जन कल्याण का भी मंच बना गोरखनाथ मंदिर का खिचड़ी मेला

जन कल्याण का भी मंच बना गोरखनाथ मंदिर का खिचड़ी मेला

मनरेगा, निराश्रित महिला पेंशन, निराश्रित, वृद्धावस्था व दिव्यांगजन पेंशन, शादी अनुदान, रोजगार और कृषि से संबंधित आए आवेदनों को किया गया निस्तारित*

×गोरखपुर, । गोरखनाथ मंदिर का प्रसिद्ध खिचड़ी मेला आस्था की अभिव्यक्ति, मनोरंजन और रोजगार का संगम होने के साथ ही जन कल्याण के एक महत्वपूर्ण मंच के रूप में भी उभरा है। मेला परिसर में लगे विभिन्न शासकीय विभागों के स्टालों पर एक माह में बड़ी संख्या में नए लाभार्थियों को जन कल्याणकारी योजनाओं से आच्छादित किया गया है। 

खिचड़ी मेला परिसर में मनरेगा, निराश्रित महिला पेंशन, निराश्रित, वृद्धावस्था व दिव्यांगजन पेंशन, शादी अनुदान, रोजगार और कृषि से संबंधित आए आवेदनों को निस्तारित कर आवेदकों को जीवन की नई राह दिखाई है। खिचड़ी मेला में एक माह के दौरान ग्राम्य विकास विभाग (मनरेगा) के स्टाल पर 2796 आवेदन आए और इन सभी को निस्तारित करते हुए योजना के दायरे में लाया गया। जिला ग्राम्य विकास अभिकरण के स्टाल पर 19 लोगों ने प्रधानमंत्री आवास योजना (ग्रामीण) के तहत आवास देने की गुहार लगाई। इन सभी लोगों का आवास स्वीकृत किया गया है। जिला महिला कल्याण विभाग (जिला प्रोबेशन) के स्टाल पर पति की मृत्यु के बाद निराश्रित महिला पेंशन के लिए आए सभी 15 आवेदनों को निस्तारित कर इन महिलाओं को संबल प्रदान किया गया। जबकि इसी स्टाल पर मुख्यमंत्री कन्या सुमंगला योजना के तहत आए 19 आवेदन निस्तारित किए गए। इस दौरान जिला पिछड़ा वर्ग कल्याण विभाग ने शादी अनुदान के लिए आए 71 आवेदन निस्तारित किए। समाज कल्याण विभाग ने अलग अलग योजनाओं के लिए प्राप्त सभी आवेदनों को निस्तारित करते हुए 1315 लोगों को वृद्धावस्था पेंशन, 130 लोगों को राष्ट्रीय पारिवारिक लाभ योजना और 12 लोगों को दलित उत्पीड़न के मामलों में आर्थिक सहायता का मार्ग प्रशस्त किया। दिव्यांगजन सशक्तिकरण विभाग ने दिव्यांगजन पेंशन के 211, दुकान संचालन योजना के 3 तथा कृत्रिम अंग/सहायक उपकरण की आवश्यकता से जुड़े 10 आवेदनों का संतुष्टिपरक समाधान किया। 

राजकीय उद्यान विभाग को एकीकृत बागवानी मिशन का लाभ प्राप्त करने के लिए 145 लोगों आवेदन मिले, इनमें से 142 आवेदन निस्तारित कर दिए गए। इसी विभाग को प्रधानमंत्री कृषि सिंचाई योजना को प्राप्त 74 आवेदन भी निस्तारित हो गए हैं। कृषि विभाग (भूमि संरक्षण) के पास आए खेत तालाब योजना के एक मामले को भी मंजूरी दी गई। बाल विकास विभाग के स्टाल पर 410181 लोगों को अनुपूरक पुष्टाहार प्राप्त हुआ तो खादी एवं ग्रामोद्योग बोर्ड ने प्रधानमंत्री रोजगार सृजन कार्यक्रम योजना के 14 और मुख्यमंत्री ग्रामोद्योग योजना के तहत आए एक आवेदन को निस्तारित किया। 

गोरखपुर के मुख्य विकास अधिकारी संजय मीना बताते हैं कि मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का निर्देश है कि कोई भी पात्र व्यक्ति शासन की कल्याणकारी योजनाओं के लाभ से वंचित नहीं होना चाहिए। इसके दृष्टिगत गोरखनाथ मंदिर के खिचड़ी मेला में भी व्यापक अभियान चलाया गया। इस दौरान विभिन्न विभागों ने शासन की मंशा को पूरा करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई।

Tags:

About The Author

Related Posts

Latest News