जयन्ती पर याद किये गये पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुरः भारत रत्न दिये जाने पर प्रसन्नता

जयन्ती पर याद किये गये पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुरः भारत रत्न दिये जाने पर प्रसन्नता

बस्ती - राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग मोर्चा द्वारा  बुधवार को ब्लाक रोड स्थित संगठन कार्यालय पर बिहार के पूर्व मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर को उनके 100 वीं जयन्ती पर याद  किया गया ।
सामाजिक कार्यकर्ता मुख्य अतिथि  रामतौल शर्मा  ने  कर्पूरी ठाकुर  को नमन् करते हुये कहा कि  कर्पूरी ठाकुर बिहार के पहले गैर-कांग्रेसी मुख्यमंत्री थे,  उन्होने अपने दो के कार्यकाल में जिस तरह की छाप बिहार के समाज पर छोड़ी है, वैसा दूसरा उदाहरण नहीं दिखता है। लम्बे समय से उन्हें भारत रत्न दिये जाने की मांग चल रही थी, केन्द्र सरकार ने कर्पूरी ठाकुर को भारत रत्न देने की मांग पूरा कर दिया जो स्वागत योग्य कदम है।  कहा कि कर्पूरी ठाकुर ने 1967 में पहली बार उपमुख्यमंत्री बनने पर अंग्रेजी की अनिवार्यता को खत्म किया,  इसके चलते उनकी आलोचना भी खूब हुई, लेकिन उन्होंने शिक्षा को आम लोगों तक पहुंचाया। उनका योगदान सदैव याद किया जायेगा।  राष्ट्रीय पिछड़ा वर्ग मोर्चा के जिला अध्यक्ष ठाकुर प्रेमनन्दबंशी ने कहा कि कर्पूरी ठाकुर 1952 की पहली विधानसभा चुनाव जीतने के बाद वे बिहार विधानसभा का चुनाव कभी नहीं हारे। बिहार के दो बार मुख्यमंत्री और दूसरे उप मुख्यमंत्री कर्पूरी ठाकुर की सादगी की खूब चर्चा होती है। उनकी सादगी के चर्चे पूरे देश में मशहूर थे। आजादी के बाद एक बार भी विधायक, विधान पार्षद बनकर लोग करोड़ों के मालिक हो जाते हैं। शहरों में उनके आवास बन जाते हैं। लेकिन, कर्पूरी ठाकुर उन तमाम लोगों से अलग थे।  जीवन पर्यंत राजनीति के उच्च मापदंड को बनाकर रखा। जिसमें, ईमानदारी और जनता के प्रति जवाबदेही को स्वीकार किया। ऐसे व्यक्तित्व से नई पीढी को प्रेरणा लेनी चाहिये।
मोर्चा मण्डल उपाध्यक्ष  राम सुमेर यादव ने कहा कि  17 फरवरी 1988 को कर्पूरी का निधन हुआ तो उत्तर प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री हेमवती नंदन बहुगुणा उनके गांव पहुंचे। समस्तीपुर के पितौंझिया गांव में जब हेमवती नंदन बहुगुणा पहुंचे तो उन्होंने घर की स्थिति देखी। उनकी आंखों से आंसू फूट पड़े। उन्होंने कहा कि दो बार का सीएम ने  अपने बच्चों के लिए घर तक नहीं बनवाया। ऐसे नेता बिरले ही होते हैं। आर.के. आरतियन ने कहा कि बिहार में जननायक कहे वाले कर्पूरी ठाकुर के राजनीतिक गुरु लोकनायक जय प्रकाश नारायण और राम मनोहर लोहिया रहे। उन्होने सहजता को जीवन में उतारा।
कर्पूरी ठाकुर को उनके 100 वीं जयन्ती पर याद करने वालों में हृदयराम गौतम, कृष्ण कुमार शर्मा, रामनरेश चौधरी, अनिल कुमार शर्मा, संतोष कुमार, लालमणि, जेपी शर्मा, राहुल शर्मा, संजय शर्मा , चंद्र प्रकाश गौतम,  अनिल गुप्ता आदि शामिल रहे। 5

Tags:

About The Author

Sarvesh Srivastava Picture

सर्वेष श्रीवास्तव, उत्तर प्रदेश के बस्ती जनपद के ब्यूरो प्रमुख

Latest News