न्याय विभाग के उ0प्र0 नोटरी प्रबन्धन प्रणाली की वेबसाइट लाॅन्च

मुख्यमंत्री ने उ0प्र0 के 04 शहरों में भी जी-20 से जुड़े

आयोजनों के लिए प्रधानमंत्री का आभार व्यक्त किया

लखनऊ: उत्तर प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनन्दीबेन पटेल जी तथा मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ विभाग, पर्यटन विभाग, सूचना एवं जनसम्पर्क विभाग तथा जिला प्रशासन लखनऊ द्वारा यह समारोह आयोजित किया गया।

समारोह को सम्बोधित करते हुए राज्यपाल ने कहा कि उत्तर प्रदेश का विश्व में एक गौरवपूर्ण स्थान है। प्रदेश ने आजादी की लड़ाई अगली पंक्ति में रहकर लड़ी। यह सांस्कृतिक विरासत में विस्तृत और बहुआयामी प्रदेश है। उत्तर प्रदेश को देश की हृदयस्थली कहा जाता है। प्रदेश की विशेषता है कि यहां का प्रत्येक जनपद अपने किसी न किसी विशेष उत्पाद एवं शिल्प कला के लिए जाना जाता है। प्रदेश सरकार इसको प्रोत्साहित भी कर रही है। आज प्रदेश अपने प्राचीन गौरव को बनाये रखने के साथ विकास के नये आयाम स्थापित कर रहा है।

राज्यपाल ने कहा कि आज प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी जी एवं मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की सरकार संस्कृति, अध्यात्म और धर्म की पावन भूमि उत्तर प्रदेश के विकास और जनता के कल्याण के लिए निरन्तर सेवाभाव से काम कर रही है। मुख्यमंत्री जी के नेतृत्व में राज्य सरकार अलग-अलग क्षेत्र में नीतियां एवं योजनाएं बनाकर कार्य कर रही है।

इसके पूर्व, समारोह को सम्बोधित करते हुए उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने कहा कि यह हमारे लिए गौरव की बात है कि हमें लोकतंत्र की जननी कहे जाने वाले दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत में जन्म लेने का सौभाग्य प्राप्त हुआ। महाभारत में उल्लेख है कि ‘दुर्लभं भारते जन्म मानुष्यं तत्र दुर्लभम्’। भारत में जन्म लेना कठिन है, वहीं मनुष्य के रूप में जन्म लेना और भी दुर्लभ है। उत्तर प्रदेश को भारत की आत्मा कहा जाता है। ऐसे राज्य में जन्म लेना सभी के लिए गौरव की बात होनी चाहिए।

मुख्यमंत्री ने कहा कि उत्तर प्रदेश भारत की आध्यात्मिक तथा सांस्कृतिक विरासत का प्रतिनिधित्व करता है। यह राज्य बाबा विश्वनाथ की भूमि, मर्यादा पुरुषोत्तम भगवान श्रीराम की जन्मभूमि, लीलाधारी भगवान श्रीकृष्ण की पावन जन्मभूमि तथा लीलाभूमि, मां गंगा, यमुना, सरस्वती के पवित्र संगम प्रयागराज एवं तथागत गौतमबुद्ध की पावन भूमि का प्रदेश है। ऋषि-मुनियों तथा भारत की वैदिक परम्परा से लेकर देश की आजादी की लड़ाई में और आधुनिक भारत के निर्माण में अग्रणी भूमिका का निर्वहन करने वाला उत्तर प्रदेश आज अपना 74वां स्थापना दिवस का कार्यक्रम उत्साह व उमंग के साथ आयोजित कर रहा है।

See also  यूपी जोड़ो सदस्यता अभियान कार्यक्रम 15 दिन बढ़ाया

मुख्यमंत्री ने कहा कि हम देश की आजादी का अमृत महोत्सव मना रहे हैं। देश के प्रथम स्वातंत्र्य समर का केन्द्र बिन्दु उत्तर प्रदेश बना था। बैरकपुर में मंगल पाण्डे द्वारा क्रान्ति का उद्घोष किया गया था, जिसे रानी लक्ष्मीबाई ने झांसी में नए तेज के साथ आगे बढ़ाने का कार्य किया था। गोरखपुर में बंधूसिंह तथा मेरठ में धनसिंह कोतवाल के नेतृत्व में आजादी के आन्दोलन हुए थे। प्रदेश के सभी जनपद एवं कस्बे आजादी के आन्दोलन के साथ जुड़े थे। उत्तर प्रदेश की चैरी-चैरा तथा लखनऊ की काकोरी टेªन ऐक्शन की घटना आजादी की लड़ाई के गवाह हैं। प्रदेश अनगिनत स्वतंत्रता संग्राम सेनानियों तथा बलिदानियों की भूमि है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि भारत के वैदिक ज्ञान की आधारभूमि सीतापुर का नैमिषारण्य प्रदेश में ही है। हमारे पास सब कुछ है, लेकिन उसे गौरव व गरिमा के साथ आगे बढ़ाने के लिए जिस उत्साह, उमंग, नेतृत्व तथा मार्गदर्शन की आवश्यकता थी, आधुनिक भारत में उसका अभाव था। हम सब प्रधानमंत्री जी के आभारी हैं कि उन्होंने हमें इन बातों की अनुभूति करायी। आज उत्तर प्रदेश उठ खड़ा हुआ है और आगे बढ़ रहा है। उत्तर प्रदेश की स्थापना का यह दिवस अपने गौरव व गरिमा को लेकर आगे बढ़ रहा है। हम सभी उत्तर प्रदेश की राज्यपाल श्रीमती आनन्दीबेन पटेल जी के भी आभारी हैं, जिनके मार्गदर्शन में उत्तर प्रदेश आज विकास की नयी ऊँचाइयों की ओर बढ़ रहा है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि वर्ष 2017 में प्रधानमंत्री जी के मार्गदर्शन में प्रदेश में डबल इंजन की सरकार बनी थी। प्रदेश के तत्कालीन राज्यपाल श्री राम नाईक जी ने मुझसे उत्तर प्रदेश दिवस के आयोजन के सम्बन्ध में पहल करने के लिए कहा था। जनवरी, 2018 में श्री राम नाईक जी की पहल पर भव्यता के साथ ‘उत्तर प्रदेश दिवस’ का आयोजन किया गया था। पहले स्थापना दिवस के अवसर पर प्रदेश में ‘एक जनपद, एक उत्पाद’ (ओ0डी0ओ0पी0) योजना की शुरुआत की गयी थी। आज यहां प्रदेश के हस्तशिल्पियों, कारीगरों तथा परम्परागत उद्यमियों ने अपनी प्रतिभा को कला व कौशल के साथ आगे बढ़ाने का कार्य किया है। यहां उनके उत्पादों की प्रदर्शनी का महामहिम राज्यपाल के साथ मैंने अवलोकन किया है। आज ओ0डी0ओ0पी0 योजना ने उत्तर प्रदेश के निर्यात को दोगुना किया है। वर्ष 2017 से पूर्व प्रदेश दंगों व अपराध के गढ़ के रूप में जाना जाता था। आज वही निर्यात के हब के रूप में विख्यात हो रहा है। यह नये उत्तर प्रदेश की कहानी कहता है। इसी कहानी से जुड़ने हम यहां आये हैं।