रांची सहित कई जिलों में बारिश से मौसम हुआ सुहाना

पलामू प्रमंडल में लू की स्थिति

रांची सहित कई जिलों में बारिश से मौसम हुआ सुहाना

रांची, 17 जून (हि.स.)। राजधानी रांची समेत कई जिलों में रविवार रात बारिश हुई। इसके बाद मौसम सुहावना हो गया। रांची समेत कई जिलों में सोमवार सुबह आसमान में बादल छाए रहे। सात बजे के बाद थोड़ी देर के लिए सूरज निकला लेकिन फिर बादलों की ओट में छिप गया। सुबह ठंडी हवाएं चलने से लोगों ने राहत की सांस ली। रांची सहित झारखंड के आधा दर्जन जिलों का अधिकतम तापमान 40 डिग्री से नीचे आ गया है।

रांची मौसम विभाग के वैज्ञानिक अभिषेक आनंद ने बताया कि मानसून 20 जून तक प्रवेश करेगा। ऐसे में लोगों को मानसून के लिये 20 जून तक का इंतजार करना होगा। मौसम विभाग का कहना है कि आने वाले कुछ दिनों में तापमान गिरने का अनुमान है। केवल पलामू प्रमंडल में ही लू की स्थिति है। सोमवार के बाद वहां भी लोगों को लू से निजात मिल सकती है।

मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार 18 जून तक हीटवेव का असर देखा जायेगा। इसमें पलामू, चतरा, गढ़वा, लातेहार जिले सबसे अधिक प्रभावित होंगे। इन जिलों में येलो अलर्ट जारी किया गया है। मौसम विज्ञान केंद्र के अनुसार पिछले 24 घंटे के दौरान राज्य के औसतन अधिकतम तापमान में दो डिग्री तक की कमी दर्ज की गयी है। पहले जहां अधिकांश जिलों का तापमान 41 डिग्री से अधिक दर्ज किया जा रहा था, वहीं पिछले 24 घंटे के दौरान तापमान में कमी देखी गयी।

पहले जहां पलामू, गढ़वा, गोड्डा का तापमान 45 डिग्री से अधिक दर्ज किया जा रहा था, वहीं सोमवार सुबह पलामू और गढ़वा का तापमान 43 डिग्री रहा। बोकारो, गिरिडीह, देवघर, रामगढ़ का तापमान 42 डिग्री दर्ज किया गया। चतरा, हजारीबाग, जामताड़ा, लातेहार का तापमान 41 डिग्री रहा। धनबाद, लोहरदगा का तापमान 40 डिग्री रहा। रांची, जमशेदपुर, गुमला, सरायकेला का तापमान 39 डिग्री तक रहा। इस दौरान राज्य के एक दो स्थानों में बारिश भी हुई, जिसमें बोकारो थर्मल में 1.8 और नामकुम में 0.6 मिमी बारिश दर्ज की गयी।

Tags: Rain

About The Author

Tarunmitra Picture

‘तरुणमित्र’ श्रम ही आधार, सिर्फ खबरों से सरोकार। के तर्ज पर प्रकाशित होने वाला ऐसा समचाार पत्र है जो वर्ष 1978 में पूर्वी उत्तर प्रदेश के जौनपुर जैसे सुविधाविहीन शहर से स्व0 समूह सम्पादक कैलाशनाथ के श्रम के बदौलत प्रकाशित होकर आज पांच प्रदेश (उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और उत्तराखण्ड) तक अपनी पहुंच बना चुका है।