नई सरकार बनने के बाद तय होगी महाकाल की दर्शन व्यवस्था

नई सरकार बनने के बाद तय होगी महाकाल की दर्शन व्यवस्था

उज्जैन। दुनिया भर में प्रसिद्ध ज्योतिर्लिंग महाकाल मंदिर में नए साल में हर वर्ष श्रद्धालुओं की भीड़ उमड़ती है। इस वर्ष भी 25 दिसंबर से 4 जनवरी तक आस्था उमड़ेगी। देश से हजारों श्रद्धालु भगवान महाकाल के दर्शन व श्री महाकाल महालोक को देखने के लिए आएंगे। श्रद्धालुओं के लिए दर्शन व्यवस्था लागू की जाना है। पर स्थिति ये है कि नई सरकार बनने के बाद ही इस व्यवस्था के बारे में तय हो सकेगा। अधिकारी नई सरकार बनने के बाद ही दर्शन सहित अन्य व्यवस्थाएं तय करने की बात कह रहे हैं। मंदिर प्रबंध समिति की बैठक में दर्शन व्यवस्था को लेकर महत्वपूर्ण निर्णय हो सकते हैं। सशुल्क दर्शन का भी निर्णय लिए जा सकता है। चुनाव आचार संहिता खत्म होने के बाद मंदिर प्रबंध समिति की बैठक हो सकेगी। फिलहाल तो ये माना जा रहा है कि नए साल में श्रद्धालुओं को नंदी, गणेश व कार्तिकेय मंडपम से ही भगवान महाकाल के दर्शन कराए जाएंगे। श्रावण मास से गर्भगृह में आम श्रद्धालुओं का प्रवेश बंद है।

Tags:

About The Author

Latest News

राष्ट्रीय लोक अदालत के मद्देनजर बैठक आयोजित  राष्ट्रीय लोक अदालत के मद्देनजर बैठक आयोजित 
गोपालगंज, व्यवहार न्यायालय परिसर में आयोजित होने वाले राष्ट्रीय लोक अदालत की सफलता हेतु शुक्रवार  को जिला एवं सत्र न्यायाधीश-सह-अध्यक्ष...
राहुल अखिलेश संदेश रथ पहुंचा गोपालगंज 
सांसद ने मुहैया कराए 2009 वृद्धजनों को जीवन सहायक उपकरण
अमेरिका के न्यूयॉर्क की एक बिल्डिंग में लगी भीषण आग
सरकार की छवि धूमिल होते देख करणी सैनिकों ने एआरटीओ को दिया अल्टीमेटम
इलेक्ट्रॉनिक वोटिंग मशीन को लेकर राज ठाकरे ने कहा ”ईवीएम की जगह बैलेट पेपर से वोटिंग होनी चाहिए
UP: सिपाही भर्ती पेपर लीक: जाने कहां से हुई चूक