आशा बहुओं की करतूत खा रहीं सरकार का, गा रहीं निजी अस्पताल का

कमीशन की लालच में आकर प्राइवेट अस्पताल में गर्भवती महिलाओं को ले जा रही आशाएं

आशा बहुओं की करतूत खा रहीं सरकार का, गा रहीं निजी अस्पताल का

आशा बहुओं की करतूत खा रहीं सरकार का, गा रहीं निजी अस्पताल का

IMG_20231202_185113हरदोई बिलग्राम में ग्रामीण क्षेत्र की गरीब महिलाओं को चिकित्सकीय सुविधा में सहूलियत मिल सके। इसके लिए आशा कार्यकर्ता को तैनात किया गया है। यह आशाएं सरकारी वेतन पर प्राइवेट अस्पतालों का गुणगान कर रही हैं। सरकारी योजनाओं का लाभ मरीजों तक न पहुंच सके इसके लिए आशा बहुएं अपने तरीके से काम कर रही है। ज्यादातर महिलाओं का प्रसव नगर के निजी अस्प्तालों में कराया जा रहा है। इससे गरीब परिवारों को चिकित्सकीय सुविधाओं के लिए मोटी रकम खर्च करनी पड़ती है।सरकारी स्वास्थ्य सेवा की जानकारी देना, प्राथमिक सेवा उपलब्ध करवाना, जटिल केस को स्वास्थ्य केंद्र तक पहुंचने में मदद करना, स्वास्थ्य योजना के प्रति जागरूक करना, ग्रामीण जनता को स्वच्छ पेयजल और शौचालय उपयोग की जानकारी देने के लिए आशा संगिनी व आशा कार्यकर्ता को तैनात किया गया है। इसके बावजूद लोगों का कहना है कि आशाएं अपने कार्यों से इतर होकर कमीशन खोरी की ओर बढ़ रही हैं। इसके लिए वह गर्भवती महिलाओं को प्रसव के लिए सीएचसी पर ले जाती हैं। जिसके बाद प्रसव में दिक्कतें होने एवं कुछ कमियां बता कर गरीब महिलाओं को बेहतर सुविधा देने की बात में फंसा कर बिलग्राम नगर में खुले प्राइवेट अस्पतालों में ले जाती हैं। जहां प्रसव के लिए दस से 15 हजार व आपरेशन होने पर 20 से 40 हजार रुपये चुकाना पड़ता। गरीबों को प्राइवेट अस्पतालों में प्रसव अथवा इलाज महंगा पड़ता है। इसके लिए गरीब आभूषण, खेत इत्यादि गिरवी रख कर अस्पताल का बिल चुकता करते हैं। गरीब प्रसूताओं का सुरक्षित प्रसव सरकारी अस्पतालों में हो सके। इसकी जिम्मेदारी आशा कार्यकर्ता पर होती है। लेकिन ज्यादा कमीशन के लालच में आशा बहुएं प्राइवेट अस्पतालों में प्रसूताओं की डिलीवरी करा रही हैं। प्रसूताओं को संसाधनों की कमी के चलते बड़े सरकारी अस्पतालों में रेफर कर दिया जाता है। इस दौरान आशा बहुएं उनको सरकारी अस्पतालों में ले जाने के बजाय अधिक कमीशन के चक्कर में प्राइवेट अस्पताल में भर्ती करा देती हैं। जहां हर जांच में 30 से 40 फीसद कमीशन मिलता है लेकिन यह बिल चुकाना गरीबों के लिए दुश्वारियों भरा रहता है।इस संबंध में जब बिलग्राम सीएचसी अधीक्षक राजेंद्र कुमार से जानकारी ली गई तो उन्होंने बताया कि ऐसी आशाएं अगर प्राइवेट हॉस्पिटल में पाई गई तो उनके खिलाफ कठोर कार्रवाई की जाएगी।अधीक्षक ने कहा कि सीएचसी में गर्भवती महिलाओं के लिए सीजर ऑपरेशन की सुविधाएं उपलब्ध हैं।
Tags:

About The Author

Related Posts

Latest News