नदियों व झीलों के रूप में होगी रामपुर की पहचान:आकाश

शहर विधायक आकाश सक्सेना ने डीएम को लिखा पत्र।

नदियों व झीलों के रूप में होगी रामपुर की पहचान:आकाश

बोले 1954 के आधार वर्ष और नक्शे के अनुरूप नदियों व झीलों को दिलाया जाए पूर्व स्वरूप।

रामपुर: अब नदियों व झीलों के रूप में रामपुर की पहचान होगी।इसके लिए शहर विधायक आकाश सक्सेना ने जिलाधिकारी को पत्र लिखा है।उन्होंने कहा है कि रामपुर की विरासत को फिर से उभारने के लिए जरूरी है कि रामपुर के प्राकृतिक संसाधन पुर्नजीवित हों। इसलिए,वर्तमान परिवेश को देखते हुए यह आवश्यक हो गया है कि 1954 के आधार वर्ष और नक्शे के अनुरूप नदियों व झीलों को पूर्व स्वरूप वापस दिलाया जाए।प्रदेश सरकार का पूरा जोर प्राकृतिक संसाधनों की हिफाजत करना है।इसलिए,सरकारी जमीनों,तालाबों,नदियों,झीलों को अतिक्रमण मुक्त कराने की दिशा में तेजी से कदम आगे बढ़ाए जा रहे हैं।
 
सिर्फ रामपुर की ही बात की जाए तो यहां कोसी नदी,गागन नदी,घूघा नदी,पीलाखार नदी,नाहल नदी,बाह नदी,सैंजनी नदी,भाखड़ा नदी,धीमरी नदी,कच्चिया नदी,हाथी चिंघाड़ नदी के क्षेत्र में बड़े पैमाने पर अतिक्रमण हो गया है,जिससे इन नदियों का स्वरूप प्रभावित हो गया है।नदियों की जमीनों पर खेती हो रही है।यहां तक कि मकान और बड़ी-बड़ी इमारतें बनकर तैयार हो गई हैं।
 
बिलासपुर क्षेत्र में नदी की जमीन पर प्लाटिंग चल रही है।जबकि,शाहबाद और बिलासपुर की मोती झील व गौर झील भी जलसंरक्षण का अच्छा स्त्रोत थीं,लेकिन इन पर भी अतिक्रमण हो गया,जिस कारण झीलों का अस्तित्व संकट में है।ऐसे में प्राकृतिक संसाधनों के संरक्षण व सरकारी संपत्तियों को बचाने के लिए शहर विधायक आकाश सक्सेना ने जिलाधिकारी जोगेंद्र सिंह को पत्र भेजा है।
 
उन्होंने कहा है कि कोसी नदी का स्वरूप अवैध प्लाटिंग एवं अवैध खनन करने वालों ने पूर्ण रूप से परिवर्तित कर दिया गया है।तहसील स्वार और टांडा के साथ ही तहसील सदर में भी नदी सिकुड़ गई है।गांधी समाधि के समीप कोसी नदी का स्वरूप बदलने पर कुछ लोगों के खिलाफ रिपोर्ट भी दर्ज की गई,लेकिन इसके बाद आगे कोई कार्रवाई नहीं हो सकी।
 
उन्होंने कहा है कि 1954 के आधार वर्ष रिकाॅर्ड और नक्शे के अनुसार कोसी नदी सहित रामपुर जिले की सभी नदियों,झीलों को पुराने स्वरूप में वापस किया जाए।साथ ही नदियों के जीर्णांद्वार के लिए भी अभियान चलाया जाए,ताकि बारिश के पानी को नदियों में संरक्षित कर किसानों की सिंचाई के लिए प्रयोग में लाया जा सके और रामपुर के भूगर्भ जलस्तर में भी सुधार हो सके।
 
Tags: Rampur

About The Author

Latest News

भारत विकास परिषद मनवर शाखा की बैठक मंें पौधरोपण का निर्णय भारत विकास परिषद मनवर शाखा की बैठक मंें पौधरोपण का निर्णय
बस्ती - भारत विकास परिषद मनवर शाखा की बैठक शनिवार को शाखा के अध्यक्ष सुभाष चन्द्र त्रिपाठी की अध्यक्षता में...
ऑन लाइन हाजिरी के विरोध में 15 संगठनों ने बनाया प्रदेश स्तरीय संयुक्त मोर्चा
राष्ट्रीय क्षय रोग उन्मूलन कार्यक्रम के जागरूकता अभियान के तहत किया गया टीबी स्क्रीनिंग का आयोजन
विभागीय अधिकारी समस्या से वाकिफ, झाड़ रहे पल्ला
खून से लथपथ बालिका पहुची घर, माँ को सुनाई आपबीती
मुण्डेरवा पुलिस ने किया इनामिया अभियुक्त को गिरफ्तार
ऑटो और बाइक की भिड़ंत में युवक हुआ गंभीर रूप से घायल