फिर पलटे नीतीश, नौवीं बार बने मुख्यमंत्री

8 विधायक ने ली मंत्री पद की शपथ, सम्राट चौधरी और विजय सिन्हा बने डिप्टी सीएम

फिर पलटे नीतीश, नौवीं बार बने मुख्यमंत्री

पटना: नीतीश कुमार ने बिहार के मुख्यमंत्री की कुर्सी एक बार फिर से संभाल ली है. रविवार को बिहार के गवर्नर राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर ने नीतीश कुमार को सीएम के पद की शपथ दिलाई. इसके साथ ही नीतीश कुमार ने नौवीं बार बिहार के मुख्यमंत्री बनने का गौरव हासिल किया है. सीएम की कुर्सी संभालने से पहले रविवार को नीतीश कुमार ने महागठबंधन से अपना नाता तोड़ दिया और नाता तोड़ते हुए राजभवन जाकर इस्तीफा दिया था. इसके बाद पहले उन्हें जदयू विधायक और फिर एनडीए के विधायक दल का नेता चुन लिया गया.

नीतीश कुमार समेत 9 लोगों को राज्यपाल ने पद और गोपनीयता की शपथ दिलाई. नीतीश कुमार के अलावा डिप्टी सीएम की कुर्सी भाजपा कोटे से जिन दो चेहरों को मिली है उनमें सम्राट चौधरी और विजय सिन्हा शामिल हैं. नीतीश कुमार के बाद सम्राट चौधरी ने शपथ ली. इसके अलावा मंत्री के तौर पर विजय चौधरी, श्रवण कुमार, डॉक्टर प्रेम कुमार, संतोष कुमार सुमन, विजेंद्र यादव, सुमीत सिंह ने शपथ ली. इस शपथ ग्रहण समारोह में एनडीए के घटक दल के सभी नेता मौजूद हैं जिनमें बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा, लोजपा (रामविलास) के राष्ट्रीय अध्यक्ष चिराग पासवान, पशुपति पारस, उपेंद्र कुशवाहा, जीतन राम मांझी शामिल हैं.

नीतीश कुमार के सियासी करियर की अगर बत करें तो लगभग 24 साल के इस राजनीतिक काल खंड में नीतीश कुमार ने अब तक आठ बार बिहार के सीएम की कुर्सी संभाली थी. 28 जनवरी को नीतीश कुमार ने जब बिहार के सीएम की शपथ ली तो यह नौंवीं बार हुआ जब नीतीश कुमार बिहार के सीएम बने. नीतीश कुमार बिहार का सीएम बनने से पहले अटल बिहारी वाजपेयी के नेतृत्व वाली केंद्र सरकार में भी मंत्री थे.

नीतीश कुमार पहली बार 2000 में सात दिन के लिए मुख्यमंत्री बने थे. दूसरी बार नीतीश कुमार 24 नवंबर, 2005 को सीएम बने. तीसरी बार नीतीश कुमार 26 नवंबर, 2010 को बिहार की सत्ता में आये. चौथी बार नीतीश कुमार 22 फरवरी, 2015 को बिहार के सीएम बने. इसके बाद पांचवी बार 20 नवंबर, 2015 को नीतीश कुमार की ताजपोशी हुई. छठी बार नीतीश कुमार 27 जुलाई, 2017 को बिहार के सीएम बने. सातवीं बार नीतीश कुमार की बतौर सीएम 16 नवंबर, 2020 को ताजपोशी हुई,

About The Author

Tarunmitra Picture

‘तरुणमित्र’ श्रम ही आधार, सिर्फ खबरों से सरोकार। के तर्ज पर प्रकाशित होने वाला ऐसा समचाार पत्र है जो वर्ष 1978 में पूर्वी उत्तर प्रदेश के जौनपुर जैसे सुविधाविहीन शहर से स्व0 समूह सम्पादक कैलाशनाथ के श्रम के बदौलत प्रकाशित होकर आज पांच प्रदेश (उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और उत्तराखण्ड) तक अपनी पहुंच बना चुका है। 

Latest News