एनसीआरटीसी को रिसीविंग सबस्टेशन और आरआरटीएस स्टेशन के लिए मिली सर्वोच्च, प्लेटिनम रेटिंग

एनसीआरटीसी को रिसीविंग सबस्टेशन और आरआरटीएस स्टेशन के लिए मिली सर्वोच्च, प्लेटिनम रेटिंग

गाजियाबाद। एनसीआरटीसी को दिल्ली-गाजियाबाद-मेरठ के बीच क्रियान्वित किए जा रहे भारत के पहले रीजनल रैपिड ट्रांजिट सिस्टम (आरआरटीएस) के गाजियाबाद रिसीविंग सबस्टेशन (आरएसएस) और साहिबाबाद आरआरटीएस स्टेशन के लिए प्रतिष्ठित ''प्रोजेक्ट अवार्ड'' की सर्वोच्च रेटिंग, प्लेटिनम रेटिंग से सम्मानित किया गया है। यह प्लेटिनम रेटिंग इंडियन ग्रीन बिल्डिंग काउंसिल (आईजीबीसी) द्वारा चेन्नई में आयोजित ग्रीन बिल्डिंग कांग्रेस 2023 में दी गई। प्लेटिनम रेटिंग आईजीबीसी द्वारा दी जाने रेटिंग्स में सर्वोच्च रेटिंग है।

एनसीआरटीसी के प्रवक्ता पुनीत वत्स ने बताया कि पर्यावरण संरक्षण की ओर कदम बढ़ाते हुए एनसीआरटीसी ने आरआरटीएस परियोजना के अंतर्गत कई पर्यावरण-अनुकूल पहल की हैं। इसी श्रृंखला में, डिपो, स्टेशन, रिसीविंग सबस्टेशन (आरएसएस) और आवासीय परिसरों सहित सभी प्रमुख प्रतिष्ठानों को आईजीबीसी के साथ पंजीकृत किया गया है, जो उच्चतम पर्यावरणीय स्थिरता मानकों को बनाए रखने के एनसीआरटीसी के मिशन के अनुकूल है। यह अवार्ड एनसीआरटीसी की स्थापना के बाद से ही सतत विकास के प्रति उसकी अटूट प्रतिबद्धता को दर्शाता है।

परियोजना की संकल्पना से लेकर इसके कार्यान्वयन तक, एनसीआरटीसी निरंतर पर्यावरण-अनुकूल प्रक्रियाओं को अपनाता रहा है। प्री-डिज़ाइन चरण से शुरू होकर, निर्माण के प्रत्येक चरण में निम्न कार्बन उत्सर्जन को सुनिश्चित करना संस्था की प्राथमिकता रही है। फ्लाई ऐश ईंटों का उपयोग, कंस्ट्रक्शन और डिमोलिशन वेस्ट का प्रभावी निपटान, हवादार और आरामदायक बिल्डिंग इंटीरियर का निर्माण, ऊर्जा-कुशल डिजाइन, वर्षा जल संचयन प्रणालियों का कार्यान्वयन और सौर ऊर्जा का व्यापक उपयोग जैसी तमाम पहल, सतत विकास के प्रति एनसीआरटीसी की प्रतिबद्धता की उदाहरण हैं।

साहिबाबाद और गाजियाबाद आरएसएस के साथ-साथ वायाडक्ट के नीचे के स्थान में विस्तृत लैंडस्केपिंग के प्रयास, उस समग्र दृष्टिकोण में योगदान करते हैं जो परियोजना के निर्माण और परिचालन चरणों के दौरान ऊर्जा की खपत और कार्बन फुटप्रिंट को काफी कम कर देता है।उन्होंने बताया कि आईजीबीसी द्वारा प्रदान की गई यह प्रतिष्ठित प्लेटिनम रेटिंग एनसीआरटीसी के सतत विकास के प्रति दृढ़ समर्पण को दिखाती है, जो वैश्विक पर्यावरण संरक्षण लक्ष्यों के अनुरूप हरित और सतत भविष्य बनाने की दिशा में एक माइलस्टोन है।

2001 में स्थापित, आईजीबीसी, सीआईआई का एक स्वायत्त गैर-लाभकारी निकाय है, जो सक्रिय रूप से सतत प्रयासों को प्रोत्साहित करता है और कार्बन उत्सर्जन के पर्यावरणीय प्रभाव को कम करने के लिए कार्यरत है। सर्वोत्तम अंतरराष्ट्रीय प्रक्रियाओँ का उपयोग करते हुए, आईजीबीसी कार्यालयों, इमारतों, कारखानों और मास रैपिड ट्रांसिट सिस्टम्स सहित विभिन्न श्रेणियों को रेटिंग प्रदान करता है, जिससे पर्यावरण संरक्षण में सहयोग मिलता है।
एनसीआरटीसी भारत में शहरी परिवहन में क्रांतिकारी बदलाव लाने के अपने दृष्टिकोण पर दृढ़ है और इस परिवर्तनकारी यात्रा के प्रमुख स्तंभों के रूप में सतत विकास और नवाचार पर जोर देता है

Tags: Ghaziabad

About The Author

Latest News

प्रेक्षक (व्यय) द्वारा एफ0एस0टी0 एवं एस0एस0टी0 टीमों का किया गया औचक निरीक्षण प्रेक्षक (व्यय) द्वारा एफ0एस0टी0 एवं एस0एस0टी0 टीमों का किया गया औचक निरीक्षण
संत कबीर नगर ,24 मई 2024 (सूचना विभाग)। लोक सभा सामान्य निर्वाचन-2024 को सकुशल सम्पन्न कराने हेतु भारत निर्वाचन आयोग...
रिटर्निंग आफिसर/जिला मजिस्ट्रेट व पुलिस अधीक्षक की देख-रेख में पोलिंग पार्टियां हुई रवाना।
छठे चरण के मतदान को लेकर सुरक्षा के पुख्ता इंतजाम
मतदान दिवस के अवसर पर कल 25 को सभी औद्योगिक प्रतिष्ठान बंद रहेंगे
रिमोट सेन्सिंग में मनाया अन्तर्राष्ट्रीय जैव विविधता दिवस
सब-वे निर्माण के चलते ट्रेनें प्रभावित
तस्करी के सोने की लूट के अभियोग में वांछित 02 अभियुक्त गिरफ्तार।