विधानसभा में समितियों का गठन रुचि और अनुभव के आधार पर हो: विधानसभा अध्यक्ष देवनानी

विधानसभा में समितियों का गठन रुचि और अनुभव के आधार पर हो: विधानसभा अध्यक्ष देवनानी

जयपुर/मुम्बई। मुंबई के महाराष्ट्र विधानभवन में चल रहे 84वें पीठासीन अधिकारी सम्मेलन के पहले दिन आयोजित सत्र में राजस्थान विधानसभा अध्यक्ष वासुदेव देवनानी सम्मिलित हुए और उन्होंने इस सम्मेलन को संबोधित किया। सम्मेलन में लोकसभा अध्यक्ष ओम बिड़ला, राज्यसभा उपसभापति हरिवंश, महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री एकनाथ शिंदे भी उपस्थिति रहे। सम्मेलन को संबोधित करते हुए देवनानी ने कहा कि सदन की घटती बैठकों के कारण सदन में सभी विषयों पर विस्तृत चर्चा नहीं हो पाती है। अतः संविधान की भावना के अनुसार कार्यपालिका के विधायिका के प्रति उत्तरदायी होने के सिद्धांत को लागू करने के लिए हमें सदन की बैठक की संख्या में वृद्धि करने की आवश्यकता है। समितियों का गठन दलीय आधार पर ना करके सदस्यों की योग्यता, रुचि और विशिष्ट अनुभव को दृष्टिगत रखते हुए किया जाए। इस दौरान विधानसभा अध्यक्ष ने राजस्थान विधानसभा द्वारा आयोजित प्रबोधन कार्यक्रम के बारे में जानकारी देते हुए कहा कि देश के सभी सदनों में नवीन सदस्यों को प्रशिक्षण देने के लिए ऐसे आयोजन किए जाने चाहिए। वासुदेव देवनानी ने इस दौरान महाराष्ट्र विधानसभा अध्यक्ष राहुल नार्वेकर सहित सभी प्रदेशों के विधानसभा अध्यक्षों से भी मुलाकात की।

समितियों के कार्यों की होगी मॉनिटरिंग
देवनानी ने कहा कि राजस्थान विधानसभा में समितियों को सक्रिय किया जा रहा है। इसके लिए समितियों के कार्यों की मॉनिटरिंग करने के लिए विधानसभा अध्यक्ष की अध्यक्षता में एक मॉनिटरिंग कमेटी का गठन किया गया है। यह कमेटी समय-समय पर समितियों के कार्यों की समीक्षा करेगी ताकि समितियों के कार्यों की गुणवत्ता बढ़ सके। देवनानी ने कहा कि विधानसभा की समितियों के कार्यों को समयबद्ध किया जाएगा, इससे समितियों की रिपोर्ट तय समय पर आएगी तथा विधानसभा में इन समितियों की रिपोर्ट पर सदन में चर्चा कराई जाएगी।

सचिव सम्मेलन
सचिव सम्मेलन में विधानसभा प्रमुख सचिव महावीर प्रसाद शर्मा ने कहा कि राजस्थान में कम्प्यूटरीकरण की व्यवस्था 1990 से प्रारम्भ हुई तथा राजस्थान विधानसभा ऑनलाइन प्रश्न प्रणाली शुरू करने वाली पहली विधानसभा है। ऑनलाइन उत्तर सूचना प्रणाली (ओएएसवाईएस) शुरू करने में भी राजस्थान ने पहल की हैं। विधानसभा कार्यवाही सूचना प्रणाली में 1952 से चली आ रही बहसें शामिल हैं। कौन क्या है हमारे विधायक प्रणाली जो पहली विधानसभा के बाद से सभी निर्वाचित सदस्यों की पूरी जानकारी प्रदान करती है। सदस्यों की पेंशन सूचना प्रणाली; दस्तावेज़ प्रबंधन प्रणाली और समिति की बैठकें सूचना प्रणाली आदि वेबसाइट पर उपलब्ध है। राजस्थान विधानसभा 80 प्रतिशत पेपरलेस विधानसभा है और इन-हाउस नवीनतम उपकरण भी स्थापित करने जा रहे हैं तथा विधायकों को लैपटॉप और प्रिंटर उपलब्ध हैं।

 

 

Tags:

About The Author

Latest News