अखिल भारतीय बहुभाषीय ब्राह्मण महासंघ ने सांस्कृतिक विद्यापीठ आश्रम में मनाया मालवीय एवं अटल बिहारी वाजपेई की जयंती 

अखिल भारतीय बहुभाषीय ब्राह्मण महासंघ ने सांस्कृतिक विद्यापीठ आश्रम में मनाया मालवीय एवं अटल बिहारी वाजपेई की जयंती 

भारत रत्न पंडित मदन मोहन मालवीय एवं भारत रत्न पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई की जयंती अखिल भारतीय बहुभाषीय ब्राह्मण महासंघ द्वारा सांस्कृतिक विद्यापीठ,राजाबाजार ,पटना में दोनो महापुरुषों की जयंती मनाई गई। सर्वप्रथम स्वस्तिवाचन एवं दीप प्रज्ज्वलित कर दोनों महापुरुषों की तस्वीर पर पुष्पांजलि अर्पित कर कार्यक्रम का विधिवत शुभारंभ किया गया। कार्यक्रम की अध्यक्षता संगठन के प्रदेश अध्यक्ष पंडित राजेंद्र तिवारी एवं मंच संचालन अधिवक्ता रामानुज तिवारी ने किया कार्यक्रम के मुख्य अतिथि संगठन के राष्ट्रीय महासचिव चार्टर्ड अकाउंटेंट राजनाथ मिश्रा, पटना उच्च न्यायालय के वरिष्ठ अधिवक्ता पंडित जी पांडे, एलिट इंस्टीट्यूशन के डायरेक्टर अमरदीप झा गौतम आदि मौके पर मौजूद है |
 
अध्यक्षता कर रहे प्रदेश अध्यक्ष पंडित राजेंद्र तिवारी ने कहा कि महामना मदनमोहन मालवीय जी भारतीय संस्कृति के पुरोधा थे।कांग्रेस के चार बार अध्यक्ष बने । बड़े ही सरल स्वभाव के दृदनिश्चयी , हिंदुत्ववादी , सनातनी व्यक्ति थे। गांधी जी ने उनको तथा गोपाल कृष्ण गोखले को अपना गुरु माना था। उन्हें महामना भी गांधी जी ने ही सर्व प्रथम कहा था और इस रूप में प्रचारित किया।तथा उनको अपना बड़ा भाई मानते थे। मालवीय जी एक चतुर्वेदी ब्राह्मण थे मालव क्षेत्र के मूल निवासी होने के कारण मालवीय टाइटल लगा रखा था।उन्होंने कांग्रेसी संस्कृति में रहकर भी आलोचनाओं के बावजूद काशी हिंदू विश्वविद्यालय की स्थापना की। वही पूर्व प्रधानमंत्री अटल बिहारी वाजपेई को लेकर कहा कि अटल जी जैसे व्यक्ति इस देश में विरले ही पैदा लेते हैं वह अच्छे राजनीतिज्ञ के साथ एक कवि,लेखक ,एवं पत्रकारिता जगत में भी अमिट छाप छोड़ने का काम किया हैं।
 
राष्ट्रीय महासचिव आर .एन मिश्रा ने कहा कि मालवीय जी एवं अटल बिहारी वाजपेयी हम सभी के बीच में भले ही न हो लेकिन उनके विचार आज हम सभी के बीच जीवंत है उनकी ख्याति दुनिया भर में फैली
हुई आज की पीढ़ी को उनसे सीखनो को काफ़ी कुछ पड़ा है ।उनके जीवनी को अनुसरण करने की आवश्यकता हैं यह लोग इस राष्ट्र की सेवा में खुद को समर्पित कर दिया संगठन द्वारा हर वर्ष उनकी जयंती बड़े ही धूम -धाम से मनायी जाती है । यह दोनों इस देश के विभूति है इन जैसे बन पाना शायद ही संभव हो ।
 
इस अवसर पर विभिन्न वक्ताओं ने अपने विचार रख इन दोनों महापुरुषों की
अपनी श्रद्धा -सुमन अर्पित कर उन्हें याद किया। मौक़े पर संगठन के वरीय उपाध्यक्ष कमल किशोर त्रिपाठी ,प्रदेश कार्यकारी अध्यक्ष प्रभाकर चौबे ,प्रदेश महासचिव अमरेन्द्र त्रिपाठी,युवा प्रदेश अध्यक्ष रजनीश तिवारी, संतोष तिवारी ,पुष्पा त्रिपाठी ,बिमल त्रिपाठी ,अनिल तिवारी ,गोरखनाथ ओझा भूप नारायण पाठक समेत सैकड़ो लोग मौजूद थे।
 
 
 
Tags:

About The Author

Latest News