पाला एवं शीतलहर से फसलों का बचाव करें

झाँसी। जिला कृषि रक्षा अधिकारी के के सिंह ने बताया है कि फसलों में फूल आने एवं बालिया / फलिया आने व उनके विकसित होते समय पाला पडने की सर्वाधिक सम्भावनाएँ रहती है। पाले के प्रभाव से पौधों की पत्तियां व फूल झुलसे दिखाई देते है जो बाद में झड़ जाते है। या अघ पके फल सिकुड़ जाते हैं। फलियों एवं बालियों में दाने नहीं बनते या दाने कम भार के पतले हो जाते है। अतः इस समय कृषकों को सतर्क रहकर फसलों की सुरक्षा के उपाय अपनाने चाहिए।
उन्होंने बताया है कि साधारणतः पाला गिरने का अनुमान इनके वातावरण से लगाया जा सकता है। सर्दी के दिनों में जिस रोज दोपहर से पहले ठण्डी हवा चलती रहे एवं दोपहर के बाद अचानक हवा चलना बन्द हो जाये तथा आसमान साफ रहे या उस दिन आधी रात से ही हवा रूक जाये तो पाला पडने की सम्भावना अधिक रहती है रात को विशेषकर तीसरे व चौथे पहर में पाला पडने की सम्भावना अधिक रहती है।
 
 
 
 
Tags: Jhansi

About The Author

Latest News

सीडीओ की अध्यक्षता में विकास कार्याे की समीक्षा बैठक हुई आयोजित। सीडीओ की अध्यक्षता में विकास कार्याे की समीक्षा बैठक हुई आयोजित।
संत कबीर नगर , जून 2024 (सू0वि0)। जिलाधिकारी महेन्द्र सिंह तंवर के निर्देश के क्रम में मुख्य विकास अधिकारी संत...
21 जून 2024 को जनपद में दशम् अन्तर्राष्ट्रीय योग दिवस का होगा भव्य आयोजन
शहवाजपुर के युवाओं ने किया शरबत वितरण
महापुरूषों की प्रतिमाओं, पार्को के लिये बजट निर्धारण की मांग, सौंपा ज्ञापन
आईआईटी में चयन होने पर स्नेहिल को एडी बेसिक, बीएसए ने किया सम्मानित
निःशुक्ल विद्युतचालित चाक मशीन के लिए करे आवेदन - पी.एन.सिंह
मुख्यमंत्री ग्रामोद्योग रोजगार योजना का लाभ लेने के लिए करे आवेदन - पी.एन.सिंह