जेसीटीएसएल के पूर्व टाइमकीपर को चार साल की सजा

जेसीटीएसएल के पूर्व टाइमकीपर को चार साल की सजा

जयपुर। एसीबी मामलों की विशेष अदालत ने जेसीटीएसएल के विद्याधर नगर डिपो में आठ साल पहले भ्रष्टाचार से जुडे मामले में तत्कालीन टाइमकीपर लल्लू लाल को चार साल की सजा सुनाई है। इसके साथ ही अदालत ने सत्तर वर्षीय इस अभियुक्त पर दस हजार रुपए का जुर्माना भी लगाया है। एसीबी की ओर से सहायक निदेशक अभियोजन मंजुला जैन ने बताया कि तत्कालीन परिचालक महेश कुमार ने 21 अक्टूबर, 2016 को एसीबी में शिकायत दर्ज करवाई थी। जिसमें कहा गया की विद्याधर नगर डिपो में रोडवेज से रिटायर संविदाकर्मी टाइमकीपर लल्लू लाल ड्यूटी निर्धारित करने के लिए प्रतिमाह 500 रुपए जबरन डरा-धमकाकर लेता हैं। यदि उसे रिश्वत ना दे तो वह छुट्टी को भी गैर हाजिरी में बदल देता है। इसके अलावा गैर हाजिरी को ड्यूटी रेस्ट में बदलने के लिए भी रिश्वत मांगता है। वहीं छुट्टी देने सहित अन्य कामों के भी पैसे लेता है। जब उसे रिश्वत नहीं दी जाती तो वह मुख्य प्रबंधक से नोटिस दिलाता है। हालांकि मुख्य प्रबंधक सीधा रिश्वत नहीं मांगता है, लेकिन लल्लू लाल की उगाही कर राशि मुख्य प्रबंधक को देता हैं। रिपोर्ट पर कार्रवाई करते हुए एसीबी ने 24 अक्टूबर को लल्लू लाल को 800 रुपए लेते रंगे हाथों गिरफ्तार किया। वहीं अभियुक्त की ओर से कहा गया की प्रकरण में उसे फंसाया गया है। उसके पास ऐसा कोई काम नहीं था, जिसके बदले वह रिश्वत मांगता है। विभागीय कर्मचारी ने उसे द्वेषता के चलते जबरन मामले में फंसाया है। दोनों पक्षों की बहस सुनने के बाद अदालत ने अभियुक्त को चार साल की सजा सुनाई है।


Tags:

About The Author

Latest News

डीएम इन्द्र विक्रम सिंह की अध्यक्षता में जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक संपन्न डीएम इन्द्र विक्रम सिंह की अध्यक्षता में जिला सड़क सुरक्षा समिति की बैठक संपन्न
गाजियाबाद। ( तरूणमित्र ) डीएम ने सख्त रूख अपनाते हुए कहा सड़क दुर्घटनाओं को रोकने के लिए किए गए उपायों...
राम चमेली चड्ढा महाविद्यालय में एक दिवसीय पर्सनालिटी डेवलपमेंट कार्यक्रम संपन्न
विभिन्न श्रेणियों में प्रदान किए जाएंगे राष्ट्रीय एवं राज्य स्तरीय पुरस्कार
दिव्यांगजनो को शादी विवाह प्रोत्साहन पुरस्कार योजना में जरुरी नही विवाह पंजीकरण
भारतीय दूतावास ने कंबोडिया से कराया 360 भारतीयों का रेस्क्यू, भारत लौटा पहला जत्था
चारधाम यात्रा के दौरान अब तक 52 तीर्थयात्रियों की मौत
आजम खान परिवार को हाईकोर्ट से मिली राहत- सात साल की सजा पर लगी रोक