अपने फोन में मौजूद वायरस को आसानी से करें चेक…

नई दिल्ली: एंटी वायरस बनाने वाली कंपनी नॉर्टन के अनुसार, iOS को एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम के मुकाबले अधिक सुरक्षित माना जाता है। हालांकि यह अतिरिक्त सुरक्षा उतनी विश्वसनीय नहीं हो सकती जितना यूजर्स उसे मानते हैं।

आईफोन में भी आ सकता है वायरस
सुरक्षा विशेषज्ञों के अनुसार, यह पता चला है कि iPhone में भी वायरस आ सकता है। हालांकि सामान्य रूप से iPhone में वायरस आने की संभावना बहुत कम रहती है। ऐसा इसलिए, क्योंकि आईफ़ोन का ऑपरेटिंग सिस्टम इस प्रकार डिज़ाइन किया गया है, जिससे किसी वायरस को विंडोज या एंड्रॉइड ऑपरेटिंग सिस्टम के मुकाबले असानी से फोन के अंदर आने की अनुमति नहीं मिलती। लेकिन इसका मतलब यह भी नहीं है कि यह असंभव है और आईफोन में कभी कोई वायरस आ नहीं सकता है।

विशेषज्ञ यह भी कहते हैं स्मार्टफ़ोन का मैलवेयर से संक्रमित होने का सबसे आम तरीका malicious ऐप के जरिये ही हो सकता है। इस तरह की ऐप्स ज्यादतर अनौपचारिक रूप से थर्ड पार्टी ऐप स्टोर से डाउनलोड की जाती हैं। इन नकली ऐप्स में यूजर्स के आईफोन पर मैलवेयर को स्वचालित रूप से लोड करने की क्षमता हो सकती है। इतना ही नहीं इन ऐप्स का प्रयोग डिवाइस को प्रभावी ढंग से कमांड देने और संवेदनशील व्यक्तिगत और वित्तीय जानकारी की चोरी करने के लिए भी किया जा सकता है। iPhone यूजर्स को इन परेशानियों से बचाने वाली ऐप्स Apple के आधिकारिक ऐप स्टोर पर उपलब्ध रहती हैं, जहां से इन्हें डाउनलोड किया जा सकता है।

अब सवाल यह उठता है कि अगर iPhones के पास सुरक्षा के ऐसे फीचर्स हैं, तो आईफोन में कैसे वायरस आ सकता है। विशेषज्ञ कहते हैं आईफ़ोन को जेलब्रेक किया जा सकता है, इससे उनके डिवाइस को मैलवेयर से संक्रमित होने का काफी खतरा बन जाता है। क्योंकि जेलब्रेक डिवाइस यूजर्स ऐपल के आधिकारिक ऐप स्टोर के साथ कई अन्य ऐप स्टोर से भी ऐप्स डाउनलोड कर सकते हैं। गैरआधिकारिक ऐप स्टोर से डाउनलोड हुई ऐप्स में सुरक्षा के मापदंडों का पालन नहीं किया जाता है, इसके साथ ही इन ऐप्स में अक्सर जानबूझकर मालवेयर को लोड किया जाता है। यदि आपके पास जेलब्रेक डिवाइस है तो अपने iPhone गोपनीयता सेटिंग्स (privacy settings)की जांच करें और चेक करें कि सब कुछ सही है।

वायरस के लिए आईफ़ोन की जाँच कैसे करें
यदि आपका iPhone ठीक नहीं चल रहा है और आपको शक है कि इसमें वायरस हो सकता है। ऐसे हालत में आप अपने आईफोन की जांच कर सकते हैं। यदि आपने अपने फोन को जेलब्रेक कर दिया है तो हो सकता है कि इसमें वायरस आ चुका है।
अगर आपके आईफोन की होम स्क्रीन पर कोई ऐसी ऐप्स दिख रही हैं जिन्हें आपने डाउनलोड नहीं किया है या आपकी ऐप्स लगातार क्रैश हो रही हैं, तब भी फोन में मालवेयर संक्रमण मौजूद हो सकता है। ऐसे में आप इस प्रकार की ऐप को फोन से तुरंत अनइंस्टॉल कर दें। आपको अपने iphone की सेटिंग्स में जाएँ और अपने डेटा उपयोग पर भी नज़र डालें। यदि यह आपके यूसेज से अधिक है या आपके वास्तविक डेटा उपयोग से मेल नहीं खाता है, तब भी आपके iPhone में वायरस मौजूद हो सकता है।

See also  Redmi Note सीरीज के लेटेस्ट मॉडल के तौर पर लॉन्च किया...