सद्गुरु ने नीतीश कुमार को दी नसीहत, इस तरह के तुच्छ बयानों से बचें

   सद्गुरु ने नीतीश कुमार को दी नसीहत, इस तरह के तुच्छ बयानों से बचें

नेता सद्गुरु जग्गी वासुदेव ने हिंदी को राष्ट्रीय भाषा बताने और एक राजनीतिक बैठक के दौरान अनुवाद के अनुरोध पर अपना आपा खोने के लिए बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार की आलोचना की है। उन्होंने कहा कि राज्यों के भाषाई विभाजन का उद्देश्य यह सुनिश्चित करना था कि भारत में सभी भाषाओं को समान दर्जा मिले, चाहे उन्हें बोलने वाले लोगों की संख्या कुछ भी हो। उन्होंने जद (यू) नेता से भारत की भाषाई विविधता का सम्मान करने का भी आग्रह किया। आध्यात्मिक गुरु ने कहा कि आदरपूर्वक आपसे अनुरोध है कि इस तरह के तुच्छ बयानों से बचें क्योंकि कई राज्य हैं जिनकी अपनी भाषा, साहित्य और संस्कृति है।

इंडिया ब्लॉक की बैठक में विवाद तब पैदा हुआ जब द्रविड़ मुनेत्र कड़गम (डीएमके) नेता टीआर बालू नीतीश कुमार द्वारा हिंदी में दिए गए भाषण को समझने में असमर्थ रहे और अनुवाद के लिए संकेत दिया। राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के राज्यसभा सांसद मनोज झा ने अनुवाद करने की पेशकश की, लेकिन नीतीश कुमार ने उन्हें अस्वीकार कर दिया, जिन्होंने जोर देकर कहा कि हम अपने देश को हिंदुस्तान कहते हैं और हिंदी हमारी राष्ट्रीय भाषा है। हमें भाषा आनी चाहिए। 

नीतीश कुमार के रिएक्शन ने ताजा विवाद को जन्म दिया है। सद्गुरु की फटकार देश में भाषा की राजनीति पर चल रही बहस में नई है।

Tags:

About The Author

Latest News

बलौदाबाजार हिंसा-आगजनी की घटना को बसपा सुप्रीमो मायावती ने असमाजिक तत्वों का कृत्य बताया बलौदाबाजार हिंसा-आगजनी की घटना को बसपा सुप्रीमो मायावती ने असमाजिक तत्वों का कृत्य बताया
रायपुर। बलौदा बाजार मे हुई हिंसा और आगजनी की घटना को बसपा प्रमुख मायावती ने षड्यंत्रकारी असामाजिक तत्वों द्वारा की...
नवनिर्मित अटल आवास में पानी, बिजली की सुविधाओं की मांग
अल्पसंख्यक कांग्रेस ने चुनाव में समर्थन के लिए मुस्लिमों, दलितों और पिछड़ों का आभार व्यक्त किया
मेयर ने कहा विजय नगर में 10 एम एल डी पानी की होगी व्यवस्था
शाहिद कहते हैं योगा में शिरकत कर लखनऊ के बाशिंदों की तहजीब ने मेरा मन मोह लिया
एआरटीओ ने गाड़ी सीजकर डेढ़ लाख रोड टैक्स जमा कराया
आरएमएल निदेशक ने डेंटल लैब का किया उद्घाटन