चुनावी ड्यूटी पर लगे होमगार्डों को बेकाबू ट्रैक्टर ने कुचला, एक की मौत

चुनावी ड्यूटी पर लगे होमगार्डों को बेकाबू ट्रैक्टर ने कुचला, एक की मौत

आगरा: बीती रात आगरा की फतेहपुर सीकरी लोकसभा क्षेत्र के थाना इरादत नगर क्षेत्र में चुनाव ड्यूटी पर आए होमगार्डों को बेकाबू ट्रैक्टर ने कुचल दिया. इस हादसे में तीन होमगार्ड ट्रैक्टर की चपेट में आ गए. हादसे में एक होमगार्ड ने घटनास्थल पर ही दम तोड़ दिया जबकि दो की हालत गंभीर बनी हुई है. दोनों को अस्पताल में भर्ती कराया गया है. वहीं चालक ट्रैक्टर छोड़कर भाग गया है. हादसे के बाद आक्रोशित होमागार्डों ने सड़क पर जाम लगा दिया.

जानकारी के मुताबिक, घटना बीती मध्य रात्रि के सैंया सर्किल के थाना इरादत नगर क्षेत्र में सैंया मार्ग में लुहेटा मोड़ की है. लोकसभा चुनाव के मद्देनजर दस सदस्यीय पुलिस टीम वाहनों को चेकिंग कर रही थी. टीम में सात होमगार्ड के जवान भी शामिल थे. इसी दौरान शमशाबाद सैंया की ओर से एक ट्रैक्टर तेज रफ्तार में गुजरा.

टीम ने ट्रैक्टर को रोकने की कोशिश की तो चालक गाड़ी लेकर भागने लगा. 
इस दौरान तीन होमगार्ड रक्षाराम वर्मा, कौशल किशोर ओझा और उमेश मिश्रा ट्रैक्टर की चपेट में आ गए. दर्दनाक हादसे में होमगार्ड उमेश मिश्रा की मौके पर ही मौत हो गई जबकि एक होमगार्ड ट्रैक्टर में फंसकर एक किमी. तक घसिटता चला गया. एक किमी. पर चालक ने होगमार्ड को निकाला. इसके बाद वह भाग गया.

हादसे में दो होमगार्ड गंभीर रूप से घायल
ट्रैक्टर चालक हादसे की सूचना पर इरादत नगर पुलिस टीम मौके पर पहुंच गई और घायल दोनों होमगार्डों को शमशाबाद रोड़ स्थित जीआर हॉस्पिटल में उपचार के लिए भर्ती करवाया. हादसे के चपेट में आए तीनों होमगार्ड श्रावस्ती जिले के है जो चुनाव की ड्यूटी पर आगरा आए थे. हादसे के बाद होमगार्ड लाठियां लेकर एकत्रित हो गए और अक्रोशित होकर सैंया इरादत नगर मार्ग पर झाड़ियां डालकर जाम लगा. इससे दोनों ओर वाहनों की लंबी कतार लग गई. इस बारे में डीसीपी पश्चिमी जोन सोनम कुमार ने बताया है कि चेकिंग के दौरान तीन होमगार्ड वाहन की चपेट में आ गए थे, जिसमें एक की मौत हो गई और दो घायल हैं, उनका उपचार चल रहा है. फरार चालक की तलाश की जा रही है.

Tags:

About The Author

Tarunmitra Picture

‘तरुणमित्र’ श्रम ही आधार, सिर्फ खबरों से सरोकार। के तर्ज पर प्रकाशित होने वाला ऐसा समचाार पत्र है जो वर्ष 1978 में पूर्वी उत्तर प्रदेश के जौनपुर जैसे सुविधाविहीन शहर से स्व0 समूह सम्पादक कैलाशनाथ के श्रम के बदौलत प्रकाशित होकर आज पांच प्रदेश (उत्तर प्रदेश, बिहार, महाराष्ट्र, मध्य प्रदेश और उत्तराखण्ड) तक अपनी पहुंच बना चुका है।