कतर ने भारत के 8 पूर्व नौसैनिकों को रिहा किया

7 अफसर वतन लौटे, जासूसी के आरोप में थे बंद

कतर ने भारत के 8 पूर्व नौसैनिकों को रिहा किया

नई दिल्ली: कतर ने 8 भारतीय पूर्व नौसैनिकों को रिहा कर दिया है। जिसमें से 7 भारत लौटे हैं। इन सभी सिपाहियों पर जासूसों के आरोप में जेल में सजा काटी जा रही थी। पहले  मौत की सज़ा दी गई थी जिसके बाद में कैद में बदल दिया गया था। भारतीय विदेश मंत्रालय ने सोमवार (12 फरवरी) देर रात को बताया कि भारत सरकार कतर में गद्दार ग्लोबल कंपनी के लिए काम करने वाले 8 भारतीयों का स्वागत करती है। हम अपने घर वापसी के लिए कतर के जज का पता लगाते हैं। फैक्सा नौसैनिक को घर ले जाने की व्यवस्था की जा रही है।

मौत की सज़ा कैद में हुई थी मौत
बता दें कि इन 8 पूर्व नौसैनिकों को कतर की एजेंसी के स्टेट ब्यूरो ने 30 अगस्त 2022 को गिरफ्तार किया था। ये सभी दस्तावेज़ कतर की नौसेना को ट्रेनिंग देने वाली एक निजी कंपनी दहरा ग्लोबल टेक्नोलॉजीज एंड कंसल्टेंसी में काम करते थे। धरा ग्लोबल डिफेंस सर्विस प्रोवाइड करती है। इन 8 नौसैनिकों के साथ धरा ग्लोबल टेक्नोलॉजीज एंड कंसल्टेंसी के प्रमुख इंजीनियर खमीस अल आजमी को भी गिरफ्तार किया गया था लेकिन नवंबर 2022 में उन्हें छोड़ दिया गया। 26 अक्टूबर 2023 को सभी पूर्व नेवी सेनानियों को मौत की सज़ा सुनाई गई। जिसके बाद 28 दिसंबर 2023 को युसुके को मृत्युदंड की सजा में बदल दिया गया।

इजराइल पर जासूसी करने का आरोप
इसके विपरीत हो सकता है कि इन एरोलोज पर लगाए गए सहयोगियों को कभी भी सार्वजनिक नहीं किया गया, लेकिन विश्व के अलग-अलग मीडिया सहयोगियों ने उन बंधकों के बारे में लिखा, जिनके कारण भारत के पूर्व नौसैनिकों को गिरफ्तार किया गया था। नवोत्थान टाइम्स के अनुसार, इन पर इजराइल के लिए जासूसी करने का आरोप था। वहीं, अल-जजीरा की एक रिपोर्ट के मुताबिक, इन 8 पूर्व नेवी अप्सरों पर कतर के सबमरीन प्रोजेक्ट से जुड़ी अहम जानकारी इजराइल को देने का आरोप था। 30 अक्टूबर को नौसैनिकों के परिजनों ने विदेश मंत्री एस जयशंकर से मुलाकात की और उनसे वतन वापस आने का आग्रह किया। इसके बाद मंत्रालय ने कतर को मंजूरी देने के लिए तुर्कियों की मदद ली क्योंकि कतर के शाही परिवार से तुर्कियों के बहुत ही अच्छे संबंध हैं। भारत ने इस मामले में अमेरिका से भी कहा, जिसके बाद कतर ने 8 भारतीयों की रिहाई के लिए बात की।

रिकी किये गये 8 शिष्यों के नाम
कैप्टन नवतेज सिंह गिल
कमांडर पूर्णेंदु तिवारी
कमांडर सुगुणाकर पकाला
कमांडर संजीव गुप्ता
कमांडर अमित नागपाल
कैप्टन बोराबात
कैप्टन बीरेंद्र कुमार वर्मा
नाविक रागेश

Tags: Navi

About The Author

Tarunmitra Picture

‘तरुणमित्र’ श्रम ही आधार, सिर्फ खबरों से सरोकार। के तर्ज पर प्रकाशित होने वाला ऐसा समचाार पत्र है जो वर्ष 1978 में पूर्वी उत्तर प्रदेश के जौनपुर जैसे सुविधाविहीन शहर से स्व0 समूह सम्पादक कैलाशनाथ के श्रम के बदौलत प्रकाशित होकर आज पांच प्रदेश (उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और उत्तराखण्ड) तक अपनी पहुंच बना चुका है। 

Latest News

संकल्प यात्रा नए कीर्तिमान कर रही स्थापित संकल्प यात्रा नए कीर्तिमान कर रही स्थापित
अजय तिवारी,नम्रता पाठक,ऋतु सुहास,अभिषेक खरे रहे मौजूद लखनऊ। राजधानी में महानगर वार्डो में विकसित भारत संकल्प यात्रा अभियान चलाया गया।...
’’मगहर-खलीलाबाद महायोजना-2035’’/विनियमित क्षेत्र की बैठक हुई आयोजित
6.50 लाख टीबी मरीजों का नोटिफिकेशन करने का लिया लक्ष्य
योगी जी बहुत ही डायनमिक मुख्यमंत्री : सीतारमण*:
अग्निशमन उपकरणों के सम्बन्ध में प्रशिक्षण देकर छात्र / छात्राओं को किया गया जागरूक
रिश्वत लेते रंगे हाँथ पकड़ा गया माल थाने का दरोगा 
संवैधानिक अधिकार के पोस्टर/ बैनर को समस्त थानों पर स्थित महिला हेल्प डेस्क पर सूचनार्थ चस्पा किया गया