एसटीएफ से मुठभेड़ में कुख्यात बदमाश ‘घोड़ा’ ढेर

बदमाश कालिया पर 1.25 लाख का था इनाम

एसटीएफ से मुठभेड़ में कुख्यात बदमाश ‘घोड़ा’ ढेर

  • दस जिलों की पुलिस तीन साल से कर रही थी तलाश
  • एसटीएफ को काफी दिनों से थी इसकी तलाश
  • हत्या करने के इरादे से जा रहा था कालिया, जानकारी मिलते ही एसटीएफ दौड़ी
  • एटीएफ ने रोका तो दूसरे मार्ग से भागने का किया प्रयास, फिर हुई मुठभेड़

लखनऊ।झांसी में कुख्यात बदमाश राशिद कालिया ‘घोड़ा’ को एसटीएफ ने शनिवार की सुबह एनकाउंटर में मार गिराया। मुठभेड़ में उसके सीने में गोली लगी थी। कानपुर में तीन साल पहले हुई बसपा नेता पिंटू सेंगर की हत्या में कालिया वांटेड था। उस पर 1.25 लाख का इनाम था। कालिया को 10 जिलों की पुलिस तलाश रही थी। अब जाकर एसटीएफ को सफलता मिली। इसके कब्जे से एक पिस्टल, दो मैगजीन, छह जिंदा कारतूस, छह खोखा कारतूस 7.65 एमएम, एक खोखा कारतूस 315 बोर , एक तमंचा 315 बोर, एक होरो मोटर साइकिल बरामद किया है। यह अस्थाई रूप से चिश्तीनगर थाना चकेरी कानपुर में रहता था तथा मूल पता जनपद महोबा है।

स्पेशल टास्क फोर्स, उत्तर प्रदेश को विगत काफी दिनों से वांछित व पुरस्कार घोषित अपराधियों के सक्रिय होने की सूचना प्राप्त हो रही थी। इस सम्बन्ध में एसटीएफ की विभिन्न इकाईयों व टीमों को इनके बारे में जानकारी एकत्र करने के लिए निर्देशित किया गया था। इसी क्रम में  संजीव कुमार दीक्षित, पुलिस उपाधीक्षक, एसटीएफ, लखनऊ के पर्यवेक्षण में एसटीएफ मुख्यालय की टीम द्वारा अभिसूचना संकलन की कार्रवाई की जा रही थी। एसटीएफ मुख्यालय की टीम शनिवार को जनपद झांसी क्षेत्र में आपराधिक अभिसूचना संकलन के सम्बन्ध में पुलिस उपाधीक्षक संजीव कुमार दीक्षित के साथ निरीक्षक  धनश्याम यादव, उपनिरीक्षक आषुतोष त्रिपाठी मय टीम के भ्रमणशील थे तो उसी दौरान अभिसूचना सूचना संकलन के दौरान ज्ञात हुआ कि कुख्यात अपराधी राशिद कालिया मऊरानीपुर, झांसी में हत्या की सुपारी लेकर किसी की हत्या करने के इरादे से भारी मात्रा में असलहे लेकर मऊरानी थानाक्षेत्र में आने वाला है। इस सूचना पर एसटीएफ टीम द्वारा तत्काल प्रतिक्रिया करते हुए स्थानीय पुलिस को अवगत कराते हुए साथ लेकर मुखबिर के बताये गये स्थान पर पहुंचकर गाढ़ा बन्दी की गई।
 
उसी दौरान सितौरा रोड पर एक एचएफ डीलक्स हीरो मोटर साइकिल आती दिखाई दी, जिसे एसटीएफ टीम द्वारा रूकने के लिए कहा गया परन्तु मोटर साइकिल सवार बदमाश ने तेजी से मोटर साइकिल दूसरे मार्ग में मोड़ कर भागने का प्रयास करने लगा। जिसपर एसटीएफ टीम द्वारा अपराधी को तेज आवाज में रूकने के लिए कहा गया। इस बीच मोटर साईकिल सवार ने हथियार निकाल कर एसटीएफ पार्टी पर फायर करने लगा, जिसपर एक गोली संजीव कुमार दीक्षित, पुलिस उपाधीक्षक, एसटीएफ को व एक गोली निरीक्षक घनश्याम यादव को लगी परन्तु एसटीएफ टीम द्वारा बुलेटप्रूफ जैकेट पहने होने के कारण कोई जन हानि नहीं हुई।
 
