अक्षय तृतीया पर सौ साल बाद बन रहा गजकेसरी महायोग

अक्षय तृतीया पर सौ साल बाद बन रहा गजकेसरी महायोग

महोबा। पावन पर्व अक्षय तृतीया का त्योहार आज शुभ योग में मनाया जाएगा। दान पुण्य का विशेष महत्व रखने वाला यह त्यौहार सौ वर्ष बाद गजकेसरी राजयोग लेकर आ रहा है। इस दिन दान पुण्य से लेकर सोना खरीदने की परंपरा है। गुरु और शुक्र अस्त होने से इस बार विवाह के लिए आज के दिन अक्षय तृतीया पर कोई योग नहीं है।जनपद मुख्यालय अति प्राचीन मंदिर पड़ाव वाले हनुमान जी मंदिर के महंत पंडित वीरेंद्र कुमार शुक्ला बताते हैं कि इस बार अक्षय तृतीया सौ साल बाद गजकेसरी योग के साथ आ रही है जो कि बहुत शुभ है। गजकेसरी राजयोग है। जो सुख, शांति और समृद्धि का प्रतीक है। अक्षय तृतीया पर दान के समय जल से भरा कलश, खड़ाऊं, चावल, नमक, घी, चीनी, फल, वस्त्र ब्राह्मण को दक्षिणा का दान विशेष पुण्यकारी माना जाता है।

आज के दिन अक्षय तृतीया पावन पर्व पर सुबह 10:30 से 12 बजे के बीच राहुकाल रहेगा, इसलिए इस बीच खरीदारी करने से बचें।इस बार शुक्रवार के दिन अक्षय तृतीया का पावन पर्व है। शुक्रवार मां लक्ष्मी का दिन है। कार्य सफलता के ग्रह चंद्रमा अपनी उच्च राशि वृष में भी रहेंगे और वृष राशि में चंद्रमा और बृहस्पति एक साथ होने से महा शुभ गजकेसरी योग बनेगा। इसलिए सोना-चांदी, वाहन, गृह, संपत्ति शुभ मुहूर्त के लिए यह सबसे पुनीत अवसर है।जनपद मुख्यालय के आलमपुरा निवासी पंडित सत्यव्रत चतुर्वेदी बताते हैं कि पावन पर्व अक्षय तृतीया पर्व पर यदि आप सोना-चांदी नहीं ले सकते हैं तो पांच गांठहल्दी की, सात तरह का अनाज, कोई भी धार्मिक पुस्तक, जपमाला, भगवान के वस्त्र, मोर पंख, ठाकुर जी की बांसुरी आदि खरीद सकते हैं। इसके साथ ही फल, सब्जी, अनाज आदि का दान भी कर सकते हैं। इन सबका भी बड़ा महत्व है।

Tags: Mahoba

About The Author

Related Posts

Latest News

मध्‍यप्रदेश के 20 जिलों में आज तेज बारिश की संभावना, बड़ा तालाब में बढ़ा जलस्‍तर मध्‍यप्रदेश के 20 जिलों में आज तेज बारिश की संभावना, बड़ा तालाब में बढ़ा जलस्‍तर
भोपाल। राजधानी भोपाल समेत प्रदेश के कई जिलों में बारिश का सिलसिला जारी है। भोपाल शहर में रविवार सुबह फुहारें...
 21 जुलाई के बाद स्मार्ट मीटर होंगे प्रीपेड
मुंबई में भारी बारिश से कई इलाकों में जलभराव, पश्चिम रेलवे यातायात बाधित
 मुख्यमंत्री साय आज जशपुर जिला के दाैरे पर
नेपाल बस दुर्घटना : तीन दिनों में सिर्फ 5 शव बरामद, हादसे के बाद कुल 65 लोग हुए थे लापता
नेपाल से प्रतिदिन 800 मेगावाट से अधिक बिजली खरीद रहा भारत
खुद के सम्मान का मार्ग प्रशस्त करना हो तो दूसरों को सम्मान दीजिए : सोनल नागर