कप्तान नागोंगम बाला देवी के शानदार खेल से मणिपुर ने छत्तीसगढ़ को 4-0 से पराजित किया

कप्तान नागोंगम बाला देवी के शानदार खेल से मणिपुर ने छत्तीसगढ़ को 4-0 से पराजित किया

गाजियाबाद। गाजियाबाद के महामाया स्पोर्ट्स स्टेडियम में खेली जा रही थी 28वीं सीनियर महिला फुटबॉल चैंपियनशिप ग्रुप ए में बुधवार को मणिपुर बनाम छत्तीसगढ़ के बीच मैच खेला गया। मैच शुरू होते ही अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी से सुसज्जित मणिपुर की टीम छत्तीसगढ़ के ऊपर आक्रमण पर आक्रमण करने लगी लेकिन छत्तीसगढ़ की मजबूत रक्षा पंक्ति के आगे कोई भी रणनीति काम नहीं कर रही थी। मणिपुर की टीम आक्रमण शैली से खेल रही थी, जबकि छत्तीसगढ़ की टीम रक्षात्मक शैली से खेल रही थी। लेकिन अंतरराष्ट्रीय खिलाड़ी हेमाम शीलकी कुमारी ने खेल के 45 मिनट में गोल कर कर मणिपुर को 1-0 से आगे कर दिया। मध्यांतर की सीटी बजने पर मणिपुर की टीम 1-0 से आगे थी।

मीडिया पार्टनर आईसीसीपीएल के मीडिया प्रभारी नीरज गुप्ता ने बताया कि दूसरे हाफ का खेल शुरू होते ही मणिपुर की टीम और भी आक्रामक रूप से छत्तीसगढ़ पर आक्रमण करने लगी। खेल के 66 मिनट में हेगरुज दया देवी ने गोल कर बढत 2-0 कर दी। मणिपुर की कप्तान नागोंगम बाला देवी ने 87 एवं 88 मिनट में गोल कर मणिपुर का स्कोर 4-0 कर दिया। आज के मैच की अंतिम सीटी बजाने पर मणिपुर 4-0 से विजयी रही। आज का मैच शुरू होने से पूर्व आज के मुख्य अतिथि ऑल इंडिया फुटबॉल फेडरेशन के चीफ रेफरी ऑफिसर ट्रेवर केटली ने दोनों टीमों से परिचय प्राप्त किया। मुख्य अतिथि का स्वागत मिर्जापुर के सचिव आरिफ नजमी ने शाल पहना कर एवं सुल्तानपुर के सचिव एमएस बेग ने मोमेंटो देकर मुख्य अतिथि का स्वागत किया।

Tags:

About The Author

Latest News

रिम्स में राज्य का पहला सर्जिकल स्किल और वेट लैब स्थापित रिम्स में राज्य का पहला सर्जिकल स्किल और वेट लैब स्थापित
रांची। रिम्स के क्षेत्रीय नेत्र संस्थान में राज्य का पहला सर्जिकल स्किल एवं वेट लैब स्थापित किया गया है। रिम्स...
मुख्यमंत्री चम्पाई सोरेन चार मार्च को जाएंगे गिरिडीह
मतदान के प्रति जागरूक करना हमारी नैतिक जिम्मेवारी: निदेशक
सीआईडी ने दो साइबर अपराधी को किया गिरफ्तार
जबलपुर इंजीनियरिंग कालेज को "टेक्नोलॉजी हब" बनाने की दिशा में हो क्रियान्वयन: मंत्री परमार
मंत्री कृष्णा गौर ने की गुफा मंदिर में महाशिवरात्रि आयोजन की तैयारियों की समीक्षा
अपने लोगों पर गर्व करने की परंपरा करनी होगी विकसित: उच्च शिक्षा मंत्री परमार