पूर्णिया।  अग्निपथ योजना के विरोध में भारत बंद पूरी तरह बेअसर रहा। बेअसर बंद को अग्निपथ योजना को जिले का मौन समर्थन माना जा रहा है। सोमवार को सड़कों पर कहीं भी कोई प्रदर्शनकारी नजर नहीं आए। सड़कों पर केवल वर्दी ही वर्दी दिख रही थी। पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों का काफिला लगातार प्रमुख स्थलों व सड़कों से आता-जाता रहा।

शहर समेत जिले के हर कस्बाई इलाके तक आम दिनों की तरह बाजार खुले रहे और सड़कों पर वाहनों का परिचालन जारी रहा। यद्यपि बंद को लेकर प्रशासनिक स्तर से पूरी एहतियात बरती गई थी। शहर से लेकर प्रखंडों तक हर चौक-चौराहों पर दंडाधिकारी के साथ काफी संख्या में पुलिस बल की तैनाती की गई थी। इसके अलावा जिले में पड़ने वाले हर रेलवे स्टेशनों पर सुरक्षा का अभेद्य इंतजाम किया गया था। पुलिस व प्रशासनिक अधिकारियों की अगुवाई में कई इलाकों में सड़कों पर फ्लैग मार्च किया गया।

सदर अनुमंडल क्षेत्र में एसडीओ राकेश रमण व एसडीपीओ एस के सरोज लगातार हर प्रमुख स्थलों पर पहुंच स्थिति पर नजर रखते रहे। जिलाधिकारी सुहर्ष भगत व पुलिस अधीक्षक लगातार इसकी मानिटरिग करते रहे।