बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित के आश्रम पर छापा, 7 तालों में कैद मिलीं लड़कियां

लखनऊ। अभी तक आप ने बाबा राम रहीम सहित कई पाखंडी बाबाओं के किस्से सुनें होंगे। लेकिन हम एक और ऐसे बाबा के बारे में बताने जा रहे हैं जिसे सुनकर आप के रोंगटे खड़े हो जायेंगे। ये बाबा लड़कियों को सात तालों के भीतर कैद करके उनका शारीरिक शोषण करता था। इतना ही नहीं ये बाबा आध्यात्मिक आश्रम पर अश्लीलता करता था। इस कलयुगी बाबा के खिलाफ दिल्ली में बलात्कार का केस दर्ज है। पुलिस ने आश्रम से भारी मात्रा में शक्तिवर्धक दवाएं और आपत्तिजनक सामग्री बरामद की है। पुलिस पूरे मामले की पड़ताल कर रही है।

बिना रजिस्ट्रेशन के चल रहा आश्रम
सीओ सिटी राघवेंद्र सिंह ने बताया कि पुलिस को सूचना मिली थी कि आश्रम में नाबालिग लड़कियों को उनकी मर्जी के बगैर बंधक बनाकर रखा जा रहा है। इसी सूचना पर शहर के सर्वोदय नगर इलाके में स्थित ‘आध्यात्मिक विश्वविद्यालय’ संस्था के आश्रम में पुलिस ने छापेमारी की कार्रवाई की। वहां करीब 2 घंटे तक वहां पर मौजूद दर्जनभर सेविकाओं से पूछताछ की गयी। आश्रम के सभी कमरों की तलाशी ली गयी। आफिस के कंप्यूटर को खंगाला और संस्था के दस्तावेज भी जांचे गए। मौके से एक व्यक्ति को पूछताछ के लिए पुलिस अपने साथ ले गयी है। पुलिस ने बताया कि यहां की यह संस्था रजिस्टर्ड नहीं है। संस्था से सम्बंधित कोई भी दस्तावेज नहीं मिले हैं। मामला दर्ज कर आगे जांच जारी रहेगी।

मकान मालिक को पूछताछ के लिए ले गई पुलिस
आपको बता दें कि बांदा के सर्वोदय नगर स्थित ‘आध्यात्मिक विश्वविद्यालय’ आश्रम में करीब 11 बजे भारी मात्रा में पुलिस फोर्स आ धमकी। आसपास तमाशा देखने वालों का मजमा लग गया। संकरी गली के सबसे आखिरी छोर में स्थित दो मंजिला इमारत के बाहर काफी सरगर्मी थी। अंदर महिला पुलिस जैसे ही दाखिल हुए, वहां करीब 9 सेविकाएं पुलिस को मिल गयीं। बारी-बारी से सभी से पूछताछ कर सभी से जानकारी जुटायी गयी। सेविकाओं ने बताया कि यहां अभी करीब 9 सेविकाएं हैं। पुलिस को सभी जानकारी दे दी गयी हैं। यह भी बताया कि आश्रम बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित का है। लेकिन वह यहां कभी आये नहीं हैं। यह आश्रम एक किराये के मकान में संचालित है। पुलिस ने बताया कि मामला गंभीर है इसलिए FIR दर्ज कर आगे जांच जारी रहेगी। फिलहाल मकान मालिक को पूछताछ के लिए पुलिस अपने साथ ले गयी है।

गेट खोलते ही अंदर घुसी पुलिस
एक सेविका ने बताया कि हम लोगों ने जैसे ही गेट खोला सारा फोर्स अंदर आ गया। पूरा घर में घुस के पूछताछ किया। सारा घर में घुस के एक एक चीज देख लिए हैं। आश्रम का नाम आध्यात्मिक विश्वविद्यालय है। वीरेंद्र देव दीक्षित से संबंधित है यह आश्रम। वह आश्रम के बड़े भाई हैं। अभी यहां इतनी ही सेविकाएं हैं, सभी लोकल के हैं। पुलिस ने सबसे पूछताछ की सबने बताया कि वह बालिग हैं।

क्या कहते हैं जिम्मेदार
इस मामले में सीओ सिटी ने बताया कि सूचना सुबह आयी थी कि यहां एक संस्था में कुछ नाबालिग लड़कियों को उनकी मर्जी के बगैर रखा जाता है। गंभीर किस्म का मामला था। महिला पुलिस के साथ यहां छापा मारा गया है। अभी तक कि जांच से ऐसा प्रत्यक्ष रूप से मिला नहीं है। आगे FIR दर्ज कर जांच जारी रहेगी। ये आध्यात्मिक विवि का आश्रम है। अभी रजिस्ट्रेशन इन्होंने दिखाया नहीं है। अभी कोई विवादित सामान नहीं मिला है। बाबा वीरेंद्र देव दीक्षित के कनेक्शन की जांच की जाएगी।

=>
loading...
E-Paper