जगतगुरु शंकराचार्य के कृतित्व पर हुई परिचर्चा

जगतगुरु शंकराचार्य के कृतित्व पर हुई परिचर्चा

लखनऊ। मुख्य वक्ता लखनऊ विश्वविद्यालय के हिन्दी विभागाध्यक्ष डा. योगेन्द्र प्रताप सिंह ने आद्यगुरु शंकराचार्य के विलक्षण अवतरण तथा उनके अद्भुत मत पर विस्तार से प्रकाश डाला। उन्होंने राष्ट्रीय राजधानी दिल्ली से आईं वरिष्ठ साहित्यकार एवं दिल्ली हिन्दी साहित्य सम्मेलन की अध्यक्ष डॉ. इन्दिरा मोहन के सद्यप्रकाशित ग्रंथ  'श्रीशांकर भाष्य सार उपनिषद संजीवनी' का बड़ा सटीक विश्लेषण किया। दिल्ली विश्वविद्यालय की प्रोफेसर डॉ. रचना विमल दूबे के मुख्य समन्वयन एवं संचालन में सम्पन्न इस विशिष्ट संगोष्ठी में सभाध्यक्ष डॉ. इन्दिरा मोहन ने आद्यगुरु शंकराचार्य पर रचित अपने भाष्य ग्रंथ पर विस्तार से प्रकाश डाला।

उन्होंने शंकराचार्य परंपरा की चारों पीठों की पुन: प्रतिष्ठा के लिए कार्य करने का आह्वान सभी से किया। भाग्योदय फाउंडेशन के अध्यक्ष एवं संस्थापक आचार्य राम महेश मिश्र ने कुछ ऐसा करने की अपील देशवासियों से की कि राष्ट्र की नई पीढ़ी अपनी शंकराचार्य परंपरा को अच्छे से जाने।

उन्होंने अनेक सन्तों द्वारा अपने नाम के साथ शंकराचार्य का नाम लगाने पर आपत्ति जाहिर करते हुए कहा कि इसे बिना कोई देर किए रोका जाना चाहिए। शंकराचार्य पीठों द्वारा भी हरसंभव प्रयास किए जाएं कि वे पीठें खासजन से लेकर आमजन तक अपनी पहुंच बना सकें।

Tags: lucknow

About The Author

Latest News

ए एच टी यू के सहयोग से बाल श्रम,नशा के खिलाफ चलाया अभियान ए एच टी यू के सहयोग से बाल श्रम,नशा के खिलाफ चलाया अभियान
फ़िरोज़ाबाद,पेस चाइल्ड फंड इंडिया द्वारा ए.एच.टी.यू के सहयोग से भगवान देवी स्कूल छारबाग में नशा एवं बाल श्रम के विरुद्ध...
जेल में अंतर्राष्ट्रीय योग सप्ताह के शुभारंभ पर बंधिया द्वारा योगाभ्यास किया : मिजाजीलाल 
वरिष्ठ पत्रकार संपादक एवं प्रमुख समाजसेवी अलविदा कह गया, नाम आंखों से दी विदाई
जोड़ी गदा कुश्ती के हरफनमौला रहे महाबली स्वर्गीय अदालत पहलवान की मनाई गई 5वीं पुण्यतिथि, किए गए याद
डाॅ बीपी त्यागी ने राष्ट्रवादी नवनिर्माण दल से दिया इस्तीफा, पार्टी से उनका अब कोई नाता नहीं
राष्ट्रीय स्वयं सेवक संघ कार्यकर्ता प्रशिक्षण वर्ग के समापन समारोह में पहुंचे सांसद अतुल गर्ग
वृद्धाश्रम में बुजुर्गों का कुशल क्षेम जानने पहुंची भावी अध्यक्ष सुषमा गुप्ता