पारम्परिक लोक उत्सव में जीवन्त हुये कला, संस्कृति के विविध रंग

भारतीय संस्कृति की समृद्ध परम्पराओं को सहेजने पर जोर

पारम्परिक लोक उत्सव में जीवन्त हुये  कला, संस्कृति के विविध रंग

बस्ती - गुरूवार को संस्कृति मंत्रालय भारत सरकार के सहयोग एवं लक्ष्मी ग्रामीण विकास सेवा संस्थान के तत्वाधान में एस.पी.पी.वाई. आदर्श शिशु विद्यालय गनेशपुर में दो दिवसीय पारम्परिक लोक उत्सव कार्यक्रम का आयोजन किया गया। कार्यक्रम में नौटंकी, विरहा, चैती, लोक संगीत आदि प्राचीन परम्पराओं के विविध रूपों ने दर्शकोें का मन मोह लिया।
 मुख्य अतिथि जय प्रकाश यादव व संस्था प्रबन्धक सुमन श्रीवास्तव द्वारा मां सरस्वती के प्रतिमा पर माल्यार्पण एवं दीप प्रज्जवलन से कार्येक्रम का आरम्भ हुआ। मुख्य अतिथि ने  जय प्रकाश यादव ने कहा कि पारम्परिक लोक उत्सव कार्यक्रम से भारतीय संस्कृति की समृद्ध परम्पराओं को सहेजने का प्रयास किया जा रहा है। वर्तमान पीढी को प्राचीन परम्पराओं को परिचित कराने के लिए इस तरह के आयोजन निरन्तर किए जाने चाहिए। कहा कि हम अपने लोक संस्कृति की थाती को सहेजे रखना होगा। रविन्द्र यादव ने लुप्त हो रही प्राचीन परम्पराएं, संस्कृति व सभ्यता पर विस्तार से जानकारी दिया। कहा हमें  अपने प्राचीन परम्पराओं को सहेजने की जरूरत है।
कार्यक्रम का आरम्भ काजल कुमारी और रामभवन द्वारा देवी गीत, सरस्वती वंदना से हुआ। इसके बाद विद्यालय के बच्चे रीता, शिवांगी, पुष्पा, चंद्राला, गीता ने सोहर गीत ‘जुग जुग जिया सो ललनवा, भवनवा का भाग जागल हो’ प्रस्तुत किया जिसने सबका मन मोह लिया। विद्यालय की छात्राओं ने ‘रंग खेलन जब सखि साजन सावरिया’ गीत के साथ काजल और शिवांगी ने मनमोहक नृत्य प्रस्तुत किया। कलाकार रागिनी द्वारा भी सुन्दर नृत्य पेश किया जिसे लोगों द्वारा खूब सराहना मिली।  लक्ष्मी ग्रामीण विकास सेवा संस्थान की अध्यक्ष सुमन श्रीवास्तव, मुन्ना, मनीष, लतीफ, रविन्द्र नाथ राम, भगवान आदि द्वारा प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया गया।
इस अवसर पर रीता, अनिल, संतोष विश्वकर्मा, सूरज, नीरज, राजकुमारी सोना, रेनू, विकास, विवेक, अंकित लाल, माया देवी के साथ ही बड़ी संख्या में लोग उपस्थित रहे।

5

Tags:

About The Author

Sarvesh Srivastava Picture

सर्वेष श्रीवास्तव, उत्तर प्रदेश के बस्ती जनपद के ब्यूरो प्रमुख

Latest News

ऐप के रूप में डाउनलोड कर सकेंगे विक्रमादित्य वैदिक घड़ी ऐप के रूप में डाउनलोड कर सकेंगे विक्रमादित्य वैदिक घड़ी
उज्जैन। उज्जैन में जीवाजी वैधशाला परिसर में नवस्थापित विक्रमादित्य वैदिक घड़ी को देखने बड़ी संख्या में लोग पहुंच रहे है।...
अबू धाबी में कृषि और मत्स्य पालन पर सहमति के बिना डब्ल्यूटीओ वार्ता समाप्त
उज्जैन: ऐप के रूप में डाउनलोड कर सकेंगे विक्रमादित्य वैदिक घड़ी
राहुल गांधी की भारत जोड़ो न्याय यात्रा आज मुरैना जिले से करेगी मप्र में प्रवेश
झारखंड विधानसभा में सत्ता पक्ष और विपक्ष के विधायकों का हंगामा
जिला अस्पताल परिसर में सरकारी दवाएं कूड़े के ढेर पर पड़ी मिली
बागेश्वर धाम में 108 कुंडीय अति विष्णु महायज्ञ शुरू