बच्चों से पहले लगवाते हैं झाड़ू , फिर शुरू होती है पढ़ाई!

-बीकेटी के इटौंजा स्थित सरकारी स्कूलों में बच्चों से कराई जाती है साफ-सफाई
-स्थानीयजनों का आरोप, तय समय से नहीं खुलते हैं स्कूल, शिक्षक करते हैं मनमानी

बीकेटी लखनऊ। सूबे की योगी सरकार सरकारी विद्यालयों पर करोड़ों खर्च कर रही है ताकि देश का भविष्य बच्चे अच्छी शिक्षा ग्रहण करें और कल देश की प्रगति में अपना महत्वपूर्ण ायोगदान दें। लेकिन राजधानी लखनऊ के बीकेटी क्षेत्र के इटौंजा में शिक्षा अधिकारी व शिक्षकों की हीलाहवाली से स्कूल समय से नहीं खुल पा रहे हैं और स्कूल में नन्हे-मुन्ने बच्चों से झाड़ू लगाकर साफ-सफाई कराई जा रही है। इस तरह देश का भविष्य सरकारी स्कूलों में कैसे मजबूत हो पाएगा। आपको बता दें इटौंजा क्षेत्र के प्राथमिक व पूर्व माध्यमिक विद्यालय समय से नहीं खुलता है।

शिक्षा विभाग के अधिकारियों का इस ओर कोई ध्यान भी नहीं जा रहा है। जबकि एक ओर यूपी सरकार प्राथमिक विद्यालय में अच्छी शिक्षा दिलाने का वादा करती है वहीं दूसरी इन विद्यालयों में तैनात शिक्षक अपनी मनमानी से विद्यालय चला रहे हैं। इन विद्यालय में तैनात शिक्षकों को सैलरी तो अच्छी चाहिए लेकिन छात्र छात्राओं को समय से शिक्षा नहीं दे सकते। यह विद्यालय सुबह देरी से खुलते हैं। इस संबंध में विभागीय अधिकारियों से बातचीत की गई तो उन्होंने यह कहकर पल्ला झाड़ लिया की कार्रवाई की जाएगी लेकिन जिम्मेदार अधिकारी सिर्फ इस तरह का बयान देकर अपना पल्ला झाड़ लेते है। हालांकि सूत्रों का कहना है कि अधिकारियों की अनदेखी के  चलते ही इन विद्यालयों में तैनात शिक्षकों की मनमानी चल रही हौ।

See also  कैंसर संस्थान अक्टूबर, 2019 तक होगा क्रियाशील

प्राथमिक विद्यालय में शिक्षकों द्वारा बच्चों से झाड़ू लगवाने का मामला प्रकाश में आया है। यहां के विद्यालय में शिक्षकों द्वारा बच्चों से विद्यालय में झाड़ू लगवाई जाती है। इस संबंध में शिक्षा अधिकारी से बात की गई तो खंड शिक्षा अधिकारी ने कहा कि कार्यवाही करेंगे यह कहकर मामले से पल्ला झाड़ लिया। प्राइमरी विद्यालय में तैनात शिक्षक छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ कर रहे उन्हें शिक्षा ना देकर उनके भविष्य को अंधकारमय बना रहे हैं। वैसे गौर हो कि बीकेटी के कई विद्यालयों में अव्यवस्थाओं और बच्चों से काम कराने का मामला सामने आया है। कई प्राथमिकविद्यालयों में बच्चों से साफ-सफाई कराने का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हो रहा है। नौनिहालों का भविष्य संवारने के लिए सरकार भले ही तमाम कोशिशें कर रही हो, लेकिन सरकारी  स्कूलों के जिम्मेदार अधिकारी व कर्मचारी सरकारी की योजनाओं पर बट्टा लगाने का काम कर रहे हैं। बीकेटी ब्लॉक के इटौंजा में स्थित प्राथमिक विद्यालय तथा पूर्व माध्यमिक विद्यालय में अध्यापकों के देरी से आने की बात सामने आई। आरोप है कि विद्यालय में निर्धारित समय के बाद भी शिक्षक नहीं आते हैं। स्कूली मे बच्चे साफ-सफाई करते हुए दिखाई दे रहे हैं। जानकारी के अनुसार स्कूली बच्चे स्कूल में आने के बाद स्वयं झाड़ू लगाते हैं उसके बाद पढ़ाई करते हैं। दुबे जुबां यह भी बताया जा रहा है कि विद्यालय में बच्चों से झाडू लगवाई जाती है। यदि कोई बच्चा मना करता है तो डांटा जाता है। इससे अभिभावकों में खासी नाराजगी है, मगर अपने बच्चों की पढ़ाई को लेकर वो भी स्कूल के शिक्षकों से कुछ भी खुलकर नहीं पूछ पाते।

See also  अमृत महोत्सव के बहाने जनता का पैसा बहा रही भाजपा

बाक्स-:
क्या बोले जिम्मेदार…
बीजेपी के क्षेत्रीय विधायक योगेश शुक्ला ने इस मुद्दे पर कहा कि आपके द्वारा मामला संज्ञान में आया है जांच कराकर दोषियों के विरूद्ध कार्रवाई की जाएगी। खंड शिक्षा अधिकारी प्रीति शुक्ला ने बताया कि बच्चों को अपने आसपास के वातावरण की साफ-सफाई करने के लिए सिखाया जा रहा है। विद्यालय बच्चों का घर है घर की सफाई में सभी का योगदान रहता है जबकि वहीं उप जिलाधिकारी बख्शी का तालाब द्वारा बताया गया कि मामले की जांच कराकर दोषियों के विरुद्ध कार्रवाई की जाएगी।

राम मोहन गुप्ता