कालापन और टैनिंग हटाने का असरदार उपाय

हफ्ते में 2 दिन लगा लें टमाटर से बना ये फेसफैक

कालापन और टैनिंग हटाने का असरदार उपाय

अक्सर मौसम के कारण त्वचा काली पड़ जाती है। हाथ, पैर, गर्दन और चेहरे पर टैनिंग साफ नजर आती है। टैनिग होने पर आप टमाटर का इस्तेमाल जरूर करें। त्वचा पर टमाटर लगाने से स्किन से जुड़ी कई परेशानियां दूर हो जाती हैं। टैनिंग होने पर टमाटर काफी असरदार काम करता है। टमाटर फेस पर नेचुरल ब्लीच का काम करता है। डेली स्किन केयर रुटीन में टमाटर जरूर शामिल करें। इससे रिंकल्स, दाग-धब्बों और पिंपल्स जैसी समस्याएं भी दूर हो जाएगी। टमाटर में एंटीऑक्सीडेंट्स, एंटी-इंफ्लेमेटरी, एंटी-फंगल तत्व पाए जाते हैं जो त्वचा की समस्याओं को दूर करते हैं। आज हम आपको टमाटर से बनने वाले फेसपैक बता रहे हैं जो टैनिंग को दूर कर आपको एकदम गोरा बना देंगे।

टमाटर और शहद- टैनिंग को हटाने के लिए आप टमाटर और शहद का इस्तेमाल कर सकते हैं। इससे दाग-धब्बों और कालेपन की समस्या दूर हो जाएगी। इस पैक के बनाने के लिए टमाटर के पल्प में शहद को मिलाकर फेस पर अप्लाई करें। 15-20 मिनट तक ऐसे ही रखें और फिर नॉर्मल पानी से चेहरा धो लें। इससे टैनिंग रिलीज हो जाएगी। सूजन और ड्राईनेस भी कम हो जाएगी। आप इसे हफ्ते में कम से कम 2 बार जरूर लगाएं।

टमाटर और एलोवेरा- टमाटर में ब्लीचिंग गुणों होते हैं जो टैनिंग को कम करने का गुण रखते हैं। गर्मी के मौसम की तरह ही सर्दियों में भी टैनिंग की परेशानी होती है। ऐसे में टैनिंग हटाने के लिए आप टमाटर और एलोवेरा से बना फेसपैक लगाएं। चेहरे पर मौजूद जिद्दीदाग भी इसके दूर हो सकते हैं। इस पैक को लगाने से स्किन सॉफ्ट और सुंदर बनेगी।

टमाटर और एवोकाडो- सर्दियों में स्किन काफी ड्राई हो जाती है। ऐसे में त्वचा पर दाग-धब्बे भी दिखने लगते हैं। रूखी और बेजान त्वचा की समस्या को दूर करने के लिए टमाटर और एवोकाडो कमाल का काम करता है। इससे ड्राईनेस दूर हो जाती है। एवोकाडो में स्किन को हाइड्रेट करने वाले गुण पाए जाते हैं। इस फेसपैक को लगाने से स्किन हाइड्रेट रहती है और झुर्रियां कम हो जाती हैं। टमाटर और एवोकाडो के गूदे को मिलाकर चेहरे पर लगा लें। 10 मिनट में धो लें।

Tags: face pac

About The Author

Tarunmitra Picture

‘तरुणमित्र’ श्रम ही आधार, सिर्फ खबरों से सरोकार। के तर्ज पर प्रकाशित होने वाला ऐसा समचाार पत्र है जो वर्ष 1978 में पूर्वी उत्तर प्रदेश के जौनपुर जैसे सुविधाविहीन शहर से स्व0 समूह सम्पादक कैलाशनाथ के श्रम के बदौलत प्रकाशित होकर आज पांच प्रदेश (उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और उत्तराखण्ड) तक अपनी पहुंच बना चुका है। 

Latest News