लोगों को भा रहे वनोपज हर्बल उत्पाद, अब तक हुई 35 लाख से अधिक की बिक्री

अलीराजपुर के दाल-पनिया का स्वाद लोगों को खूब भाया

लोगों को भा रहे वनोपज हर्बल उत्पाद, अब तक हुई 35 लाख से अधिक की बिक्री

भोपाल। राजधानी के अरेरा हिल्स स्थित भोपाल हाट में चल रहे अंतरराष्ट्रीय वन मेले में लोगों को बनोपज से बने हर्बल उत्पाद खूब भा रहे हैं। चौथे दिन शनिवार को भी लोगों का वन मेले के प्रति उत्साह नजर आया। मेले में लगभग 23 हजार लोगों ने मेले का आनंद लिया। लोगों के इतनी बड़ी संख्या से मेले प्रांगण में लगे स्टॉल्स के संचालकों का उत्साह भी बढ़ता जा रहा है। मेले में स्थापित फूड स्टॉल्स के व्यंजन लोगों के स्वाद को बढ़ा रहे हैं। वन भोज रसोई के व्यंजनी एवं अलीराजपुर के दाल-पनिया का स्वाद चखने के लिए लोगों की भीड़ इस तरह से लगी है कि लोगों को इंतज़ार करने में भी समस्या नहीं हो रही बल्कि इस इंतजार की घड़ी व्यंजनों के स्वाद को दोगुना कर रही है। जनसम्पर्क अधिकारी केके जोशी ने बताया कि मेले में अब तक लगभग 35 लाख रूपए के वनोपज हर्बल उत्पाद से निर्मित औषधियों की बिक्री हो चुकी है। मेले में स्थापित ओपीडी में लगभग तीन हजार से अधिक आगंतुकों ने निःशुल्क चिकित्सीय परामर्श प्राप्त किया। ओपीडी में आयुर्वेदिक चिकित्सकों एवं अनुभवी वैद्य द्वारा निःशुल्क परामर्श मेले के अंतिम दिन रविवार तक जारी रहेगा।

पांच दिवसीय मेला, जिसका एक महत्त्वपूर्ण उद्देश्य यह भी है की लघु वनोपज में शामिल प्राथमिक संग्राहकों को एक मंच प्रदान करना है। लघु वनोपज संग्राहकों, उत्पादकों एवं वनोपज समितियों का जड़ी बूटियों, हर्बल उत्पाद तथा आयुर्वेदिक के व्यवसाय से जुड़े विभिन्न निर्माता, विभिन्न मंडियों के लघु वनोपज के व्यापारियों, उत्पादक, प्रसंस्करण कर्ताओं के प्रतिनिधि के साथ सीधा वार्तालाप हो और बाजार के अवसरों को खोजा जा सके। इस उद्देश्य को पूरा करने के लिये एक दिवसीय क्रेता- विक्रेता सम्मेलन का आयोजन भी किया गया। सम्मेलन प्रधान मुख्य वन संरक्षक एवं प्रबंध संचालक मप्र राज्य लघु वनोपज सहकारी संघ मर्यादित विभाष कुमार ठाकुर, अपर प्रधान मुख्य वन संरक्षक एवं अपर प्रबंधक संचालक/म.प्र. राज्य लघु वनोपज सहकारी संघ मर्यादित मनोज कुमार अग्रवाल एवं सीईओ एम् ऍफपी पार्क प्रफुल फुलझेले के मुख्य आतिथ्य में संपन्न हुआ।

विभाष कुमार ठाकुर ने अपने उद्बोधन में वन धन विकास केन्द्र एवं प्राथमिक वनोपज समितियाँ को प्रोत्साहित करते हुए एम्. ऍफ़. पी. पार्क से जुड़ाव करते हुए उच्चतम गुणवत्ता के लघु वनोपज उत्पाद क्रय करने को प्राथमिकता देने को कहा। सम्मेलन की सफलता का अंदाज़ा इससे ही लगाया जा सकता है कि बड़ी तादाद में प्रदेश के लगभग 80 से भी ज्यादा सहभागीयों ने सम्मेलन में भाग लिया। साथ ही सम्मेलन में लगभग 2.24 करोड़ रुपये का एम्. ऍफ़. पी. पार्क एवं विभिन्न संस्थाओं के मध्य व्यापारिक अनुबंध किये गए। भविष्य में जड़ी-बूटियों के क्षेत्र में शामिल प्राथमिक संग्राहक एवं उत्पादकों का आर्थिक सुधार करने में मददगार साबित होंगे। मेला प्रांगण में सुबह 10:30 बजे से दोपहर 2:30 बजे तक नृत्य (सोलो और ग्रुप) की रंगारंग प्रस्तुति चलती रही। इस प्रस्तुति में बच्चों ने अपनी मनमोहक प्रस्तुति देकर सभी के मन को मोहित कर लिया। सायं 6:00 बजे से 9:30 बजे तक L.N.C.T. कॉलेज एवं आर्केस्ट्रा साई मीडिया एडवरटाइजिंग ग्रुप द्वारा आकर्षक प्रस्तुति दी।

रविवार के कार्यक्रम
वन मेले में रविवार को प्रातः 11:00 बजे से दोपहर 2:30 बजे तक स्कूली छात्र छात्राओं द्वारा गायन की प्रस्तुति दी जाएगी। मेले का समापन समारोह सायं 5 बजे मुख्य एवं विशिष्ट अतिथियों द्वारा किया जायेगा।

 

 

Tags:

About The Author

Latest News