एसटीएफ द्वारा भी प्रतिक्रिया करते हुए नियंत्रित फायरिंग की गयी तो मोटर साईकिल से उतर कर बदमाश एसटीएफ पार्टी को निशाना बनाते हुए जान से मारने की नियत से फायरिंग करता रहा। जिस पर एसटीएफ की टीम द्वारा साहस, संयम एवं व्यवसायिक दक्षता का परिचय देते हुए आत्मरक्षार्थ संतुलित एवं नियंत्रित फायरिंग की गई। जिससे वह बदमाश गोली लगने के कारण घायल हो गया। घायल बदमाश को तत्काल जीवन रक्षा के लिए सीएचसी मऊरानीपुर ले जाया गया। जहां से उसे मेडिकल कालेज, झांसी रेफर कर दिया गया। जहां चिकित्सकों द्वारा परीक्षणोपरान्त उसे मृत घोषित कर दिया गया। मृतक बदमाश की पहचान राशिद कालिया उर्फ गौड़ा उर्फ बीरू उपरोक्त के रूप में हुई। जिसके पास से उपरोक्त बरामदगी भी हुई।


राशिद कालिया उर्फ गौड़ा उर्फ बीरू की आपराधिक गतिविधियां

इस अभियुक्त ने जून 2020 में कानपुर के चकेरी क्षेत्र में बसपा नेता नरेंद्र उर्फ पिंटू सेंगर की गोलियों से छलनी करके हत्या कर दी गई। हत्याकांड को अंजाम देने के लिए पल्सर और बाइकों पर सवार होकर चार शूटर आये थे। तफ्तीश में खुलासा हुआ कि पल्सर अहसान कुरैशी चला रहा था जबकि पीछे राशिद कालिया बैठा था और सलमान बेग पीछे बैठा था। कार से उतरते ही पिंटू सेंगर पर चारों बदमाशों ने आॅटोमेटिक हथियारों से एक साथ फायरिंग कर दी। पुलिस को घटना स्थल से 11 कारतूस के 11 खोखे मिले थे। पुलिस ने सेंगेर हत्याकांड में पप्पू स्मार्ट, महफूज अख्तर, साऊद अख्तर समेत 14 आरोपियों को गिरफ्तार कर लिय था। मगर राशिद कालिया फरार चल रहा था। इसी अभियोग में पुलिस आयुक्त, कमिश्नरेट कानपुर नगर द्वारा एक लाख  का पुरस्कार घोषित किया गया था।

2008 में मोहसिन खान का अपहरण कर की थी हत्या
 
इस अभियुक्त ने 19 दिसंबर 2008 को मोहसिन खान पुत्र सलीम खान को उसकी गाड़ी स्कार्पियों के साथ अपहरण कर उसकी हत्या कर दी थी और हत्या करने के उपरान्त उसकी लाश को मूसानगर कानपुर देहात के पास फेंक दिया था और गाड़ी को कानपुर में बेंच दिया था। इस घटना के सम्बन्ध में मोहसिन के परिवार द्वारा थाना नवाबाद, जनपद झांसी में  विभिन्न धाराओं में मुकदमा पंजीकृत हुआ था। इस अभियोग में वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक, झांसी द्वारा 25 हजार का पुरस्कार घोषित किया गया था।अब वह सुपारी लेकर फिर से हत्या करने आया था। पुलिस और एसटीएफ ने सूचना पर घेराबंदी कर एनकाउंटर में मार गिराया । 
 
 
Tags: lucknow

About The Author

Latest News

Kushinagar : नफरत में चली गोली, एक युवक की हालत गंभीर Kushinagar : नफरत में चली गोली, एक युवक की हालत गंभीर
कुशीनगर। जनपद में शुक्रवार को कसया थाना क्षेत्र के ग्राम नादह गांव में आपसी रंजिश में चली गोली, एक युवक...
बैंक डकैती : कैशियर को गोली मारकर बैंक लूट का प्रयास,दोनों आरोपी गिरफ्तार
डिस्पोजेबल कप पर लगाने होंगे नाम वाले स्टीकर्स, ताकि कचरा कौन फैला रहा है पकड़ में आ सके!
जल जीवन मिशन की प्रगति के लिए एकजुट होकर करें कार्य - चौधरी
पर्यटन की दृष्टि से विकसित होगा उदयपुर का बाघदड़ा नेचर पार्क
कोडरमा में ढिबरा स्क्रैप मजदूर संघ का धरना 12वें दिन खत्म
25 हजार के कर्ज पर सूद में जुड़ गया पांच लाख, व्यापारी ने लगाई फांसी