खंडवा में अवैध गैस सिलेंडर गोदाम में लगी भीषण आग, गैस टंकियों में हुए ब्लास्ट दहला पूरा क्षेत्र

सात लोग झुलसे, बुलडोजर चलाकर गोदाम को किया गया ध्वस्त

खंडवा में अवैध गैस सिलेंडर गोदाम में लगी भीषण आग, गैस टंकियों में हुए ब्लास्ट दहला पूरा क्षेत्र

खंडवा। मध्य प्रदेश के खंडवा जिले में बुधवार रात घासपुर वार्ड क्रमांक 14 के पास रहवासी इलाके में संचालित गैस के अवैध गोदाम में अचानक आग लग गई। यहां एक के बाद एक करीब 26 से ज्यादा गैस सिलेंडरों में विस्फोट हुआ, जिससे पूरा क्षेत्र दहल उठा। सूचना मिलने के बाद फायर ब्रिगेड और पुलिस-प्रशासन का अमला मौके पर पहुंचा और 20 से ज्यादा फायर ब्रिगेड की मदद से देर रात आग पर काबू पा लिया गया है। अवैध गोदाम पर प्रशासन ने बुलडोजर चला दिया है। आग की इस घटना में सात लोग झुलस गए हैं, जिनमें से दो को गंभीर हालत में इंदौर रैफर किया गया है। जानकारी के अनुसार, शहर के घासपुरा क्षेत्र में उर्दू स्कूल के पास स्थित राजेश उर्फ राजा पवार मराठा के मकान में करीब 100 से अधिक टंकियां जमा कर रखी गई थी। बुधवार रात करीब साढ़े आठ बजे यहां आग लगने से अफरा-तफरी मच गई। यह घटना एक गैस सिलेंडर के फटने से हुई। इसके बाद वहां मौजूद सिलेंडरों में ब्लास्ट होने शुरू हो गए और एक के बाद एक करीब 26 सिलेंडरों में धमाके हुए। धमाके की आवाज से आसपास के इलाके में दहशत फैल गई और लोग घरों से बाहर आ गए। सूचना मिलने पर पुलिस और दमकल की गाड़ियां मौके पर पहुंच गई और राहत एवं बचाव कार्य शुरू किया।

मकान में गैस की टंकियां का अवैध रूप से भंडारण होने से आग बेकाबू हो गई थी। स्थानीय लोगों के साथ नगर निगम और पुलिस की टीम ने करीब तीन घंटे की कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। आग से गैस की टंकियां में लगातार विस्फोट होने से आसपास के मकान में भी आग की चपेट में आने की संभावना को देखते हुए क्षेत्र को खाली करवा लिया गया था। आग बुझाने के लिए जिले के अन्य नगर परिषद से भी दमकल वाहन बुला लिए गए थे। करीब 20 दमकलों की मदद से आग पर काबू पाया। इसके बाद जिला प्रशासन और नगर निगम के अमले ने बुलडोजर चलाकर अवैध गोदाम को जमींदोज कर दिया। इस हादसे में मकान में रहने वाले दो लोग गंभीर रूप से घायल हो गए, जिन्हें प्राथमिक उपचार के बाद इंदौर रैफर किया गया है। इसके अलावा आसपास के पांच अन्य लोग भी झुलस गए हैं, जिन्हें जिला अस्पताल में भर्ती करवाया गया है बताया जा रहा है कि यहां एक आटा चक्की संचालित होती थी, जिसकी आड़ में गैस का अवैध गोदाम बना रखा था। यह मकान गैस वेंडर का बताया जा रहा है, जो गैस टंकियां के सप्लाई का काम करता था और लगभग अपने घर में 100 से अधिक सिलेंडरों की इसके पास स्टॉक रहता था। लोगों ने कई बार तो इस मकान की शिकायत की थी, लेकिन कोई ध्यान नहीं दिया। बुधवार रात अचानक गैस सिलेंडर में आग लग गई, जिसकी वजह से यह हादसा हो गया।

 

 

Tags:

About The Author

Latest News