जेएन-1 सब-वैरिएंट से किन लोगों को खतरा? 

जेएन-1 सब-वैरिएंट से किन लोगों को खतरा? 

नई दिल्ली। शनिवार, 23 दिसंबर के आंकड़ों की बात करें तो देश में कोरोना संक्रमण के दैनिक मामलों ने करीब आठ महीनों की रिकॉर्ड तोड़ दिया है। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के मुताबिक, देश में शुक्रवार को एक दिन में 752 मामले दर्ज किए गए हैं, जो 21 मई के बाद सबसे अधिक है। इसके साथ देश में कोरोना के सक्रिय मामले 3,000 का आंकड़ा पार कर 3,420 हो गए हैं। पिछले 24 घंटों में चार लोगों की मौत, दो केरल से और एक-एक राजस्थान और कर्नाटक में हुई है।

कोविड-19 के बढ़ते मामलों में के लिए दुनियाभर में तेजी से बढ़ रहे JN.1 वैरिएंट को प्रमुख कारण माना जा रहा है। अब तक हुए अध्ययनों में कोरोना के इस वैरिएंट को ओमिक्रॉन के पिछले वैरिएंट्स से मिलता-जुलता ही बताया गया है, पर कुछ बातें हैं जो JN.1 वैरिएंट की प्रकृति को खतरनाक बनाती हैं। आइए जानते हैं।

क्या कहते हैं स्वास्थ्य संगठन
सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल एंड प्रिवेंशन सहित दुनिया के तमाम स्वास्थ्य संगठनों का कहना है कि कोरोनावायरस अपने आपको जीवित रखने के लिए लगातार म्यूटेट हो रहा है। JN.1 उसी की एक रूप है। संक्रमण की वर्तमान शीतकालीन लहर ने अचानक से चिंता जरूर बढ़ा दी है पर ज्यादातर रोगियों में इस वैरिएंट के कारण हल्के लक्षण ही देखे जा रहे हैं, बड़ी संख्या में लोग घर पर रहकर ठीक भी हो रहे हैं।

 

Tags:

About The Author

Latest News

एसीबी के अनुसंधान में एक दशक से अधूरी है पलामू के नक्सल प्रभावित इलाकों की 17 सड़कें एसीबी के अनुसंधान में एक दशक से अधूरी है पलामू के नक्सल प्रभावित इलाकों की 17 सड़कें
पलामू। एंटी करप्शन ब्यूरो की जांच के कारण पिछले एक दशक से पलामू के नक्सल प्रभावित इलाकों की 17 सड़कें...
छत्तीसगढ़ बोर्ड परीक्षा : द्वितीय अवसर के लिए आवेदन शुरू, अंतिम तिथि 30 तक
आईपीसी में कई बदलाव, गैंगरेप पर लगेगा धारा-70(1)
हाले एटीपी सेमीफाइनल में पहुंचकर झांग झिझेन ने रचा इतिहास
दिवंगत महान फुटबॉलर पेले की मां सेलेस्टे अरांतेस का 101 वर्ष की आयु में निधन
टी20 विश्व कप: होप के तूफानी अर्धशतक की बदौलत वेस्टइंडीज ने अमेरिका को 9 विकेट से हराया
साइकिलिंग स्पर्धा के माध्यम से प्रशंसक पेरिस की प्राकृतिक सुंदरता का अनुभव कर सकेंगे: यूसीआई अध्यक्ष