दुल्हन की तरह सजी अयोध्या, मानवता की धरती है—योगी आदित्यनाथ

अयोध्या-फैजाबाद। अयोध्या मानवता की धरती है। दुनिया को अयोध्या ने रामराज का पाठ पढ़ाया है। देव दीपोत्सव मानाकर हम लोगों को त्रेतायुग से जोड़ रहे हैं। आज वही परिदृश्य दिखाई दे रहा है जब राम चैदह वर्ष वनवास काटकर अयोध्या वापस लौटे थे। हमारा प्रयास है कि अयोध्या के नाम पर लगाया जाने वाला प्रश्चनचिन्ह बंद हो और रामराज की परिकल्पना साकार होती दिखाई पड़े। रामकथा पार्क में आयोजित देव दीपावली उत्सव के भव्य मंच से उक्त उद्गार उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने व्यक्त किया। उनके साथ मंचन पर उत्तर प्रदेश मंत्रिमण्डल के सभी मंत्री, सांसद, विधायकगण के अतिरिक्त सूबे के राज्यपाल रामनाईक भी उपस्थित रहे।

राज्यपाल राम नाईक ने अपने संक्षिप्त सम्बोधन में कहा कि बाल्मीकि ने रामायण लिखा और पूरी दुनिया को प्रभु राम के जीवन के सम्बन्ध में बताया। मै मध्य प्रदेश का हूं, मध्य प्रदेश के अश्वनी बाल्मीकि ने भी रामायण लिखा जो अनेक भाषाओं में अनुवाद हुआ। उन्होंने लिखा कि आज के दिन ही राम अयोध्या आये थे पुष्पक यान से जब राम उतरे तब धरती स्वर्ग के समान लगने लगी। आज का यह पुनीत दिन स्वर्णिम दिन है।

मुख्मयंत्री योगी ने अपने सम्बोधन में आगे कहा कि रामराज की परिकल्पना को साकार करने वाली अयोध्या क्यों विकसित नहीं हुई, अयोध्या को लेकर नकारात्मक चर्चा क्यों होती रही, यह बहुत बड़ा सवाल है। हमारा उद्देश्य है कि अयोध्या नगर के विकास में जनता सहभागी बने, देव दीपोत्सव योजना का पहला चरण है आगे और चरण होने है। देश आजादी का 70 साल पूरा कर चुका है। यशस्वी प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी चाहते हैं कि भारत समथ्र्य और सशक्त देश की ओर बढ़े उनका प्रयास सराहनीय है और हमें प्रेरणा देता है। दीपोत्सव पर देश और दुनिया की निगाहें अयोध्या पर टिकी हैं अयोध्या स्वयं विकसित हो यह हमारा प्रयास है।

अयोध्या लगातार झेलती रही है। यहां के विकास के लिए आज हमने 135 करोड़ धनराशि की योजनओं का शिलान्यास किया है। अयोध्या के सभी घाटों सहित पूरी अयोध्या का सुन्दरीकरण कराया जायेगा। यही नहीं सरकार की मंशा है कि प्रदेश की सभी धर्मनगरी अयोध्या, काशी, मथुरा, नैमिषारण्य, मिर्जापुर के अतिरक्त पुरातत्व महत्व के सभी स्थलों का विकास हो, देश और दुनिया का अयोध्या हब बने यह प्रयास हम कर रहे हैं।
हमारा प्रयास है कि अयोध्या पुनः पुराने वैभव के साथ कायम हो। उन्होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी सभी के कल्याण का कार्य कर रहे हैं उनकी मंशा है कि हर घर में शौंचालय हो, सभी गरीबों के घर में बिजली मिले, किसी घर में कोई बेरोजगार न हो, माताएं रसाई गैस पर खाना पकायें यही गरीबों के लिए रामराज है। हम मानवता और कल्याण का कार्य कर रहे हैं अयोध्या के विकास के लिए केन्द्र सरकार के सहयोग से योजनाओं को मूर्तरूप देने का कार्य प्रदेश सरकार करेगी।

इसके बाद मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ और राज्यपाल राम नाईक अयोध्या सरयू तट पर पहुंचे और वहां अयोजित सरयू आरती में हिस्सा लिया। सरयू आरती के बाद राम की पैड़ी और नयाघाट पर 1 लाख 71 हजार मिट्टी के दियों को जलाया गया। तट के मन्दिरों को रंग बिरंगी रोशनियों से इस तरह सजाया गया था कि पहलीबार अयोध्या अपने नये रूप में दिखाई पड़ रही थी। संध्याकाल श्रीलंका और इण्डोनेशिया से आये रामलीला दल ने रामलीलाओं का मंचन किया।

=>
loading...
E-Paper