बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर की इंजेक्शन लगाने की नई तरकीब

बुंदेलखंड मेडिकल कॉलेज के डॉक्टर की इंजेक्शन लगाने की नई तरकीब

सागर। आपने ऐसी कितनी तस्वीरें और नजारे किसी डाॅक्टर की क्लीनिक में देखे होगें,जिसमें लोग डाॅक्टर से इंजेक्शन लगवाते समय दर्द के मारे चिल्लाते हैं. दुनिया का कितना भी बहादुर आदमी क्यों ना हो, उसे सुई का डर जरूर लगता है. ये मेडिकल साइंस में एक बीमारी कहलाती है जिसे ट्रिपेनोफोबिया (Trypanophobia) का नाम दिया है. इस बीमारी से किसी भी इंसान को सुई लगवाने से डर लगता है. इस डर को खत्म करने के लिए बुंदेलखंड मेडिकल काॅलेज के एनेस्थीसिया डिपार्टमेंट के विभागाध्यक्ष ने मेडिकल साइंस की एक थ्योरी के आधार पर कुछ तकनीकों को मिलाकर एक नया तरीका तैयार किया है. इस नई तकनीक में सुई लगवाने वाले मरीज को दर्द का पता ही नहीं चलता है और लोग आसानी से इंजेक्शन लगवा लेते हैं.

क्या है ट्रिपैनोफोबिया (Trypanophobia)
ट्रिपैनोफोबिया एक ग्रीक भाषा का शब्द है जिसका अर्थ होता है किसी भी सुई की तरह नुकीली वस्तु से डर लगना है. ट्रिपैनोफोबिया कई लोगों में सामान्य होता है कि डाॅक्टर या नर्स के सुई लगाने के वक्त दर्द के कारण कराहते या कोई सामान्य प्रतिक्रिया करते हैं. लेकिन कई लोगों को चक्कर आना, मतली, बेहोशी,ब्लड प्रेशर में बढ़ोत्तरी और हृदय गति बढ़ जाने जैसे लक्षण सामने आते हैं. चिकित्सा के क्षेत्र में नुकसान ये होता है कि टीकाकरण और इंजेक्शन के जरिए दी जाने वाली दवाओं से लोग डरते हैं और इलाज पर असर पडता है. कई अध्ययनों में सामने आया है कि दो तिहाई से ज्यादा बच्चे और एक चौथाई व्यस्क इसका शिकार होते हैं.

गेट कंट्रोल थ्योरी ने दिखाया रास्ता
बुंदेलखंड मेडिकल काॅलेज में एनेस्थीसिया डिपार्टमेंट के हैड डॉक्टर सर्वेश जैन कहते हैं कि खासकर ट्रिपैनोफोबिया को खत्म करने के लिए मैं कई दिनों से काम कर रहा था. इंजेक्शन लगाने का कोई ऐसा तरीका हो, जिसमें लोगों को डर ना लगे, क्योकिं जिनको ज्यादा सुई का डर लगता है,उनका किसी भी बीमारी का इलाज काफी कठिन हो जाता है.

डॉक्टर सर्वेश जैन कहते हैं कि "इसके लिए मैनें गेट कंट्रोल थ्योरी को आधार बनाया. ये थ्योरी 1965 में बिट्रिश वैज्ञानिक मेल्जैक और वाॅल ने पेश की थी. इनका कहना था कि मस्तिष्क तक किसी भी तरह के एहसास पहुंचने का एक ही रास्ता होता है. ये एहसास तीन तरह के होते हैं जिनमें दर्द,कंपन और तापमान होता है. किसी भी तरह के स्पर्श या दबाव की अनुभूति रीढ़ की हड्डी के माध्यम से न्यूराॅन्स के जरिए मस्तिष्क तक पहुंचती है. एक ही समय में मस्तिष्क तक सिर्फ दो एहसास पहुंच सकते हैं. अगर एक समय में कंपन और तापमान को मस्तिष्क में भेजा जाए, तो दर्द को मस्तिष्क तक पहुंचने का रास्ता नहीं मिल पाता है और दर्द का एहसास नहीं होता है."

थ्योरी के आधार पर बनाई तकनीक
डाॅ सर्वेश जैन का कहना है कि "इसके लिए मैनें सबसे पहले बाइब्रेशन वाला पेन तलाश किया, जिसके टिप के जरिए शरीर में कंपन कराया जा सकता है. इसके साथ मैनें इथाइल क्लोराइड स्प्रे तैयार करवाया. इथाइल क्लोराइड का उपयोग पहले एनेस्थीसिया की दवा के तौर पर किया जाता था. मैनें सुई लगाने के पहले बाइब्रेशन पेन के जरिए कंपन कराया, इसी समय इथाइल क्लोराइड का स्प्रे भी किया और इसी दौरान इंजेक्शन लगा दिया. इन दोनों का एक साथ उपयोग करने से रीढ़ की हड्डी के जरिए मस्तिष्क सिर्फ कंपन और तापमान का संदेश पहुंच पाया और दर्द के एहसास को मस्तिष्क तक पहुंचने जगह ही नहीं मिलती है,तो मरीज को सुई लगने पर भी दर्द नहीं होता है."

 

Tags:

About The Author

Tarunmitra Picture

‘तरुणमित्र’ श्रम ही आधार, सिर्फ खबरों से सरोकार। के तर्ज पर प्रकाशित होने वाला ऐसा समचाार पत्र है जो वर्ष 1978 में पूर्वी उत्तर प्रदेश के जौनपुर जैसे सुविधाविहीन शहर से स्व0 समूह सम्पादक कैलाशनाथ के श्रम के बदौलत प्रकाशित होकर आज पांच प्रदेश (उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और उत्तराखण्ड) तक अपनी पहुंच बना चुका है। 

Latest News

डीएम की अध्यक्षता व निर्देशन में जनपद की तीनों तहसीलों में सम्पूर्ण समाधान दिवस सम्पन्न डीएम की अध्यक्षता व निर्देशन में जनपद की तीनों तहसीलों में सम्पूर्ण समाधान दिवस सम्पन्न
गाजियाबाद। ( तरूणमित्र ) 22 जुलाई। डीएम इन्द्र विक्रम सिंह के निर्देशन में जनपद की तीनों तहसील में प्रत्येक माह...
एटम बम से खतरनाक साइबर अटैक : प्रकाश सिंह
द हंस फाउंडेशन ने नगर पालिका बालिका इंटर कॉलेज चन्द्रपुरी में हंस वेलनेस सेंटर का उद्घाटन किया
कांवड मार्ग पर दुकानों पर नाम लिखने के फैसले पर सुप्रीम कोर्ट ने लगाई रोक : इंद्रजीत सिंह टीटू
जाम से निजात हेतु एसडीएम ने सीओ को भेजा पत्र
निस्तारण में लापरवाही क्षम्य नही : अपर जिलाधिकारी
बकाया मूल्यांकन पारिश्रमिक का भुगतान एक सप्ताह में कर दिया जाएगा-डीआईओएस