फाइलेरियारोधी दवा पूरी तरह सुरक्षित : सीएमओ

जनपद में 10 से 28 फरवरी तक चलेगा आईडीए अभियान 

फाइलेरियारोधी दवा पूरी तरह सुरक्षित : सीएमओ

बरेली। राष्ट्रीय फाइलेरिया उन्मूलन कार्यक्रम के तहत 10 से 28 फरवरी तक सर्वजन दवा सेवन (आईडीए) अभियान चलेगा जिसके तहत लोगों को फाइलेरियारोधी दवा आइवरमेक्टिन, डाईइथाइल कार्बामजीन और एल्बेन्डाजोल खिलाई जाएगी। सीएमओ डॉ विश्राम सिंह ने बताया कि अभियान जनपद के सभी 15 ब्लॉक और शहरी क्षेत्र में चलाया जा रहा है। फाइलेरियारोधी दवा आशा और आंगनबाड़ी कार्यकर्ता, समस्त नर्सिंग के छात्र सहित अन्य स्वास्थ्यकर्मी घर-घर जाकर  खिलाएंगे। यह दवा दो वर्ष से कम आयु के बच्चों, गर्भवती और अति गंभीर बीमारी से पीड़ित को छोड़कर सभी को खानी है। जब भी स्वास्थ्य कर्मी दवा खिलाने आयें तो  दवाई का सेवन उनके सामने अवश्य करें। दवा खाने में कोई आनाकानी न करे।
 
यह मत समझें कि आपको  फाइलेरिया नहीं है तो दवा नहीं खाएंगे। फाइलेरिया ऐसी बीमारी है जिसके लक्षण पाँच से 15 साल बाद दिखाई देते हैं। फाइलेरिया का परजीवी शरीर में रहता है और जाने अनजाने लोग इस बीमारी से संक्रमित होते रहते हैं।इसलिए फाइलेरिया रोधी दवा जरूर खाएं। दवा पूरी तरह से सुरक्षित है और विश्व स्वास्थ्य संगठन द्वारा प्रमाणित भी है। बस इस बात का ध्यान रखें कि खाली पेट दवा का सेवन न करें।आईडीए अभियान के नोडल अधिकारी और अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डा. प्रशांत रंजन ने बताया कि फाइलेरिया को आम भाषा में हाथी पांव भी कहा जाता है। यह क्यूलेक्स मच्छर के काटने से होता है। यह ऐसी बीमारी है जिसका कोई इलाज नहीं है बल्कि केवल प्रबंधन है। यह व्यक्ति को आजीवन दिव्यांग बना देती है। इस बीमारी से बचने का एक प्रमुख विकल्प साल में एक बार फाइलेरियारोधी दवाओं का सेवन करना है।
 
 
Tags: Bareilly

About The Author

Latest News