरित करने के निर्देश दिए हैं। साथ ही विभागीय कार्रवाई के भी निर्देश प्रमुख सचिव, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य को दिये गये हैं।
 
ऑपरेशन के लिए डॉक्टर द्वारा मरीज से पैसे मांगने के आरोपों की जांच टीम गठित कर दी गई है।तथ्य मिलते ही कार्रवाई सुनिश्चित की जायेगी।
 
 डॉ.राजेश श्रीवास्तव
मुख्य चिकित्सा अधीक्षक
डॉ.श्यामा प्रसाद मुखर्जी सिविल अस्पताल लखनऊ
Tags: lucknow

About The Author

Latest News