कार्तिका पूर्णिमा पर हजारों श्रद्धालुओं ने लगायी आस्था की डुबकी

महर्षि दुर्वाषा की तपोस्थली पर प्रतिवर्ष लगता है तीन दिवसीय मेला

कार्तिका पूर्णिमा पर हजारों श्रद्धालुओं ने लगायी आस्था की डुबकी

आजमगढ़। फूलपुर तहसील मुख्यालय से 7 किमी दूर स्थित महर्षि दुर्वाषा की तपोस्थली दुर्वाषा धाम पर कार्तिक पूर्णिमा के अवसर पर सोमवार को हजारों की संख्या में श्रद्धालुओं ने आस्था की डुबकी लगाई। इस दौरान श्रद्धालुओं ने मंदिरों में पूजा अर्चना कर अपने और परिवार की सुख समृद्धि की कामना की। मेले में लोगों ने अपनी जरूरतों के हिसाब से खरीदारी किया। मेला परिसर में जरूरत के सामानों के साथ ही मनोरंजन की भी व्यवस्था है। पुलिस प्रशासन मेला सकुशल संपन्न कराने के लिए लगा रहा।
 
इस पौराणिक स्थली पर महर्षि दुर्वाषा ने 88 हजार ऋषियों के साथ कठोर तपस्या की थी। लगभग 7 हजार साल तक चली कठोर तपस्या के बाद भगवान शिवजी प्रकट हुए थे। उनकी इसी तपोस्थली पर प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी हजारों श्रद्धालुओं डुबकी लगाने पहुँचे। महिलाओं और बच्चों ने अपनी जरूरत के सामानों की खरीदारी किया। बच्चों और युवाओं के लिए मेला में लगाये गए झूले आकर्षण का केंद्र बने रहे। वहीं घरेलू सामानों की जमकर खरीदारी भी हुई। गुब्बारे, चोटहिया जलेबी, पिपिहिरी, हाथा, फावड़ा, कुदार, श्रृंगार की वस्तुओं की भी खरीददारी हुई।
 
तमसा मंजूषा के संगम पर महिलाओं के लिए समुचित व्यवस्था का अभाव दिखाई दिया। श्रद्धालुओं द्वारा महर्षि दुर्वाषा और शिवजी के दर्शन पूजन किए गए। मंदिरों में बज रहे घंटा घड़ियाल और भक्ति गीतों से पूरा परिसर भक्तिमय हो गया। सुरक्षा की दृष्टि से मेला परिसर से पहले ही पुलिस प्रशासन द्वारा वाहनों को रोका गया। फूलपुर कोतवाल पूरी टीम के साथ मेले की सुरक्षा में लगे रहे। कई जगहों पर लोगों को भीड़ और जाम का भी सामना करना पड़ा। मंगलवार को मेले का आयोजन किया जाएगा।
 
इस पौराणिक स्थली पर महर्षि दुर्वाषा ने 88 हजार ऋषियों के साथ कठोर तपस्या की थी। लगभग 7 हजार साल तक चली कठोर तपस्या के बाद भगवान शिवजी प्रकट हुए थे। उनकी इसी तपोस्थली पर प्रत्येक वर्ष की भांति इस वर्ष भी हजारों श्रद्धालुओं डुबकी लगाने पहुँचे। महिलाओं और बच्चों ने अपनी जरूरत के सामानों की खरीदारी किया। बच्चों और युवाओं के लिए मेला में लगाये गए झूले आकर्षण का केंद्र बने रहे। वहीं घरेलू सामानों की जमकर खरीदारी भी हुई।
 
गुब्बारे, चोटहिया जलेबी, पिपिहिरी, हाथा, फावड़ा, कुदार, श्रृंगार की वस्तुओं की भी खरीददारी हुई। तमसा मंजूषा के संगम पर महिलाओं के लिए समुचित व्यवस्था का अभाव दिखाई दिया। श्रद्धालुओं द्वारा महर्षि दुर्वाषा और शिवजी के दर्शन पूजन किए गए। मंदिरों में बज रहे घंटा घड़ियाल और भक्ति गीतों से पूरा परिसर भक्तिमय हो गया। सुरक्षा की दृष्टि से मेला परिसर से पहले ही पुलिस प्रशासन द्वारा वाहनों को रोका गया। फूलपुर कोतवाल पूरी टीम के साथ मेले की सुरक्षा में लगे रहे। कई जगहों पर लोगों को भीड़ और जाम का भी सामना करना पड़ा। मंगलवार को मेले का आयोजन किया जाएगा।
Tags: Azamgarh

About The Author

Latest News

 पाकिस्तान में आज पंजाब विधानसभा के सामने पीटीआई करेगी प्रदर्शन पाकिस्तान में आज पंजाब विधानसभा के सामने पीटीआई करेगी प्रदर्शन
इस्लामाबाद । पंजाब विधानसभा के निर्वाचित सदस्य आज (शुक्रवार) अपने शपथ लेंगे। जेल में बंद पूर्व प्रधानमंत्री इमरान खान की...
प्रधानमंत्री मोदी ने वाराणसी में फुलवरिया फ्लाईओवर का किया निरीक्षण
भारतीय समाज के लोगो का कष्ट देखकर जिनके मन मे पीड़ा हो वह सच्चे भारतीय -डॉक्टर कृष्ण गोपाल
अवैध खनन पर पुलिस की कार्यवाही, खनन से लदी ट्रैक्टर ट्रॉली सीज
JDU MLA नरेंद्र नारायण यादव का बिहार विधानसभा का उपाध्यक्ष बनना तय
पंजाब के DSP की जिम में वर्कआउट करते हुए हार्टअटैक से मौत
बनभूलपुरा बवाल में मुख्य साजिशकर्ता अब्दुल मलिक पर लगातार शिकंजा कसता जा रहा