सड़क दुर्घटना से गुस्साए ग्रामीणों ने राष्ट्रीय राजमार्ग में लगाया जाम

सड़क दुर्घटना से गुस्साए ग्रामीणों ने राष्ट्रीय राजमार्ग में लगाया जाम

अनूपपुर। कोतमा थाना अंतर्गत केशवाही तिराहे पर गुरुवार को एक युवक की कार और ट्रक की भिड़ंत के कारण मृत्यु हो गई थी। इसके बाद लगातार सोशल मीडिया में सड़क में रखे ड्रम और यात्री प्रतीक्षालय हटाने की मांग की जा रही थी। जिसे लेकर शुक्रवार को ग्रामीणों ने राष्ट्रीय राजमार्ग 43 में शव रख कर घंटों चक्का जाम किया। इधर, शुक्रवार को पोस्टमार्टम के बाद युवक का शव राष्ट्रीय राज मार्ग में रखकर रखे गए ड्रम और यात्री प्रतीक्षालय को हटाने के सड़क के पास पड़ोस से झाड़ियां को हटाने की मांग की। वहीं कई घंटे तक राष्ट्रीय राज मार्ग में चक्का जाम होने से आवागमन बाधित रहा। कई घंटे तक चक्का जाम के बाद नगर प्रशासन ने राष्ट्रीय राजमार्ग के समय बने हुए यात्री प्रतीक्षालय को तत्काल हटाया। ज्ञात हो कि राष्ट्रीय राजमार्ग में बने यात्री प्रतीक्षालय और अवरोध के लिए रखे हुए ड्रम एवं अवैध ठेलों के कारण 24 से ज्यादा मौत हो चुकी है। जिससे लेकर नगरी एवं ग्रामीण क्षेत्र की जनता में काफी आक्रोश था। प्रदर्शनकारियों ने बताया कि जब ग्राम पिपरिया से राष्ट्रीय राजमार्ग में आने पर यात्री प्रतीक्षालय होने से कुछ दिखाई नहीं देता जैसे ही राष्ट्रीय राजमार्ग में चढ़ते हैं वैसे से पुलिस द्वारा रखे ड्रम और अवैध ठेलों की वजह दुधर्टना का कारण बनते हैं। जिसे हटाने के लिए सभी लोग एक जुट होकर मांग कर रहें हैं।

यह है पूरा मामला
गुरुवार 30 नवंबर को केशवाही तिराहे पर युवक दीपक भट्ट की कार और ट्रक की भिड़ंत के कारण मृत्यु हो गई थी। इसके बाद लगातार सोशल मीडिया में ड्रम और यात्री प्रतीक्षालय हटाने की मांग की जा रही थी। शुक्रवार सुबह शव के पोस्टमार्टम के बाद कोतमा नगर पालिका और ग्रामीण क्षेत्र की जनता एकत्र होकर शव को राष्ट्रीय राजमार्ग में रखकर विरोध प्रदर्शन करते हुए ड्रम और यात्री प्रतीक्षालय हटानेकी मांग की जिसके बाद प्रशासन ने यात्री प्रतीक्षालय सहित सभी अवरोधों को हटा दिया। तहसीलदार कोतमा ईश्वर प्रधान ने बताया कि ग्रमीणों को सड़क आने पर देखने की परेशानी होती थी जिसे लेकर आपत्ती बताई जिस पर प्रतीक्षालय को हटा कर दूसरी जगह बनाया जाएगा।

 

 

 

Tags:

About The Author