उपद्रव में शामिल थे चार जिले के युवा

कैमूर: सरकार द्वारा बनाई गई अग्निपथ योजना के विरोध में बीते 16 जून को पंडित दीनदयाल उपाध्याय-गया रेल खंड पर अवस्थित भभुआ रोड स्टेशन पर आगजनी, तोड़फोड़ एवं पुलिस पर पथराव की घटना को याद कर आज भी लोग सिहर जा रहे हैं। कई यात्रियों को जान बचाकर भागना पड़ा था। उपद्रवियों ने प्लेटफार्म पर लगे सीसीटीवी कैमरे, कोच डिस्प्ले बोर्ड पानी को ठंडा करने वाले उपकरणों को नष्ट कर दिया था। जीआरपी थाना परिसर में जब्त कर रखी गई एक दर्जन बाइकों, इंवर्टर, बैटरी व अन्य सामान को रेल ट्रैक पर फेंक दिया था। प्लेटफार्म पर खड़ी भभुआ रोड आरा पटना इंटरसिटी एक्सप्रेस की दो बोगियों में आग लगा दी।

उपद्रवियों के जानलेवा हमले में मोहनियां थाना के एक एसआइ व एक सिपाही का सिर फट गया था। स्थिति अनियंत्रित होते देख पुलिस ने आंसू गैस के गोले दागने पड़े। इसके बाद लाठीचार्ज करना पड़ा। इस घटना को अंजाम देने में कैमूर, रोहतास, भोजपुर व बक्सर के उपद्रवी शामिल थे। इस दौरान पुलिस ने 22 उपद्रवियों को गिरफ्तार किया था। जिसमें कैमूर जिला के 16, रोहतास के तीन, भोजपुर के दो एवं बक्सर के एक व्यक्ति का नाम शामिल है। इनके व साढ़े तीन सौ अज्ञात के खिलाफ रेल थाना सासाराम में प्राथमिकी दर्ज की गई है। इन पर सरकारी संपत्ति को नुकसान पहुंचाने, पुलिस पर जानलेवा हमला करने का आरोप है। 22 नामजद में दो किशोर भी शामिल है। जिनकी उम्र 15 साल है। आश्चर्य की बात है की सेना भर्ती भर्ती के लिए बने अग्निपथ योजना में शामिल होने वाले अग्निवीरों की उम्र सीमा साढ़े 17 वर्ष से 21 वर्ष निर्धारित की गई है।

See also  डीपीएस में राखी प्रतियोगिता का आयोजन,छात्रों ने रंग-बिरंगी राखियां बनाकर प्रतिभा निखारा

गिरफ्तार उपद्रवियों में 18 से 20 वर्ष उम्र के 12 , 21 से 25 वर्ष की उम्र के सात एवं 40 वर्ष का एक व्यक्ति शामिल है। उपद्रवियों पर जिन धाराओं में प्राथमिकी दर्ज गई है अगर पुलिस न्यायालय में इसको साबित करती है तो इनके भविष्य पर प्रश्नचिन्ह लग सकता है। आरोपितों को एक माह से लेकर अधिकतम 10 वर्ष की सजा हो सकती है। इसके बाद इनके सरकारी नौकरी में जाने का सपना अधूरा रह जाएगा। मोहनियां के डीएसपी फैज अहमद ने बताया की भभुआ रोड स्टेशन पर बवाल मामले में 22 नामजद और साढ़े तीन सौ अज्ञात उपद्रवियों के खिलाफ धारा 147, 148, 149, 353, 447, 307, 323, 324, 332, 333, 424, 453, आईपीसी तथा 147, 150, 152, 153, 154, 174 इंडियन रेलवे एक्ट के तहत स्टेशन अधीक्षक ने रेल थाना में प्राथमिकी दर्ज कराई है।