यह चुनाव स्वार्थी परिवार व मोदी परिवार के बीच:योगी

यह चुनाव माफियाराज बनाम कानून के राज में: सीएम योगी

यह चुनाव स्वार्थी परिवार व मोदी परिवार के बीच:योगी

बदायूं क्लब में आयोजित प्रबुद्ध वर्ग सम्मेलन में सीएम योगी का जोरदार स्वागत मोदी ने देश को एक संकल्प के साथ अमृतकाल में जोड़ा

बदायूं । मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने भाजपा के प्रबुद्धजन सम्मेलन में न केवल केंद्र सरकार की योजनाओं का बखान किया बल्कि विरोधी दलों पर भी जमकर बरसे। मंगलवार को बदायूं क्लब में आयोजित भाजपा के प्रबुद्धजन सम्मेलन में मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि विकसित भारत के लिए विकसित उत्तर प्रदेश आवश्यक है और विकसित उत्तरप्रदेश के लिए विकसित बदायूं जरूरी है। उन्होंने बदायूं के विकास में दातागंज में लगे एथेनॉल प्लांट का जिक्र किया तो गंगा एक्सप्रेस वे को भी बदायूं के विकास में अहम बताते हुए कहा कि इससे न केवल बदायूं का विकास होगा बल्कि यहां के युवाओं को नौकरी भी मिलेगी। बदायूं से दिल्ली और प्रयागराज का सफर केवल तीन घंटे में होगा। लोगों से सवाल किया कि क्या ये सपा, बसपा और कांग्रेस के लोग कर पाते।

उन्होंने कहा कि अब तक देश की सीमाएं असुरक्षित थीं। कहीं उग्रवाद तो कहीं आतंकवाद और नक्सवाल था। उन्होंने कहा कि पहले गरीबों के हक पर डकैती डाली जा रही थी लेकिन अब ऐसा नहीं है। तीन तलाक, राममंदिर निर्माण, कश्मीर में 370 का जिक्र करते हुए कहा कि लोगों को यह असंभव लगते थे लेकिन मोदी ने यह करके दिखा दिया। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने समाजवादी पार्टी पर जमकर हमला बोला। उन्होंने कहा कि सपा प्रत्याशी बदायूं के मैदान छोड़कर भाग रहे हैं। पहले एक आए थे, जो छोड़कर चले गए। दूसरे भी जाने की तैयारी में हैं। उन्होंने कहा कि यह चुनाव माफियाराज बनाम कानून के राज में है। भारतीय जनता पार्टी कानून के राज में विश्वास करती है।

कानून के राज को स्थापित करने में विश्वास करती है। उन्होंने कहा कि यह चुनाव जातिवाद बनाम गरीबों के कल्याण का चुनाव है। आपके सामने चुनाव में एक तरफ भ्रष्टाचारी होंगे तो दूसरी तरफ देश के लिए काम करने वाली भाजपा होगी।  वहीं दूसरी तरफ मंच पर राज्यमंत्री गुलाबदेवी के साथ सांसद संघमित्रा मौर्य भी बैठीं थीं लेकिन वह बैठे बैठे ही रो पड़ीं। हालांकि उनके रोने का कारण तो स्पष्ट नहीं हुआ लेकिन माना जा रहा है कि टिकट कटने के कारण ही ऐसा हुआ। पास बैठी गुलाबदेवी ने भी इसका कोई संज्ञान नहीं लिया तो सांसद वहां से उठकर चलीं गईं। किसी अन्य ने भी उनसे यह पूछने की जहमत नहीं उठाईं कि उनके रोने का कारण क्या रहा। वीडियो वायरल होने के बाद सांसद संघमित्रा मौर्य ने कहा कि एक कहानी को सुनकर वो भावुक हो गईं थीं।

Tags: Naitinol

About The Author

Latest News