महापुरुषों को सदैव याद किया जाना चाहिए :--शीतला प्रसाद त्रिपाठी 

महापुरुषों को सदैव याद किया जाना चाहिए :--शीतला प्रसाद त्रिपाठी 

ब्रजेश त्रिपाठी

प्रतापगढ़। प्रतापगढ़ झलिहन का पुरवा खटवारा में एक सामाजिक कार्यक्रम में तिलक कॉलेज के पूर्व प्रधानाचार्य वरिष्ठ पत्रकार पंडित शीतला प्रसाद त्रिपाठी से धर्माचार्य ओमप्रकाश पांडे अनिरुद्ध रामानुज दास ने भेंट कर वार्तालाप के दौरान जनपद के उन महापुरूषों पर चर्चा किया जिन्हें हम भूलते जा रहे हैं। इनमें धर्म सम्राट स्वामी करपात्री जी परम श्री वैष्णव विद्वान स्वामी सार्वभौम माध्वाचार्य पंडित मुनीश्वर दत्त उपाध्याय राजा बजरंग बहादुर सिंह राजा दिनेश सिंह राजा अजीत प्रताप सिंह पंडित रामराज शुक्ला सूर्य बली पांडे एडवोकेट स्वतंत्रता संग्राम सेनानी एवं लोकतंत्र रक्षक सेनानी पंडित राम लखन पाठक चंद्रदत्त सेनानी कुंवर तेजभान सिंह राजाराम किसान प्रोफेसर वासुदेव सिंह नियाज हसन खां कविवर उन्मत्त जी जुमई खां आजाद जैसे महापुरुषों ने प्रतापगढ़ का गौरव बढ़ाने का कार्य किया।

पत्रकारों में रवींद्र सनातन राम निरंजन भगवन राम सूरत तिवारी मयन बहादुर सिंह राजेंद्र सिंह सुरेश नारायण तिवारी सत्यनारायण सिंह ओमप्रकाश श्रीवास्तव क़लम के सिपाही थे, जो कभी किसी के सामने झुके नहीं, नई पीढ़ी इन लोगों को भूलती जा रही है। ऐसे अनेक महापुरुष है जिन्हें समय-समय पर याद किया जाना चाहिए। धर्माचार्य ओमप्रकाश पांडे अनिरुद्ध रामानुज दास ने श्री त्रिपाठी जी एवं सीताराम तिवारी पूर्व पार्षद मुंबई को रामानुज पञ्चाङ्गम भेंट किया। इस अवसर पर शिव शंकर तिवारी लल्लन प्रसाद तिवारी हरिशंकर पांडे पत्रकार बाबूलाल शुक्ल पूर्व सैनिक आदि अनेक संभ्रांत गण उपस्थित रहे।

About The Author

Latest News

 मुठभेड़ में सेना के एक अधिकारी समेत पांच जवान घायल   मुठभेड़ में सेना के एक अधिकारी समेत पांच जवान घायल 
जम्मू: डोडा जिले के एक जंगली क्षेत्र में सोमवार रात आतंकवादियों और सुरक्षा बलों के बीच मुठभेड़ हो गई। इस...
करणी सेना ने अपने जिला अध्यक्ष युवा शक्ति का धूमधाम से बनाया जन्मदिन
मुंबई एक्सप्रेस हाईवे के पास बस-ट्रैक्टर की टक्कर, पांच की मौत
सेना और आतंकवादियों के बीच मुठभेड़, एक अधिकारी समेत चार जवान शहीद
उड़ान के 90 मिनट बाद एनाउंसमेंट-माफ कीजिए कुछ दिक्कत आ रही है, यात्रियों में हड़कंप
 खराब लाइफस्टाइल से ओवेरियन सिंड्रोम की समस्या
बिहार में 18 नहीं 17 जुलाई को छुट्टी