लड़कियो को क्यो भाता है सावन सोमवार का व्रत

सावन सोमवार का व्रत लड़कियो को इसलिए भाता है क्योकि कहते है य​ह व्रत रखने से विवाह योग्य लड़कियो को इच्छित वर मिलता है इसलिए खासतौर पर लड़कियों को सोमवार के उपवास रखते हुए देखा गया है।


हिंदु धर्म में ऐसी मान्यता है कि भोले नाथ सभी भगवानों में जल्द मनोकामना पूर्ति करते हैं और अपने भक्तों को मनचाहा वरदान देते हैं। पार्वती ने भी भगवान शिव को पाने के लिए कई वर्षों तक शिवलिंग की कड़ी तपस्या की थी। इसके बाद वह भगवान शंकर को मना पाई थी।
यह शिव उपासना से कामनासिद्धि के लिए प्रसिद्ध है। खासतौर पर शिव भक्ति के विशेष काल सावन महिने के सोमवार साल भर के सोमवार व्रतों का पुण्य देने वाले माने गए हैं। माना जाता है जब सती ने अपने पिता दक्ष के निवास पर शरीर त्याग दिया था। उससे पूर्व महादेव को हर जन्म में पति के रूप में पाने का प्रण किया था। पार्वती ने सावन के महीने में ही निराहार रह कर कठोर तप किया और भगवान शिव को पा लिया। इसलिए यह मास विशेष हो गया और सारा वातावरण शिवमय हो गया।
इस अवधि में विवाह योग्य लड़कियां इच्छित वर पाने के लिए सावन के सोमवारों पर व्रत रखती हैं। इसमें भगवान शिव के अलावा शिव परिवार की अर्थात् माता पार्वती, कार्तिकेय, नंदी और गणेश जी की भी पूजा की जाती है। गोमती नगर निवासी पं. गोविंद मिश्रा बताते हैं कि सावन के व्रत स्त्री पुरुष दोनों ही रख सकते हैं। सोमवार को उपवास रखना श्रेष्ठ माना गया है परंतु जो नहीं रख सकते वे सूर्यास्त के बाद एक समय भोजन ग्रहण कर सकते हैंं।

loading...
=>

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

*

E-Paper