भूजल स्तर के संरक्षण व संवर्धन पर हुई संभाग स्तरीय कार्यशाला

भूजल स्तर के संरक्षण व संवर्धन पर हुई संभाग स्तरीय कार्यशाला

जगदलपुर। जल जीवन मिशन के अंतर्गत आज शनिवार को भूजल संरक्षण एवं संवर्धन सम्बन्धी संभाग स्तरीय कार्यशाला को सम्बोधित करते हुए डॉ.डीडी ओझा ने कहा कि भूजल का निरंतर बड़े पैमाने पर दोहन के फलस्वरूप अब भूजल स्तर को बनाये रखने के लिए गहन चिंतन एवं मंथन कर इसके संरक्षण और संवर्धन की दिशा में व्यापक पहल किया जाना आवश्यक है। वहीं संरक्षण एवं संवर्धन के साथ ही समुचित दोहन के लिए कार्ययोजना तैयार कर कारगर क्रियान्वयन सुनिश्चित करने पर ध्यान केंद्रीत करना वर्तमान परिवेश की जरूरत है। इस दिशा में जनसाधारण में जल चेतना के लिए अभियान चलाया जाने के साथ ही स्कूल-कॉलेज में जल शिक्षा प्रदान करने प्रयास किया जाना चाहिए।

जल संरक्षण के लिए अनेक राष्ट्रीय पुरस्कार से नवाजे गए ख्यातिलब्ध विशेषज्ञ डॉ.ओझा ने पानी के समुचित उपयोग करने और कृषि क्षेत्र में सिंचाई के लिए भूजल के दोहन में कमी लाने सहित सरफेस वॉटर के उपयोग को बढ़ावा देने पर जोर दिया। वहीं उन्होंने जल की उपलब्धता एवं गुणवत्ता सुनिश्चित करने की दिशा में जल शोधन की प्राच्य तरीकों एवं वर्तमान तकनीकों की जानकारी से अवगत कराया। डॉ.ओझा ने जल चेतना अभियान चलाये जाने के लिए स्वयंसेवी संगठनों एवं संस्थाओं का व्यापक सहयोग लेने पर बल दिया।

मुख्य अभियंता लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी बस्तर परिक्षेत्र जगदलपुर अजय कुमार साहू ने बस्तर संभाग में फ्लोराइड प्रभावित इलाकों में शुद्ध पेयजल की आपूर्ति के लिए विभागीय अधिकारियों को बेहतर रणनीति के साथ काम करने कहा। वहीं भूजल स्तर को बनाये रखने के लिए जागरूकता अभियान के साथ ही इस दिशा में कार्ययोजना का समयबद्ध क्रियान्वयन किये जाने कहा।

कार्यपालन अभियंता लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी जगदीश कुमार ने स्वागत उद्बोधन में कहा कि जल जीवन मिशन के माध्यम से एक बड़ी आबादी को शुद्ध पेयजल आपूर्ति करने के फलस्वरूप अब भूजल स्तर का समुचित प्रबन्धन आवश्यक है। इस दिशा में समुदाय की सक्रिय सहभागिता के जरिये काम करना जरुरी है। उन्होंने इस कार्यशाला में तकनीकी विशेषज्ञों के द्वारा दिये गए सुझावों के अनुरूप कार्य करने पर जोर दिया। कार्यशाला में जल शोधन पर आधारित जल शोधन-प्राचीन से अर्वाचीन नामक पुस्तक का विमोचन किया गया। इस दौरान विषय विशेषज्ञों को स्मृति चिन्ह भेंटकर सम्मानित किया। कार्यशाला में बस्तर संभाग के सभी जिलों के लोक स्वास्थ्य यांत्रिकी विभागीय अधिकारी तथा जल संरक्षण अभियान से विशेषज्ञों के अलावा जलसंरक्षण से जुड़े स्वयंसेवी संगठनों एवं संस्थाओं के प्रतिनिधि मौजूद थे।


Tags:

About The Author

Latest News

Kushinagar : नफरत में चली गोली, एक युवक की हालत गंभीर Kushinagar : नफरत में चली गोली, एक युवक की हालत गंभीर
कुशीनगर। जनपद में शुक्रवार को कसया थाना क्षेत्र के ग्राम नादह गांव में आपसी रंजिश में चली गोली, एक युवक...
बैंक डकैती : कैशियर को गोली मारकर बैंक लूट का प्रयास,दोनों आरोपी गिरफ्तार
डिस्पोजेबल कप पर लगाने होंगे नाम वाले स्टीकर्स, ताकि कचरा कौन फैला रहा है पकड़ में आ सके!
जल जीवन मिशन की प्रगति के लिए एकजुट होकर करें कार्य - चौधरी
पर्यटन की दृष्टि से विकसित होगा उदयपुर का बाघदड़ा नेचर पार्क
कोडरमा में ढिबरा स्क्रैप मजदूर संघ का धरना 12वें दिन खत्म
25 हजार के कर्ज पर सूद में जुड़ गया पांच लाख, व्यापारी ने लगाई फांसी