बालू कारोबारी देवराज हत्याकांड में इस्तेमाल सफ़ेद स्कॉर्पियो की पुलिस ने की पहचान, मालिक भी था घटना में शामिल

बिक्रम से सिकरिया के रास्ते कोइलवर पहुंचे अपराधी , भोजपुर में लिया शरण

अभिषेक बिहटा से पहले एक व्यक्ति से मिलकर किया बातचीत, घटना को दिया अंजाम

IMG_0300  
 
विशुनपुर बालू घाट रैयती में अभिषेक व नेपाली भी पार्टनर है ? 
 
रवीश कुमार मणि 
 
पटना ( अ सं ) । बालू कारोबारी देवराज की हत्या में पटना पुलिस ने अभी तक तीन अपराधियों को गिरफ़्तार कर जेल भेज चुकी है । घटना को अंजाम देने के बाद जिस सफ़ेद स्कॉर्पियो से अपराधी भागे थे पुलिस ने उसे पहचान लिया है । घटना में स्कॉर्पियो मालिक भी शामिल था । पीड़ित परिवार का आज भी यही मानना है की बड़ी साज़िश के तहत घटना को अंजाम दिया गया है ।कोई न कोई बालू कारोबारी इसमें ज़रूर है ।जो पर्दे के पीछे रहा है । जबतक पुलिस उसे सामने नहीं लाती है हम संतुष्ट नहीं है । वहीं वरीय पुलिस अधिकारियों की मानें तो वैज्ञानिक अनुसंधान के आधार पर आगे की जांच जारी है । 
        बीते वर्ष 5 नवंबर 2023 की रात पटना ज़िले के रानीतालाब थाना के थोड़ी दूरी पर फ़िल्मी स्टाइल में अपराधियों ने बालू कारोबारी देवराज की हत्या कर पुलिस को खुलेआम चुनौती दिया था वहीं हत्या के पीछे की साज़िश और मास्टरमाइंड अभी भी दूर है । वहीं पुलिस ने घटना में शामिल नामजद अभियुक्त सरपंच को चंद घंटे में ही पुलिस ने गिरफ़्तार कर लिया । शूटर के नाम पर पटना पुलिस ने भोजपुर पुलिस के सहयोग से अभिषेक नामक अपराधी को पुलिस गिरफ़्तार कर जेल भेज चुकी है । दोनों के खिलाफ कोर्ट में चार्जशीट दाखिल कर दिया है । 
      घटना में शामिल पुलिस के समक्ष दिये गये नीरज नेपाली के बयान पर गौर करें तो घटना को अंजाम देने में 5 शामिल थे । इसमें भोजपुर के लोदीपुर के अभिषेक कुमार, चिलहौस के शिवम सिंह , रेपुरा के श्रीराम कुमार एवं कहेन के प्रशांत कुमार । घटना में शामिल सफ़ेद स्कॉर्पियो कहेन के प्रशांत कुमार का था और घटना को अंजाम देने से लेकर भागने तक स्कॉर्पियो प्रशांत कुमार ही चला रहा था । 
      पुलिस के समक्ष नीरज के दिये गये बयान की मानें तो घटना को अंजाम देने के पूर्व  बिहटा से थोड़ा पहले रूके थे । वही  अभिषेक गाड़ी से उतरकर एक व्यक्ति से मिला और बातचीत करने के बाद घटना को अंजाम देने के लिए रानीतालाब थाना के समीप गोलंबर पर रूक गये । थाना से निकलकर देवराज एक और व्यक्ति के साथ आ रहा था जैसे ही स्कॉर्पियो पार किया अभिषेक ने देवराज को गोली मार दिया, फिर हम सभी ने भी देवराज को गोली मारा । इसके बाद स्कॉर्पियो से बिक्रम की ओर आएं और सिकरिया के रास्ते कोइलवर पहुंच गये । मैं वहां से ट्रक पकड़कर अपना गांव लोदीपुर आ गया और वह चारों भोजपुर की ओर चले गये । 
          घटना को अंजाम देने के लिए हथियार अभिषेक लाया था और घटना को अंजाम देने के बाद हथियार वापस लेकर चला गया । वहीं एक बार और बात जो सामने आयी है है की अभिषेक ने नीरज नेपाली को बोला की अच्छी कमाई हो जायेगी , तुमको भी विशुनपुर बालू घाट में रैयती में पार्टनर रख लेंगे । सोशल मीडिया के माध्यम से पुलिस के पास एक बालू घाट की पूजा में अभिषेक कुछ लड़कों के साथ था । क्या वह बालू घाट , विशुनपुर बालू घाट ही था । वहीं पीड़ित परिवार का आज भी मानना है की पर्दे के पीछे कोई और मास्टरमाइंड है , जिसने साज़िश के तहत योजनाबद्ध तरीक़े से हत्या को अंजाम दिलाया है । 
Tags:

About The Author

Related Posts

Latest News