वैश्विक मीडिया ने उत्तराखंड में सुरंग में 17 दिन फंसे श्रमिकों बचाव अभियान को जमकर सराहा

वैश्विक मीडिया ने उत्तराखंड में सुरंग में 17 दिन फंसे श्रमिकों बचाव अभियान को जमकर सराहा

लंदन। उत्तराखंड की सिलक्यारा सुरंग में 17 दिन तक फंसे 41 श्रमिकों का सकुशल निकालने के अभियान की वैश्विक मीडिया ने जमकर सराहना की और इस बचाव अभियान का सीधा प्रसारण भी अपने देशों में किया बीबीसी ने बचाव अभियान पर नियमित रूप से अपडेट उपलब्ध कराते हुए खबर दी, “सुरंग के बाहर, पहले व्यक्ति को सुरंग से निकालने की खबर मिलते ही जश्न मनाया जाने लगा।” बीबीसी की वेबसाइट पर एक फोटो अपलोड की गई जिसमें उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर धामी और केंद्रीय मंत्री वीके सिंह सुरंग से निकाले गए पहले श्रमिक से मिलते हुए दिखाई दे रहे हैं।

सीएनएन ने खबर दी है, जिसमें घटनास्थल के वीडियो फुटेज में उत्तराखंड राज्य के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी को उन श्रमिकों से मिलते हुए दिखाया गया है जिन्हें खुशी के माहौल के बीच सुरंग से निकाला गया था। सीएनएन ने कहा कि श्रमिकों को बचाने के अभियान में कई रुकावटें भी आई जब मलबे में खुदाई के लिए इस्तेमाल की जा रही भारी मशीनें खराब हो गईं और उसके बाद मलबे में आंशिक रूप से हाथों से खुदाई करनी पड़ी और अन्य जोखिमपूर्ण तरीकों का इस्तेमाल करना पड़ा।

कतर स्थित समाचार चैनल अल-जज़ीरा ने खबर दी है कि करीब 30 किमी दूर स्थित अस्पताल में श्रमिकों को ले जाने के लिए सुरंग के पास एम्बुलेंस को तैनात रखा गया था। उसने कहा कि मजदूरों को पाइपों से बने मार्ग से बाहर निकाला जा रहा है, जिन्हें बचाव दल ने मलबे में डाला था। ब्रिटिश दैनिक ‘द गार्जियन’ ने खबर दी कि सिल्कयारा-बारकोट सुरंग के प्रवेश द्वार से स्ट्रेचर से निकाले गए श्रमिकों का नाटकीय दृश्य 400 घंटे से अधिक समय के बाद आया और इस दौरान बचाव अभियान में कई अड़चनें आईं जिससे विलंब हुआ। अखबार ने अपनी विस्तृत रिपोर्ट में कहा, “ मानव श्रम ने मशीनरी पर विजय प्राप्त की क्योंकि विशेषज्ञ लोगों तक पहुंचने के लिए मलबे के अंतिम 12 मीटर की खुदाई हाथ से (मैन्युअल) करने में कामयाब रहे।” लंदन के ‘द टेलीग्राफ ने’ ने अपनी प्रमुख खबर में कहा कि सैन्य इंजीनियर और खनिकों ने एक श्रमसाध्य निकास मिशन को पूरा करने के लिए मलबे में ‘रेट होल’ ड्रिलिंग की । ज्ञात रहे कि उत्तराखंड में 12 नवंबर की सुबह सुरंग का एक हिस्सा ढह गया, जिससे 41 श्रमिक उसके अंदर फंस गए थे।

Tags:

About The Author

Latest News

ऐप के रूप में डाउनलोड कर सकेंगे विक्रमादित्य वैदिक घड़ी ऐप के रूप में डाउनलोड कर सकेंगे विक्रमादित्य वैदिक घड़ी
उज्जैन। उज्जैन में जीवाजी वैधशाला परिसर में नवस्थापित विक्रमादित्य वैदिक घड़ी को देखने बड़ी संख्या में लोग पहुंच रहे है।...
अबू धाबी में कृषि और मत्स्य पालन पर सहमति के बिना डब्ल्यूटीओ वार्ता समाप्त
उज्जैन: ऐप के रूप में डाउनलोड कर सकेंगे विक्रमादित्य वैदिक घड़ी
राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा आज मुरैना जिले से करेगी मप्र में प्रवेश
झारखंड विधानसभा में सत्ता पक्ष और विपक्ष के विधायकों का हंगामा
जिला अस्पताल परिसर में सरकारी दवाएं कूड़े के ढेर पर पड़ी मिली
बागेश्वर धाम में 108 कुंडीय अति विष्णु महायज्ञ शुरू