लालू यादव ने कार्यकर्ताओं को एकजुटता का पढ़ाया पाठ

मीसा भारती को की जिताने की अपील

लालू यादव ने कार्यकर्ताओं को एकजुटता का पढ़ाया पाठ

पटना: पटना में अपनी बड़ी बेटी मीसा भारती के नामांकन के बाद लालू यादव एक सभा में कार्यकर्ताओं को एकजुट रहने का पाठ पढ़ाया, उसी दौरान मंच पर लालू के बड़े बेटे तेज प्रताप एक कार्यकर्ता को धक्का मार दिया. धक्का देने का दृश्य देखकर बड़ी बहन मीसा भारती हक्का बक्का रह गई, वहीं तेज प्रताप यादव दोबारा से उसे कार्यकर्ता से जा भिड़े. फिर पार्टी के अन्य नेताओं ने पूरे मामले को शांत कराया. 

आज पाटलिपुत्रा लोकसभा सीट से इंडिया अलायन्स की उम्मीदवार मीसा भारती ने नामांकन किया. इस दौरान उनके साथ पिता लालू यादव और मां राबड़ी देवी भी मौजूद थीं. नामांकन के बाद मीसा भारती के लिए पटना के श्री कृष्ण मेमोरियल हॉल सभा का आयोजन किया गया था. इस सभा में तेजस्वी यादव भी मौजूद थे.

कार्यकर्ताओं के हौसला को बढ़ाने के लिए तेजस्वी यादव ने उन्हें संबोधित किया. तेजस्वी यादव को गोपालगंज, सिवान, महाराजगंज, सारण, वैशाली, राजापाकर में चुनावी सभाओं को संबोधित करना था इसलिए वो जल्दी निकल गए. कार्यक्रम धीरे धीरे आगे बढ़ा और अंत में पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष लालू प्रसाद यादव ने मीसा भारती को जिताने की अपील की.

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि कार्यकर्ता एकजुट रहे, आपके एक जुटता से ही हमारा मनोबल बढ़ता है. इसी दौरान उनके बड़े बेटे और हसनपुर विधायक तेज प्रताप यादव एक कार्यकर्ता को भरी सभा में मंच पर धक्का देने लगे. ये देख वहां लोग हैरान हो गए और माहैल गर्मा गया. इसके बाद पार्टी के अन्य नेताओं ने पूरे मामले को शांत करवाया.

आज लालू यादव ने मंच पर जहां कार्यकर्तओं में जोश भरने के लिए कहा कि 'लागल लागल झुलनिया में धक्का बालम कोलकाता चला', तो दूसरी तरफ मंच पर मीसा भारती से मिलने पहुंचे राजद कार्यकर्ता को उनके भाई तेजप्रताप यादव ने मंच से धक्का दे दिया. दरअसल पाटलिपुत्र सीट पर 1 जून यानी आखिरी चरण में चुनाव होना है. इसके लिए लालू यादव का पूरा परिवार मीसा भारती को इस बार जीत दिलाने में जुटा है और कार्यकर्ताओं को एकजुट रहने के लिए कहा जा रहा है.  

 

Tags: lalu

About The Author

Tarunmitra Picture

‘तरुणमित्र’ श्रम ही आधार, सिर्फ खबरों से सरोकार। के तर्ज पर प्रकाशित होने वाला ऐसा समचाार पत्र है जो वर्ष 1978 में पूर्वी उत्तर प्रदेश के जौनपुर जैसे सुविधाविहीन शहर से स्व0 समूह सम्पादक कैलाशनाथ के श्रम के बदौलत प्रकाशित होकर आज पांच प्रदेश (उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और उत्तराखण्ड) तक अपनी पहुंच बना चुका है। 

Latest News