कक्षा 10वीं एवं 12वीं की परीक्षा जीवन के अहम पायदानः कलेक्टर डॉ. फटिंग

कक्षा 10वीं एवं 12वीं की परीक्षा जीवन के अहम पायदानः कलेक्टर डॉ. फटिंग

बड़वानी। कक्षा 10वीं एवं 12वीं की परीक्षा जीवन के अहम एवं महत्वपूर्ण पायदान होते है। इसे मजबूत करना शिक्षकों का महत्वपूर्ण कर्तव्य हैं। अतः जिले के सभी शिक्षक बच्चों की पढ़ाई पर विशेष ध्यान देते हुए नवाचार करे तथा बच्चों का पढ़ाई के प्रति रूचि बनाये रखे। कलेक्टर डॉ. राहुल फटिंग ने उक्त बाते मंगलवार को कलेक्टर कार्यालय में वीसी के माध्यम से आयोजित प्राचार्यो की बैठक में कही। इस दौरान कलेक्टर ने समस्त प्राचार्यो को निर्देशित किया कि प्राचार्य सिर्फ अपने कक्ष में बैठकर सिर्फ स्कूल की व्यवस्थाओं को ही न देखें, बल्कि प्राचार्य 10वीं एवं 12वीं की हर कक्षा में जाकर बैठे एवं देखे कि शिक्षक द्वारा बच्चों को किस प्रकार पढ़ाया जाता है, बच्चों का पढ़ाई के प्रति रूझान कैसा है। साथ ही कक्षा में कमजोर बच्चों के लिए अलग से रणनीति बनाई जाए। जो बच्चे कमजोर है उनके लिए शाम को विशेष कक्षाएं लगाई जाये तथा सभी बच्चों को राज्य शिक्षा केन्द्र से प्राप्त प्रश्न बैंकों की तैयारी करवाते हुए विशेष नोट्स बनवाये जाए।

शनिवार को होगी शिक्षक-अभिभावक की बैठक
बैठक में कलेक्टर ने निर्देशित किया कि शनिवार 16 दिसम्बर को कक्षा 10वीं एवं 12वीं के विद्यार्थियों के अभिभावकों को बुलाकर शिक्षक-अभिभावक बैठक का आयोजन किया जाए। इस दौरान अभिभावकों को बच्चों की पढ़ाई एवं अतिरिक्त कक्षाओं की जानकारी दी जाये।

शोकाज नोटिस जारी करने के दिये निर्देश
बैठक में कलेक्टर ने समस्त प्राचार्यो को वीसी से जुड़ने के निर्देश दिये थे, परन्तु ग्राम मालवन एवं ग्राम जूनाझीरा की हाई स्कूल के प्राचार्य बिना सूचना दिये वीसी से नहीं जुड़े होने पर कलेक्टर ने शोकाज नोटिस जारी करने के निर्देश सहायक आयुक्त जनजातीय कार्य विभाग को दिये है।

Tags:

About The Author

Latest News