धमतरी जिले में 20860 मानक बोरा तेंदूपत्ता संग्रहित

धमतरी जिले में 20860 मानक बोरा तेंदूपत्ता संग्रहित

धमतरी। पिछले दो सप्ताह से जिले में तेंदूपत्ता तोड़ाई का कार्य चल रहा है। बेमौसम बारिश व हाथी के दहशत के बीच संग्राहकों ने अब तक 20860 मानक बोरा तेंदूपत्ता तोड़कर संग्रहित कर लिया है, जो लक्ष्य का 82 प्रतिशत है। तेंदूपत्ता तोड़ाई में जिले के 28958 संग्राहकों को रोजगार मिल रहा है। 28 समिति में यह कार्य जारी है। जिले में दो मई से तेंदूपत्ता तोड़ाई व संग्रहण का कार्य शुरू हुआ। यह कार्य शुरू हुए दो सप्ताह पूरा हो चुका है। तेंदूपत्ता तोड़ाई व संग्रहण के कार्याें में तेजी है। वन विभाग से मिली जानकारी के अनुसार धमतरी में अब तक 20860 मानक बोरा तेंदूपत्ता संग्रहित हो चुका है, जो शासन से मिले 26800 मानक बोरा लक्ष्य के 82 प्रतिशत है। इन दिनों तेंदूपत्ता तोड़ाई व संग्रहण कार्य जारी है। क्षेत्र के अछोटा, कुकरेल, छूही, मोहंदी ब, मोहंदी अ, पठार, खड़मा, बिरझुली, डोकाल, चनागांव, बरबांधा, मोंगरागहन, गेदरा, सिंगपुर, मारागांव, जबर्रा, दुगली, राजपुर, गट्टासिल्ली, घोटगांव, बेलरगांव, सेमरा, रतावा, नगरी, अमाली, निर्राबेड़ा, तुमबड़ीबहार और बोराई समिति में यह कार्य जारी है।

उल्लेखनीय है कि तेंदूपत्ता तोड़ाई व संग्रहण का कार्य शुरू होने के छह दिन बाद अंचल में बेमौसम बारिश व आंधी-तूफान हो गई। इससे तेंदूपत्ता तोड़ाई का कार्य बंद कर दिया गया था, लेकिन मौसम खुलने के बाद पुन: यह कार्य शुरू हो गई है, जो लगातार जारी है। लक्ष्य की पूर्ति के लिए अब सिर्फ छह हजार तेंदूपत्ता तोड़ना शेष है, इसके बाद लक्ष्य पूर्ण हो जाएगा। मौसम साथ दिया तो लक्ष्य पूरा हो सकता है, क्योंकि पुन: बारिश होती है, तो लक्ष्य पिछले कुछ अन्य सालों की तरह अधूरा रह सकता है। पिछले दो से तीन सालों तक लगातार वन विभाग को शासन से मिले तेंदूपत्ता तोड़ाई का लक्ष्य पूरा नहीं हो सका है। तेंदूपत्ता संग्रहण के प्रभारी अधिकारी एफएल कोसरिया ने कहा कि तेंदूपत्ता संग्रहण व तोड़ाई का कार्य जारी है। इस साल लक्ष्य की पूर्ति होने की पूरी संभावना है।तेंदूपत्ता तोड़ाई के दौरान एक दंतैल हाथी पैरी नदी पार करके इन दिनों उत्तर सिंगपुर क्षेत्र में विचरण कर रहा है। इससे क्षेत्र के बोदलबाहरा, सरगी, केंवराडीह, पाहंदा, राजपुर, जामली, धनबुड़ा, देवगांव, झाझरकेरा, भालूचुआ और साल्हेभाट क्षेत्र के गांवों में तेंदूपत्ता तोड़ाई व संग्रहण का कार्य फिलहाल हाथी के दहशत के चलते प्रभावित है।


Tags:

About The Author